छह किमी की पाइपलाइन के लिए मांगा 6 माह का समय, उखड़े मंत्री और बोले- 3 माह में पूरा करो काम

Dungarpur News - जिला प्रभारी मंत्री अपने दो दिवसीय दौरे के पहले दिन गुरुवार को ईडीपी सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 08:05 AM IST
Dungarpur News - rajasthan news for six km pipeline demanded 6 months time uprooted minister and spoke complete in 3 months work
जिला प्रभारी मंत्री अपने दो दिवसीय दौरे के पहले दिन गुरुवार को ईडीपी सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक ली। जहां पर जलदाय विभाग के जवाबों से मंत्री नाखुश दिखे। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के एक वर्ष पूर्व शुरू होने के बावजूद पेयजल समस्या पर जानकारी मांगी तो अधिकारियों ने छह माह और समय मांगा। इस पर प्रभारी मंत्री ने मेडिकल कॉलेज की प्लानिंग पूछी तो पीएचईडी एसई वालचंद यादव ने बताया कि छह किमी. लम्बी पाइपलाइन खिंचनी है। इस पर मंत्री ने कहा कि छह किमी. लम्बी पाइपलाइन के लिए छह माह का समय चाहिए। ये कैसा सिस्टम है। इतने में तो 100 किमी. लाइन बिछ जाती है। इस पर अधिकारी ने कुंआ खोदकर पाइपलाइन ले जाने की बात कही। मंत्री ने कहा की कुंआ खोदने में पंद्रह दिन लगते है। अधिकारियों को लताड़ लगाते हुए तीन माह में काम पूरा करने का अल्टीमेट दिया। इससे पूर्व कलक्टर चेतन देवड़ा ने प्रभारी मंत्री यादव का स्वागत किया। जिले की प्रगति से अवगत कराया। बैठक में 21 विभागों की बिंदुवार समीक्षा की गई। बैठक में जिला कलक्टर चेतन देवड़ा, जिला पुलिस अधीक्षक शंकरदत्त शर्मा, सीईओ चांदमल वर्मा सहित समस्त अधिकारी गण मौजूद रहे।

प्रभारी मंत्री राजेंद्र यादव ने पहली मुलाकात में हर विभाग के अधिकारियों ने उनके कार्यालय में स्टॉफ की स्थिति में बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि रिक्त पदों के साथ बिल्डिंग और अन्य समस्याओं के बारे में पूछा। डिस्कॉम में तकनीकी कर्मचारी, शिक्षा विभाग में एलडीसी, चिकित्सा विभाग में कंप्यूटर दक्ष ऑपरेटर और अन्य विभाग ने रिक्त पदों के बारे में संपूर्ण जानकारी मांगी।

डूंगरपुर. प्रभारी मंत्री राजेंद्र यादव अधिकारियों की समीक्षा बैठक लेते हुए।

इतना त्वरित काम कैसे किया, मंगवाओं रजिस्टर

पीएचईडी विभाग निशाने पर ही रहा। मंत्री हैडपंपों की स्थिति और मरम्मत की शिकायत पर सवाल किया तो अधिकारी बोले कि समय पर शिकायतें निपटाई जा रही है। इस पर बोले, शिकायत रजिस्टर मंगवाओं। हम भी देखे कितनी निपटाई हैं। वहीं अभियंताओं की मासिक मीटिंग के बारे में पूछा तो बोला होती हैं। मंत्री ने इस पर भी बैठक रजिस्टर लाने को बोला। वहीं पूछा कि टंकियों की सफाई कब कराई तो अधिकारी बोले हर छह माह में करवा कर तारीख भी लिखते है। इस पर मंत्री ने कहा कि चुनाव के दौरान खूब टंकियां देखी, कहीं सफाई की तारीख नहीं थी। आज ही इसको ठीक करवाएं। कलेक्टर ने एंडवर्ड समंद के कम पानी की बात बताई। इस पर एसई ने बात को काटते हुए डिसल्टिंग के लिए बांध को सूखने की बात कही।

भास्कर संवाददाता|डूंगरपुर

जिला प्रभारी मंत्री अपने दो दिवसीय दौरे के पहले दिन गुरुवार को ईडीपी सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक ली। जहां पर जलदाय विभाग के जवाबों से मंत्री नाखुश दिखे। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के एक वर्ष पूर्व शुरू होने के बावजूद पेयजल समस्या पर जानकारी मांगी तो अधिकारियों ने छह माह और समय मांगा। इस पर प्रभारी मंत्री ने मेडिकल कॉलेज की प्लानिंग पूछी तो पीएचईडी एसई वालचंद यादव ने बताया कि छह किमी. लम्बी पाइपलाइन खिंचनी है। इस पर मंत्री ने कहा कि छह किमी. लम्बी पाइपलाइन के लिए छह माह का समय चाहिए। ये कैसा सिस्टम है। इतने में तो 100 किमी. लाइन बिछ जाती है। इस पर अधिकारी ने कुंआ खोदकर पाइपलाइन ले जाने की बात कही। मंत्री ने कहा की कुंआ खोदने में पंद्रह दिन लगते है। अधिकारियों को लताड़ लगाते हुए तीन माह में काम पूरा करने का अल्टीमेट दिया। इससे पूर्व कलक्टर चेतन देवड़ा ने प्रभारी मंत्री यादव का स्वागत किया। जिले की प्रगति से अवगत कराया। बैठक में 21 विभागों की बिंदुवार समीक्षा की गई। बैठक में जिला कलक्टर चेतन देवड़ा, जिला पुलिस अधीक्षक शंकरदत्त शर्मा, सीईओ चांदमल वर्मा सहित समस्त अधिकारी गण मौजूद रहे।

प्रभारी मंत्री राजेंद्र यादव ने पहली मुलाकात में हर विभाग के अधिकारियों ने उनके कार्यालय में स्टॉफ की स्थिति में बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि रिक्त पदों के साथ बिल्डिंग और अन्य समस्याओं के बारे में पूछा। डिस्कॉम में तकनीकी कर्मचारी, शिक्षा विभाग में एलडीसी, चिकित्सा विभाग में कंप्यूटर दक्ष ऑपरेटर और अन्य विभाग ने रिक्त पदों के बारे में संपूर्ण जानकारी मांगी।

बिजली-पानी सबसे अहम

प्रभारी मंत्री ने बिजली की सप्लाई को सुव्यस्थित करने की बात कही। वही जिले के 1200 स्कूलों में टीएडी मद से कनेक्शन देने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। डिस्कॉम के अधिकारियों से विद्युतीकरण समीक्षा की। साथ ही ट्रांसफार्मर में अर्थिंग, कंट्रोल रूम के बारे में दिशा-निर्देश दिए।

पशुपालन: बैठक के दौरान उन्होंने पशुपालन अधिकारी से जिले में पशुधन की स्थिति की जानकारी ली। अधिकारियों ने गायों से केवल एक लीटर दूध उत्पादन की भी जानकारी दी। जिस पर प्रभारी मंत्री यादव ने गायों की अच्छी नस्ल, अधिक दुध उत्पादन होने, पशुपालन के लिए बेहतर प्रयास हो सकें ऐसी योजना बनाने के निर्देश दिए।

कृषि विभाग: अधिकारी से जिले में खाद की उपलब्धता, ग्रीन हाउस, पम्प योजना सहित कृषि विभाग की अन्य योजनाओं की स्थिति की जानकारी ली। कृषि अधिकारी ने मक्का बीज मिनिकिट्स वितरण के लिए भी अनुरोध किया।

पुलिस: अधीक्षक शंकरदत्त शर्मा ने कानून एवं शांति व्यवस्था की जानकारी देते हुए बताया कि जिले में समरसता का माहौल है। प्रभारी मंत्री यादव ने हेलमेट लगाने के लिए आमजन को प्रेरित करने का अभियान चलाने की बात कही।

चिकित्सा: समीक्षा के दौरान मौसमी बीमारियों से निपटने के लिए पूरी तैयारी रखने, दवाईयों की पर्याप्त उपलब्धता रखने, गड्ढ़ों में दवाइयों का छिड़काव करने, राजकीय योजनाओं का पूरी तरह से क्रियान्वयन करने एवं आपदा स्थिति से निपटने को कहा।

जिला परिषद: मंत्री यादव ने बैठक में जिले में श्मशान घाटों की संख्या उनके आवंटन की स्थिति, किस नाम से है तथा जमीन आंवटित नही होने की स्थिति में प्रस्ताव बनाकर तत्काल भेजने के भी निर्देश प्रदान दिए।

भास्कर संवाददाता|डूंगरपुर

जिला प्रभारी मंत्री अपने दो दिवसीय दौरे के पहले दिन गुरुवार को ईडीपी सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक ली। जहां पर जलदाय विभाग के जवाबों से मंत्री नाखुश दिखे। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के एक वर्ष पूर्व शुरू होने के बावजूद पेयजल समस्या पर जानकारी मांगी तो अधिकारियों ने छह माह और समय मांगा। इस पर प्रभारी मंत्री ने मेडिकल कॉलेज की प्लानिंग पूछी तो पीएचईडी एसई वालचंद यादव ने बताया कि छह किमी. लम्बी पाइपलाइन खिंचनी है। इस पर मंत्री ने कहा कि छह किमी. लम्बी पाइपलाइन के लिए छह माह का समय चाहिए। ये कैसा सिस्टम है। इतने में तो 100 किमी. लाइन बिछ जाती है। इस पर अधिकारी ने कुंआ खोदकर पाइपलाइन ले जाने की बात कही। मंत्री ने कहा की कुंआ खोदने में पंद्रह दिन लगते है। अधिकारियों को लताड़ लगाते हुए तीन माह में काम पूरा करने का अल्टीमेट दिया। इससे पूर्व कलक्टर चेतन देवड़ा ने प्रभारी मंत्री यादव का स्वागत किया। जिले की प्रगति से अवगत कराया। बैठक में 21 विभागों की बिंदुवार समीक्षा की गई। बैठक में जिला कलक्टर चेतन देवड़ा, जिला पुलिस अधीक्षक शंकरदत्त शर्मा, सीईओ चांदमल वर्मा सहित समस्त अधिकारी गण मौजूद रहे।

प्रभारी मंत्री राजेंद्र यादव ने पहली मुलाकात में हर विभाग के अधिकारियों ने उनके कार्यालय में स्टॉफ की स्थिति में बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि रिक्त पदों के साथ बिल्डिंग और अन्य समस्याओं के बारे में पूछा। डिस्कॉम में तकनीकी कर्मचारी, शिक्षा विभाग में एलडीसी, चिकित्सा विभाग में कंप्यूटर दक्ष ऑपरेटर और अन्य विभाग ने रिक्त पदों के बारे में संपूर्ण जानकारी मांगी।

X
Dungarpur News - rajasthan news for six km pipeline demanded 6 months time uprooted minister and spoke complete in 3 months work
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना