Hindi News »Rajasthan »Dungarpur» तालाब सूखे, हैंडपंपों में पानी का लेवल गिरा, विभाग का दावा- नहीं है किल्लत

तालाब सूखे, हैंडपंपों में पानी का लेवल गिरा, विभाग का दावा- नहीं है किल्लत

जिले में इन दिनों 43 डिग्री से ज्यादा का तापमान है। करीब-करीब सभी जलाशय सूख गए हैं या फिर सूखने के कगार पर हैं।...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 03:00 AM IST

तालाब सूखे, हैंडपंपों में पानी का लेवल गिरा, विभाग का दावा- नहीं है किल्लत
जिले में इन दिनों 43 डिग्री से ज्यादा का तापमान है। करीब-करीब सभी जलाशय सूख गए हैं या फिर सूखने के कगार पर हैं। हैंडपंप में पानी का लेवल भी नीचे गिरा हुआ है, लेकिन पीएचईडी का दावा है कि अभी तक कहीं भी पानी की किल्लत नहीं है और न ही टैंकर से सप्लाई की डिमांड आई है।

हकीकत यह है कि ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की किल्लत है और भूमिगत जल का लेवल भी काफी नीचे गिरा हुआ है। इसके बावजूद कहीं से भी डिमांड नहीं आना यह विभागीय लापरवाही है या फिर स्थानीय स्तर पर ग्राम पंचायतों की ओर से प्रस्ताव नहीं भेजना है। दूसरी ओर, पंचायतीराज की ओर से भी अभी तक डिमांड नहीं भेजी गई है, पहले से ही यह निर्देश दिए गए हैं कि पानी की कमी महसूस हो तो वहां पर पानी की डिमांड भेजकर टैंकर से पानी की व्यवस्था की जाए। दूसरी ओर, राज्य सरकार की ओर से एकमात्र ब्लॉक बिछीवाड़ा को सूखा क्षेत्र घोषित किया है। जहां की 23 ग्राम पंचायतों को सूखाग्रस्त माना गया है, जहां पर पानी की किल्लत और आवश्यक संसाधनों के लिए दो माह तक काम किया जाएगा। हैरानी की बात तो यह है कि बिछीवाड़ा से भी कोई मांग पत्र प्रशासन और पीएचईडी के पास नहीं आया है।

डूंगरपुर. लोलकपुर में जल संकट में ग्रामीण महिलाएं पानी लाते हुए।

इस प्रकार होती है डिमांड : जिले में क्षेत्र, फले, मोहल्ले और कॉलोनी में जलदाय विभाग की पेयजल योजना के तहत पाइप लाइन की व्यवस्था नहीं हो, उसी क्षेत्र में हैंडपंप सूखा हो चुका है। इसमें अधिकतम लॉरिंग (पाइप) लगा दिए गए हों, ऐसी स्थिति में उस क्षेत्र में टैंकर से सप्लाई देने का प्रावधान होता है।

दस ब्लॉक के लिए हमने सारी तैयारी कर रखी है। भूमिगत जल स्तर भी ठीक है। किसी भी जगह से पेयजल संकट के हिसाब से टैंकर लगाने का ऑर्डर प्राप्त नहीं हुआ है। -जयंतीलाल मोची, एक्सईएन जलदाय विभाग डूंगरपुर

यहां तो हालात ही खराब हैं

लोलकपुर : लोलकपुर ग्राम पंचायत में पानी की समस्या है। यहां चारों ओर पहाड़ी है और लोग कुएं से पानी भरते हैं। जान जोखिम में डालने के बाद 300 फीट गहरे कुएं से पानी निकाला जाता है।

घटाऊ : दोवड़ा पंचायत समिति के अधीन घटाऊ ग्राम पंचायत में भी यही स्थिति है। यहां पर भी लोग कुएं से पानी निकाल कर पीते हैं, लेकिन अब तक किसी भी जगह से डिमांड नहीं भेजी गई है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dungarpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×