पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Dungarpur News Rajasthan News Running Is The Name Of The World And Slowing Down Is The Initiation Acharya

दौड़ाने का नाम है संसार और गति धीमी कर लेने का नाम है दीक्षा : आचार्य

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डूंगरपुर. आचार्य को पिच्छी भेंट करते श्रद्धालु।

भास्कर संवाददाता|डूंगरपुर

होटल लेक व्यू परिसर हॉल में आयोजित दीक्षा समारोह में अनुभव सागर ने धर्मसभा को संबोधित करते हुए कहा कि संसारिक जन्म से लेकर मरण तक दौड़ता रहता है। परंतु पहुंचता कही नहीं है वैसे ही मच्छर आसमान में बहुत उड़ लेता है परंतु वह भी कही नहीं पहुंचता है। चींटी दिन भर मेहनत करती है परंतु प्राप्त कुछ नहीं कर पाती।

कारण मात्र इतना है कि इन सबका कोई उद्देश्य नहीं है। लक्ष्यहीन नौका डूब ही जाती है। हम मंगल में जीवन ढूंढ रहे है, पर जीवन में मंगल की परवाह ही नहीं हैं। ख्वाहिशों के पीछे भागते मनुष्य को अपने जीवन कि भान ही नहीं हैं। इस अवसर पर ऊपरगांव से आए आचार्य समता सागर महाराज ने कहा कि जब हम अपने परिवार की हर कमी को छुपाकर उसको अंदर से संभालते है। लेकिन साधु की छोटी कमी को फोन के माध्यम से बहुचर्चित कर देते हैं। श्रावकाें ने संगीतमय पूजन के माध्यम से अपनी भक्ति समर्पित की। पाद पक्षालन का लाभ कन्हैयालाल भोजक, शास्त्र भेट लक्ष्मीलाल तोरावत, पिच्छी देने का लाभ दिनेश राजमंदिर परिवार ने लिया। सुबह कार्यक्रम में पत्रकार कॉलोनी में मुकुट सप्तमी के दिन भगवान पाश्र्वनाथ को निर्वाण लाडू चढाया।

खबरें और भी हैं...