मकर संक्रांति के पहले गुड़ और गोग्रास की अनूठी परंपरा

Dungarpur News - मकर संक्रांति को दान और पुण्य का पर्व माना जाता है। सागवाड़ा शहर में गायों को गुड के साथ रोटी खिलाने की परंपरा आज भी...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 06:27 AM IST
Sagwara News - rajasthan news the unique tradition of jaggery and gogras before makar sankranti
मकर संक्रांति को दान और पुण्य का पर्व माना जाता है। सागवाड़ा शहर में गायों को गुड के साथ रोटी खिलाने की परंपरा आज भी कायम है।

शहर में पोल के कोठे पर सोनियों के मंदिर के पीछे श्रद्धालु महिला एवं पुरुष संक्रांति के एक दिन पहले सुबह से गेहूं की रोटियां बनाकर गायों को खिलाते हैं।

लगभग 40 वर्ष पहले गो ग्रास का यह अनूठा तरीका धूलजी भगत ने शुरू किया था। यह अभी भी जारी है। इस बार भी रविवार को रतिलाल पंचाल, भगवान दर्जी व भरत पंवार के नेतृत्व में यह आयोजन हुआ।

इसमें दुर्गाबाई, जशोदाबाई, कलावतीबाई, उर्मिला, रमिला, नीमा, माया पंवार, निर्मला दर्जी, ओमप्रकाश दर्जी, चमेली, प्रियांशी, मेघना, उर्वी, वंशी, पवन भावसार, रामकिशोर भावसार, सूर्यकांता, सुंदरलाल, हिमांशु, जयंतीलाल भावसार सहित मोहल्ले के लोगों ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया।

सागवाड़ा. सोनियों के मंदिर के पीछे गो ग्रास के लिए रोटियां बनाते।

मकर संक्रांति पर बाजार में सजे पतंग

सीमलवाड़ा। कस्बे में पतंगों का त्यौहार धूमधाम के साथ मनाया जाएगा। इस बार बाजार में यूनिटी ऑफ स्टेच्यू सरदार वल्लभ भाई पटेल, बाहुबली, एंग्री बर्ड, मिकी माउस,विक्रम राधा, रईस, नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी के पोस्टरों से बनी पतंग की मांग बच्चों में व बड़ों में बहुत ज्यादा है।

Sagwara News - rajasthan news the unique tradition of jaggery and gogras before makar sankranti
X
Sagwara News - rajasthan news the unique tradition of jaggery and gogras before makar sankranti
Sagwara News - rajasthan news the unique tradition of jaggery and gogras before makar sankranti
COMMENT