पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Dungarpur News Rajasthan News People Flocked To The Dance The Roar Of Embers Increased The Thrill

गेर नृत्य पर झूमे लोग, अंगारों की राड़ ने बढ़ाया रोमांच

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

वागड़ में होलिका दहन के दिन से शुरू हुई होली की मस्ती बुधवार को भी जारी रही। कई जगह अलग-अलग तरीकों से होली खेली गई। वहीं स्नेह मिलन के माध्यम से एक दूसरे को होली की बधाई दी। गांव और शहर मे ंडीजे और गांवों में डोल और थाप व कुंडी की झनकार पर थिरकते युवक-युवतियां के कदमों का उत्साह देखते ही बनता है। परंपरागत रूप से ढूंढोत्सव की परंपराह का निर्वहन भी किया गया। जनता ने अबीर और गुलाल से सूखी होली मनाई।

नगर परिषद का चंग नृत्य : नगर परिषद की ओर से गेपसागर की चंग नृत्य का आयोजन रखा। सभापति केके गुप्ता ने नवाचार करते हुए शहर के समस्त होली चौक पर लौंग, इलायची, जावन्त्री के फूल, नारियल और कपूर वितरित किया। होलिका दहन के साथ शहर का पर्यावरण शुद्ध हुआ। डूंगर बरंडा एवं धनमाता विकास समिति की ओर से होली दहन किया। समिति के महामंत्री भंवर बरंडा ने बताया कि 15 मार्च को आदिवासी भील समाज का होली स्नेह मिलन समारोह एवं गेर का आयोजन होगा।

सरोदा। कस्बे के होली चौक पर पारंपरिक तरीके से होलिका दहन किया गोपाल चौक पर गैर नृत्य हुआ। शाम को होली चौक पर सामूहिक रूप से ढूंढोत्सव हुआ। धुलंडी के दिन सुबह से महिलाओं और पुरुषों की अलग-अलग टोलियां बनाकर धुलंडी खेलते हुए नजर आए।

पीठ। क्षेत्र में धोधरा, भचढिय़ा, बाकडा, रामसोर, कनबा, पूनावाडा, झरनी भंड़ारी, सरथुना, गेलन राजपुर आदि गांवों में ढूंढोउत्सव के साथ युवाओं ने रंगों से होली मनाई गई।

बांसिया। रावले में सर्वसमाज की बैठक हुई। जिसमें होली के रीति रिवाज पर प्रकाश डाला प्रसादी वितरण भी हुआ। गोविंद गुरु की जन्म स्थली बंजारा टांडा में गेर नृत्य खेला गया।

पाडवा। क्षेत्र के ओडा, पाडवा, पा पादरा, भासोर, गामड़ी देवकी, अखेपुर सहित आसपास गांवों में कंडो की राड, मिलन समारोह, एवं ढूंढोत्सव मनाया गया।

ओबरी। गांव में पुतला पंचमी पर शौर्य प्रदर्शन के लिए तैयारी शुरू कर दी। पंचमी उत्सव समिति के सचिव अमरसिंह चौहान ने बताया कि शुक्रवार को पंचमी दिन शाम को पुतला पंचमी बनाई जाएगी। इसी दिन मेला और गैर नृत्य का आयोजन होगा। त्योहार को धूमधाम के साथ मनान के लिए तैयारी चल रही है।

सागवाड़ा। कटारवाड़ा में मुख्य मार्ग पर युवाओं ने कंडों की राड खेली। टामटिया में ग्रामीणों ने चौक पर 50 ढ़ोल और 100 से ज्यादा कुंडियां एक ताल में बजाई। नगर के जूना मंदिर के पास आदिवासी युवक-युवतियों ने गैर नृत्य किया। टामटिया में होली चौक पर पाटीदार और ब्राह्मण समाज द्वारा होली दहन के दूसरे दिन मंगलवार को ग्रामीणों ने चौक पर 50 ढ़ोल और 100 से ज्यादा कुंडियां एक ताल में बजाई। मांडवी चौक स्थित चारभूजानाथ मंदिर में नेमा महिला मंडल ने फाल्गूनी गीत व भजनों गाकर उल्लास के साथ होली मनाई। भगवान चारभूजानाथ की प्रतिमा के चरणों में गुलाल अर्पित कर श्रद्धालुओं को गुलाल का तिलक लगाया।

साडि़जी के दर्शन कर मांगी मन्नत: नगर में होली को लेकर वर्षों से चली आ रही परंपरा के तहत पोल का कोठा व पूजारवाड़ा में एक निश्चित स्थान पर युवाओं ने मिट्टी की साडिय़ाजी की प्रतिमाएं बनाई। इनका नव विवाहित जोडों सहित नागरिकों ने दर्शन-पूजन कर संतान प्राप्ति व संतान के दीर्घायु की कामना

पादरड़ीबड़ी। पादरड़ी बड़ी कस्बे के चार धाम चौक पर मंगलवार को गढ़ भेदन हुआ। इस अवसर पर मंदिर परिसर में महिलाओं की ओर से होली गीत गा कर घूमर व गरबा नृत्य किया।

बिछीवाड़ा। चुंडावाड़ा के रावले में गेर नृत्य मेला का आयोजन हुआ। पिंडावल।

गणेशपुर। गड़ाभाभा गांव में 10 वर्ष के बाद गेर नृत्य आयोजन हुआ।

सीमलवाड़ा। कस्बे में होली व धुलेंडी का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। होली पर पाटीदार समाज में संतान प्राप्ति के लिए बरसाें से चली आ रही परंपरा का निर्वाहन किया गया। इस दौरान गांव के युवा बुजूर्ग महिलाएं का समूह ढोल नगाड़ों के साथ पूरे गांव में भ्रमण करते हुए गोट एकत्रित करते है। इस दौरान निसंतान दंपति घर के छत पर पांच युवक चढ़कर ढोल बजाते है। मान्यता के अनुसार निदंपति घर के छत पर चढ़कर ढोल बजाने से भगवान खुश होते है।

करावाड़ा। कस्बे सहित आसपास के गांव व फलों में शुभमुहूर्त में होली का दहन किया गया। दूसरे दिन सर्व समाज के लोगों ने ढूंढोत्सव रस्म अदा की गई।

आसपुर। कस्बे सहित बडौदा, अमृतिया, रामगढ़, गणेशपुर, पारडा थुर, खलील, गडा कु हारिया, लीलवासा, मोवाई, बनकोड़ा, पूंजपुर, जसपुर, झापला में होली व धुलेंडी का पर्व मनाया गया।

गलियाकोट। गलियाकोट में कंडो की रांड का आयोजन सरपंच तुलसीराम मईडा की अध्यक्षता में किया गया। जिसमें डूंगरपुर, बांसवाड़ा, सागवाड़ा सहित वागड़ अंचल के सर्व समाज के लोगों ने भाग लिया। दो गुटों में बढ़कर एक दूसरे पर कंडे बरसाए। भीड़ एकत्रित रहे लोगों ने मेले का भी लुफ्त उठाया। गलियाकोट में हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी मेले का आयोजन हुआ। लोगों ने जमकर खरीददारी की। हर्ष वर्ष की भांति इस वर्ष भी चितरी में टमाटर की राड़ का आयोजन किया गया।

मोदपुरा स्थित विजवामाता मंदिर में गैर नृत्य 15 को

साबला। गांव मोदपुर शक्ति पीठ विजवामाता में 15 मार्च को आदिवासी समाज का तृतीय प्रदेश स्तरीय होली फसली उत्सव के रूप में स्नेह मिलन समारोह होगा। संरक्षक दिनेश खानन ने बताया कि कार्यक्रम में गेर नृत्य, धारुआ, पारम्परिक वेशभूषा प्रतियोगिता, महिला मटका दौड़ प्रतियोगिता होगी। सम्मेलन में आदिवासी कला, संस्कृति, लोक नृत्य को देखने के लिए लोग जुटेंगे।

एमएमबी ग्रुप ने किया रक्तदान


पिंडावल। होली पर गांव के भील बावड़ी पर गेर नृत्य खेलते हुए।

पुलिस कर्मियों ने खेली होली, ढोल की थाप पर नृत्य

सागवाड़ा. पूजारवाड़ा में मिट्टी की बनाई गई साडिय़ाजी की प्रतिमाएं।

डूंगरपुर। रंगोत्सव के दिन एमएमबी ग्रुप के सहयोग से पांच यूनिट रक्तदान किया गया। एम एम बी ग्रुप सदर नूर मोहम्मद मकरानी ने बताया कि पांच यूनिट रक्तदान करवा कर जरूरतमंद लोगों को जीवनदान में सहयोग किया। जिला रक्तदान संयोजक राजेन्द्र सेवक के सहयोग से ग्रुप के सदर नूर मोहम्मद मकरानी से संपर्क किया। जिस पर मकरानी ने पांच यूनिट रक्तदान करवा कर मरीजों को उपलब्ध कराया। रक्तदान करने वाले बुरहान मिठाईवाला, ताहा हुसैन, जितेन्द्र सोमानी, प्रवीण परमार, धनराज खराडी की ओर से मैडल पहनाया गया। डाक्टर मोहम्मद खूशनूद, राजेन्द्र सेवक, दिनेश सेवक, पदमेश गांधी, राहुल भारद्वाज, अनिल त्यागी, अब्बास, फिरोज खान मोजूद थे।

डूंगरपुर। एमएमबी ग्रुप के सहयेाग से रक्तदान करते हुए।

डूंगरपुर। ढोल बजाकर रंगोत्सव का आनंद लेते पुलिस कर्मी।

डूंगरपुर। होली के त्योहार के चलते पुलिस कर्मी कानून व शांति व्यवस्था बनाए रखने ड्यूटी में मुस्तैद रहे। बुधवार को पुलिस कर्मियों ने होली खेली। एक दूसरे का मुंह मीठा कराया। एक दूसरे को गुलाल लगा कर होली की शुभकामनाएं दी। इस दौरान ढोल बजाकर पुलिस कर्मियों ने नृत्य किया। पुलिस कर्मियों ने परंपरागत तरीके से नृत्य करते हुए होली का आनंद लिया। पुलिस कर्मियों ने थानाधिकारी को तिलक लगा कर होली की शुभकामनाएं दी।

डूंगरपुर। होली महोत्सव के तहत नगर परिषद की ओर से आयोजित चंग नृत्य में प्रस्तुति देते कलाकार।

गरियाता। होली पर्व पर सर्व समाज की ओर से बैठक करते हुए।

गलियाकोट. गांव में अंगारे से राड खेलते हुए।

सागवाड़ा. टामटिया में होली स्नेह मिलन कार्यक्रम में शामिल समजजन।


गलियाकोट। गेर खेलने के लिए पहुंचे कई गांवों से लोग।

सागवाड़ा. चारभूजानाथ मंदिर में भजन करती नेमा समाज की महिलाएं।

डूंगरपुर. होली महोत्सव के तहत चंग नृत्य करते कलाकार।

डूंगरपुर. सलाटवाड़े में सामूहिक ढढ़ोत्सव में पूजन करते हुए।
खबरें और भी हैं...