पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Dungarpur News Rajasthan News Prosperity Sought From Dasamata Immersion Of Mother Statues With Procession

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दशामाता से मांगी समृद्धि, मां की प्रतिमाओं का शोभायात्रा के साथ किया विसर्जन

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
घर परिवार की दशा सुधारने और खुशहाली की मंगल कामना को लेकर दस दिवसीय दशामाता का पर्व रविवार को समापन हो गया। शहर से लेकर गांवों में दशामाता की मूर्तियों के साथ गाजे-बाजे से शोभायात्रा निकाली और फिर जलाशयों में मूर्तियों का विसर्जन किया गया। शहर में भी अलग-अलग जगहों से शोभायात्राएं निकली और फिर गेपसागर, साबेला तालाब और दो नदी में आकर इन मूर्तियों का पूजन करते हुए आरती उतारी और प्रसाद वितरण के बाद माताजी के जयकारों से ही विसर्जन किया गया। दस दिवसीय दशामाता के अंतिम दिन शनिवार रात शहर में गलियों में डीजे की धुन पर भक्तिमय गीतों नाचते गाते गेपसागर की पाल पहुंचे। आसपास के ग्रामीणों क्षेत्रों से भी डीजे की धुन पर नाचते गाते ग्रामीण लोगो को आने क्रम रविवार सुबह तक जारी था। गेपसागर की पाल पहुंच कर ग्रामीणों ने गरबा रास खेले कर दशामाता मूर्तियों का विसर्जन किया। रविवार को सुबह ब्रहमुर्हत में विसर्जन को लेकर श्रद्धालुओं की भीड़ गेपसागर की पाल लगी। यहां पर महिलाओं ने शोभायात्रा निकालते हुए पाल पर माता की आरती की। इसके बाद युवाओं ने दशामाता मूर्तियों का विसर्जन किया। यह सुबह दस बजे तक चलता रहा।

बिछीवाड़ा| गांव बिछीवाड़ा मे दशामाता मंदिर मूर्तिका रविवार को विर्सजन किया गया। भक्त गणेश कलाल ने बताया कि दशामाता मंदिर पर मूर्ति प्रतिष्ठा की गई थी। पूजा अर्चना कर दशामाता व्रतधारियों ने गादीपति ममता बेन के सानिध्य मे शोभायात्रा निकाली। शोभायात्रा में केकेेेे पटेल, शांतिलाल कलाल, चद्र शेखर शर्मा, बसंत पटेल सहित व्रतधारी ओर भक्ततजन मौजूद थे।

गलियाकोट| जिले में पिछले दस दिनों से चल रहा दशामाता व्रत का रविवार को पूर्ण विराम लगा। अंतिम दिन सुबह से शाम तक माता की भक्ति में श्रद्धालु सुबह से डीजे की धुन पर दशामाता की मूर्ति की शोभायात्रा निकाली गई। युवक-युवतियां गरबा गीतों की धुन पर नाचते गाते हुए गांव के नदी, तालाबों में पहुंचे। जहां दशामाता की विधिवत पूजा अर्चना कर जलाशय में विसर्जन किया गया।

सीमलवाड़ा| कस्बे सहित आसपास के क्षेत्रों के गांवों में सुबह से ही सीमलवाड़ा गणेश सागर तालाब पर ग्रामीणों ने पूजा-अर्चना कर जिले में सुख समृद्धि और अच्छी बारिश की कामना के बाद दशामाता मूर्ति का विसर्जन किया। गणेश तालाब पर हजारों की संख्या में ग्रामीण मूर्तियां विसर्जन करने के लिए आते है। पंचायत की ओर से तालाब के आसपास किसी भी प्रकार की साफ-सफाई व रोशनी की कोई व्यवस्था नहीं होने के कारण कई लोगों का पैर फिसलने से चोटें भी लगी।

मूंगेड| दस दिवसीय दशामाता प्रतिमाओं का रविवार को मुंगेड गांव में धूमधाम के साथ विसर्जन किया। इससे पूर्व श्रद्धालुओं ने गाजे-बाजे के साथ पूरे गांव में शोभायात्रा निकाली गई। जो बाद में मूंगेड जेतुला तालाब पहुंच कर पूजा अर्चना कर विसर्जन किया गया।

करावाड़ा| दशामाता पर्व के अंतिम दिन रविवार को सुबह गांव में प्रतिमाओं का विसर्जन किया। करावाड़ा सहित आसपास के गांवों के लोगो बाजे-बाजे के तालाब के पास पहुंचे। जहां प्रतिमाओं को पूजा अर्चना करने के बाद विसर्जन किया गया।

गणेशपुर| आसपुर पंचायत समिति के गणेशपुर गांव के गड़ा भाभा में दशा माता की प्रतिमा का विसर्जन हुआ। महिलाओं ने गीत गाकर गरबा किया। इसके बाद पूजा आरती कर दशा मां का विसर्जन किया। इसी प्रकार देवसोमनाथ शिवालय के पास सोमनदी में बड़ी संख्या में दशा माता मूर्तियों का विसर्जन हुआ। इस अवसर पर पुलिस चौकी प्रभारी अमर सिंह, अर्जुनदास वैष्णव, मणीलाल यादव सहित ग्रामीण जन उपस्थित थे।

पाड़वा| दशा माता पर्व तहत रविवार को प्रतिमाओं का विर्सजन के साथ समापन हुआ। गांव में दशा माता प्रतिमा को पणीयारी तालाब में विसर्जन हुई।

पीठ| दशामाता मूर्ति का रविवार को विसर्जन हुआ। घर से बैंड बाजे के साथ सुबह तालाब में विसर्जन किया गया।

सरोदा| गांवों में दशा माता मूर्तियों की शोभायात्रा निकाल बेणेश्वरधाम विसर्जन किया।

दरियाटी| दस दिवसीय दशामाता कि पूर्णाहुति कर महिलाओं ने शनिवार को रात्रि जागरण किया। रविवार सुबह गाजे बाजे के साथ भादर नाले में पूजा अर्चना कर प्रतिमाओं का विसर्जन किया।

बांसीया| दशा माता प्रतिमाओं का रविवार को विसर्जन किया। दशा माता की प्रतिमा घर में स्थापित कर विशेष पूजा-अर्चना के बाद शोभायात्रा निकाल विसर्जन किया।

डूंगरपुर. दशामाता व्रत को लेकर निकाली गई शोभायात्रा।

भास्कर संवाददाता|डूंगरपुर

घर परिवार की दशा सुधारने और खुशहाली की मंगल कामना को लेकर दस दिवसीय दशामाता का पर्व रविवार को समापन हो गया। शहर से लेकर गांवों में दशामाता की मूर्तियों के साथ गाजे-बाजे से शोभायात्रा निकाली और फिर जलाशयों में मूर्तियों का विसर्जन किया गया। शहर में भी अलग-अलग जगहों से शोभायात्राएं निकली और फिर गेपसागर, साबेला तालाब और दो नदी में आकर इन मूर्तियों का पूजन करते हुए आरती उतारी और प्रसाद वितरण के बाद माताजी के जयकारों से ही विसर्जन किया गया। दस दिवसीय दशामाता के अंतिम दिन शनिवार रात शहर में गलियों में डीजे की धुन पर भक्तिमय गीतों नाचते गाते गेपसागर की पाल पहुंचे। आसपास के ग्रामीणों क्षेत्रों से भी डीजे की धुन पर नाचते गाते ग्रामीण लोगो को आने क्रम रविवार सुबह तक जारी था। गेपसागर की पाल पहुंच कर ग्रामीणों ने गरबा रास खेले कर दशामाता मूर्तियों का विसर्जन किया। रविवार को सुबह ब्रहमुर्हत में विसर्जन को लेकर श्रद्धालुओं की भीड़ गेपसागर की पाल लगी। यहां पर महिलाओं ने शोभायात्रा निकालते हुए पाल पर माता की आरती की। इसके बाद युवाओं ने दशामाता मूर्तियों का विसर्जन किया। यह सुबह दस बजे तक चलता रहा।

बिछीवाड़ा| गांव बिछीवाड़ा मे दशामाता मंदिर मूर्तिका रविवार को विर्सजन किया गया। भक्त गणेश कलाल ने बताया कि दशामाता मंदिर पर मूर्ति प्रतिष्ठा की गई थी। पूजा अर्चना कर दशामाता व्रतधारियों ने गादीपति ममता बेन के सानिध्य मे शोभायात्रा निकाली। शोभायात्रा में केकेेेे पटेल, शांतिलाल कलाल, चद्र शेखर शर्मा, बसंत पटेल सहित व्रतधारी ओर भक्ततजन मौजूद थे।

गलियाकोट| जिले में पिछले दस दिनों से चल रहा दशामाता व्रत का रविवार को पूर्ण विराम लगा। अंतिम दिन सुबह से शाम तक माता की भक्ति में श्रद्धालु सुबह से डीजे की धुन पर दशामाता की मूर्ति की शोभायात्रा निकाली गई। युवक-युवतियां गरबा गीतों की धुन पर नाचते गाते हुए गांव के नदी, तालाबों में पहुंचे। जहां दशामाता की विधिवत पूजा अर्चना कर जलाशय में विसर्जन किया गया।

सीमलवाड़ा| कस्बे सहित आसपास के क्षेत्रों के गांवों में सुबह से ही सीमलवाड़ा गणेश सागर तालाब पर ग्रामीणों ने पूजा-अर्चना कर जिले में सुख समृद्धि और अच्छी बारिश की कामना के बाद दशामाता मूर्ति का विसर्जन किया। गणेश तालाब पर हजारों की संख्या में ग्रामीण मूर्तियां विसर्जन करने के लिए आते है। पंचायत की ओर से तालाब के आसपास किसी भी प्रकार की साफ-सफाई व रोशनी की कोई व्यवस्था नहीं होने के कारण कई लोगों का पैर फिसलने से चोटें भी लगी।

मूंगेड| दस दिवसीय दशामाता प्रतिमाओं का रविवार को मुंगेड गांव में धूमधाम के साथ विसर्जन किया। इससे पूर्व श्रद्धालुओं ने गाजे-बाजे के साथ पूरे गांव में शोभायात्रा निकाली गई। जो बाद में मूंगेड जेतुला तालाब पहुंच कर पूजा अर्चना कर विसर्जन किया गया।

करावाड़ा| दशामाता पर्व के अंतिम दिन रविवार को सुबह गांव में प्रतिमाओं का विसर्जन किया। करावाड़ा सहित आसपास के गांवों के लोगो बाजे-बाजे के तालाब के पास पहुंचे। जहां प्रतिमाओं को पूजा अर्चना करने के बाद विसर्जन किया गया।

गणेशपुर| आसपुर पंचायत समिति के गणेशपुर गांव के गड़ा भाभा में दशा माता की प्रतिमा का विसर्जन हुआ। महिलाओं ने गीत गाकर गरबा किया। इसके बाद पूजा आरती कर दशा मां का विसर्जन किया। इसी प्रकार देवसोमनाथ शिवालय के पास सोमनदी में बड़ी संख्या में दशा माता मूर्तियों का विसर्जन हुआ। इस अवसर पर पुलिस चौकी प्रभारी अमर सिंह, अर्जुनदास वैष्णव, मणीलाल यादव सहित ग्रामीण जन उपस्थित थे।

पाड़वा| दशा माता पर्व तहत रविवार को प्रतिमाओं का विर्सजन के साथ समापन हुआ। गांव में दशा माता प्रतिमा को पणीयारी तालाब में विसर्जन हुई।

पीठ| दशामाता मूर्ति का रविवार को विसर्जन हुआ। घर से बैंड बाजे के साथ सुबह तालाब में विसर्जन किया गया।

सरोदा| गांवों में दशा माता मूर्तियों की शोभायात्रा निकाल बेणेश्वरधाम विसर्जन किया।

दरियाटी| दस दिवसीय दशामाता कि पूर्णाहुति कर महिलाओं ने शनिवार को रात्रि जागरण किया। रविवार सुबह गाजे बाजे के साथ भादर नाले में पूजा अर्चना कर प्रतिमाओं का विसर्जन किया।

बांसीया| दशा माता प्रतिमाओं का रविवार को विसर्जन किया। दशा माता की प्रतिमा घर में स्थापित कर विशेष पूजा-अर्चना के बाद शोभायात्रा निकाल विसर्जन किया।

करामाड़ा

खड़गदा

सागवाड़ा| नगर सहित आसपास ग्रामीण क्षेत्र में दशामाता की प्रतिमाओ का विसर्जन रविवार को हुआ। दसवें दिन माता को लड्डूओं का भोग धरा कर बच्चों और परिजनों को प्रसाद खिलाया। इसके बाद ग्यारहवें दिन सुबह में विधिविधान के साथ उत्तर पूजन और महा आरती के बाद गाजे बाजों के साथ प्रतिमाओं का विसर्जन किया। भक्ति भाव के साथ पूजा अर्चना और सामूहिक आरती उतारने के बाद माता की प्रतिमाओं का जलाशय में विसर्जन किया। नगर क्षेत्र की प्रतिमाओं का विसर्जन राम पार्क के पास स्थित लोहारिया तालाब में किया। सूरजगांव वणोरी, लीमड़ी, हड़माला, किशनपुरा, दिवड़ा छोटा, घोटाद, सिलोही समेत आसपास के कई गांवों में श्रद्धालुओं ने प्रतिमाओं की गाजे-बाजों के साथ शोभा यात्रा निकाल कर घोटा और गौरेश्वर में मोरना नदी पर विसर्जन किया।

पाड़वा

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser