सम्यक चरित्र के साथ अंतर्मन शुद्ध होना बहुत जरूरी- आचार्य

Dungarpur News - आत्मीय सुख के लिए सम्यक् दर्शन और सम्यक चरित्र के साथ ही अंतर्मन शुद्ध होना बहुत जरूरी है। जिसने आत्म स्वरूप को...

Bhaskar News Network

Aug 20, 2019, 12:15 PM IST
Sagwara News - rajasthan news it is very important to be pure inward with right character acharya
आत्मीय सुख के लिए सम्यक् दर्शन और सम्यक चरित्र के साथ ही अंतर्मन शुद्ध होना बहुत जरूरी है। जिसने आत्म स्वरूप को पहचान लिया उसका इस भव सागर से बेड़ा पार हो जाएगा। यह बात आचार्य सुनील सागर महाराज ने सोमवार को ऋषभ वाटिका स्थित सन्मति समवशरण सभागार में प्रवचन में कही। आचार्य ने कहा कि आज कल विश्व फोटोग्राफी डे मनाया जाता है और सेल्फी लेने का क्रेज बढ़ रहा है, तो फिर पाप और पुण्य में व कर्मों की सेल्फी में स्वार्थ के नहीं परमार्थ के फोटो भी होने चाहिए। सेल्फी फोटो लेते वक्त एक बार मुस्कुरा देने से काम नहीं चलेगा बल्कि ज्ञान प्राप्त कर जीवन भर मुस्कराना ज्यादा अच्छा रहेगा। आचार्य ने कहा कि भगवान आदिनाथ ने कला, विद्या और वाणिज्य के ज्ञान का उदय किया, कला का स्थान हमेशा से ऊंचा रहता आया है। पुरानी विधाओं के साथ चित्रकार और शिल्पकारों का महत्व आज भी प्राचीन सभ्यता में देखने मिलता है, जो मानव जीवन को नई दिशा प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में भी फोटो लेना कला है मगर इसके बढ़ते हुए कुप्रभाव एवं ख़तरनाक मंसुबों से सावचेत रहना होगा। आचार्य ने कहा कि जीवन में कैसे भी रहो मगर आत्म सुख का अनुभव करना ही श्रेष्ठ जीवन है। इसके लिए बढ़ती आकांक्षाओं और इच्छाओं पर बंदिश लगाना जरूरी है। क्योंकि इस जन्म के कर्मों का परिणाम इसी जीवन में भोगना पड़ेगा, पाप और पुण्य के कर्मों का उदय यहीं पर होगा। उन्होंने कहा कि आध्यात्मिक ज्ञान ही अनंत सुख प्रदान करता है। इसलिए प्रभु भक्ति और आत्मा-परमात्मा की अनुभूति से बहुत कुछ प्राप्त किया जा सकता है। प्रारंभ में धर्म सभा को क्षुल्लक सुमित्र सागर महाराज ने संबोधित कर कहा कि गुरु ही गोविंद है। पाप से दूर करने वाला गुरु सदैव पूजनीय होता है। गुरु पुण्य को जागृत करते हुए अज्ञानता के अंधेरे से ज्ञान की ओर ले जाते हैं। मंगलाचरण पलक जैन ने किया। चंद्रशेखर संघवी ने मुक्तक के माध्यम से अपने गुरु भक्ति के भाव प्रकट किए। आचार्य का पाद प्रक्षालन महेंद्र मांगीलाल हुंडावत परिवार उदयपुर ने किया। सकल दिगंबर जैन समाज ने बाहर से आए भक्तों का स्वागत किया। संचालन समाज ट्रस्टी नरेंद्र कुमार खोडनिया ने किया।

धर्म समाज संस्था

आचार्य सुनील सागर महाराज।

X
Sagwara News - rajasthan news it is very important to be pure inward with right character acharya
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना