पैंथर ने झपट्‌टा मारकर बसंत की गर्दन पकड़ ली, वालचंद ने पूंछ पकड़कर फेंका

Dungarpur News - सोमवार रात को डेढ़ घंटे के दौरान दो जगहों पर हमला कर तीन लोगों को घायल करने वाले पैंथर का दूसरे दिन भी पता नहीं चला...

Dec 04, 2019, 09:25 AM IST
सोमवार रात को डेढ़ घंटे के दौरान दो जगहों पर हमला कर तीन लोगों को घायल करने वाले पैंथर का दूसरे दिन भी पता नहीं चला है। इसकी तलाश में वन विभाग के साथ ही पुलिस और ग्रामीणों की टीमें भी लगी हुई। सोमवार रात को कोलखंडा पाल के फला पुनेला में घर के बाहर ललित परमार नामक युवक पर तथा पुनाली से कोलखंडा आते समय रास्ते में बाइक सवार होमगार्ड वालचंद परमार और बसंत परमार पर पैंथर ने हमला किया था। इसमें तीनों घायल हो गए थे। प्रथम दृष्ट्या हमला करने वाले पैंथर की उम्र करीब दो से ढाई साल के बीच की बताई जा रही है। इस कारण इसका वजन भी 20 से 30 किलो के बीच था। हमले में घायल होमगार्ड वालंचद परमार ने बताया कि वे किसी काम से जा रहे थे कि अचानक झाड़ियों से निकल कर पैंथर ने हमला कर दिया। उसके पीछे बसंत परमार बैठा था। पैंथर ने उसके गर्दन को अपने जबड़े में पकड़ा, अचानक हमले के चलते बाइक का संतुलन भी बिगड़ गया और वे गिर गए। इसी बीच पैंथर ने बसंत पर फिर हमले का प्रयास किया तो उसने उसकी पूंछ पकड़ कर उसे दूर फेंक दिया। साथ ही दोनों ने शोर मचाना शुरू कर दिया। कुछ ही देर में आसपास में रहने वाले भी वहां पहुंच गए। हल्ला सुनकर पैंथर भी वहां से भाग गया और बसंत और वालचंद की जान बच गई। पैंथर बसंत की पीठ पर भी अपना पंजा गाड़ दिया था।

मंगलवार को वन विभाग अधिकारियों से सुबह पैंथर के हमले में घायल तीनों जनों की अस्पताल पहुंचकर कुशलक्षेम जानी तथा क्षेत्र में पैंथर को पकडऩे के लिए उसकी ट्रेसिंग शुरू कर दी है। वन विभाग की टीम क्षेत्र में सर्चिंग कर रही है। इस घटना के बाद से ग्रामीणों में सुरक्षा को लेकर भय का माहौल बन गया है।

ग्रामीण दिनभर दहशतजदा रहे तथा लाठी-डंडा हाथ में लेकर घूमते देखे गए वहीं बच्चे व महिलाओं ने घर के अंदर ही रहना उचित समझा। कुछ ग्रामीणों ने तो अपने बच्चों को सुरक्षा की दृष्टि से स्कूल और खेतों में नहीं भेजा।

वालचंद परमार।

अस्पताल में घायलों से चर्चा करते एसीएफ गर्ग व अन्य कर्मचारी।

कोलखंडा पाल में इस तरह ही यह पहली घटना : एसीएफ

एसीएफ प्रशांत गर्ग ने बताया कि आंतरी वन रेंज के कोलखंडा पाल में पैंथर के हमले की यह पहली घटना है। हालांकि यह क्षेत्र जंगली होने के साथ पैंथर की मौजूदगी तो है लेकिन इंसान व मवेशियों पर हमले की घटना आज तक नहीं हुई थी। पैंथर को पकडऩे के प्रयास शुरू कर दिए हैं पीएचसी के मेलनर्स कुनाल साद ने बताया कि उनके क्षेत्र में पैंथर बाइट का पहला केस आया है। तीनों घायलों को संक्रमण को देखते हुए वैक्सीन और सीरम का एंटी डोज दिया गया है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना