हम गौमाता की महिमा को जानते हुए भी संरक्षण में लापरवाह: माही दीदी

Dungarpur News - गौ माता कोई जानवर नहीं बल्कि चलता फिरता तीर्थ हैं। इसमें 33 कोटि देवी देवता निवास करते हैं परन्तु यह दुर्भाग्य है कि...

Jan 16, 2020, 10:36 AM IST
Sagwara News - rajasthan news we careless in preserving gaumata39s glory despite knowing mahi didi
गौ माता कोई जानवर नहीं बल्कि चलता फिरता तीर्थ हैं। इसमें 33 कोटि देवी देवता निवास करते हैं परन्तु यह दुर्भाग्य है कि हम गौमाता की महिमा को जानते हुए भी उसके संरक्षण में लापरवाह बने हुए हैं।

आज के समय की महत्ती आवश्यकता गौरक्षा ही हैं । यह बात साध्वी श्रद्धा गोपाल सरस्वती माही दीदी ने वमासा गौशाला में मकर सक्रांति की शाम को हुई गौचेतना धर्म सभा को संबोधित करते हुए कही। दीदी ने कहा कि गौमाता न सिर्फ वैतरणी पार करवाने वाली और धर्म के आधार पर श्रेष्ठ हैं अपितु अर्थ व्यवस्था का भी आधार है । ऐसे में पहले की तरह प्रत्येक हिन्दू अपने घर में गौपालन करे और किसान गौआधारित कृषि करे तो गौमाता को उसका खोया हुआ सम्मान वापस मिलेगा। मां भारती पुन: विश्वगुरु के सिंहासन पर आरूढ़ होगी। इससे पूर्व दीदी ने गौशाला में गायों को अपने हाथों से हरा चारा खिलाया। साथ ही गौशाला की व्यवस्थाएं देखी । शारदा देवी व्यास ने दीदी का उपरणा ओढ़ाकर सम्मान किया। गौशाला कोषाध्यक्ष अशोक मेहता, राजेश भट्ट, अनुराग रावल ने अतिथियों का सम्मान किया। इस अवसर पर वेलचंद पाटीदार सिलोही, गोपाल पाटीदार जसेला, कांतिलाल पाटीदार नोगामा, गोविंद पाटीदार विराट, जिला कार्यवाह विष्णु बुनकर, लीलाराम जोशी बोडिगामा छोटा, गिरधर पंड्या, रविंद्र व्यास, प्रदीप जोशी, नाथु पाटीदार, नाथु खराड़ी मौजूद थे। संचालन वीरेंद्रसिंह पंवार ने किया और आभार गौशाला अध्यक्ष चिमन पटेल ने जताया।

कथा
सागवाड़ा. गौशाला में गायों को चारा खिलाती साध्वी माही दीदी

सागवाड़ा. गौशाला परिसर में गौचेतना धर्म सभा मे मौजूद श्रद्धालु।

भास्कर संवाददाता|सागवाड़ा

गौ माता कोई जानवर नहीं बल्कि चलता फिरता तीर्थ हैं। इसमें 33 कोटि देवी देवता निवास करते हैं परन्तु यह दुर्भाग्य है कि हम गौमाता की महिमा को जानते हुए भी उसके संरक्षण में लापरवाह बने हुए हैं।

आज के समय की महत्ती आवश्यकता गौरक्षा ही हैं । यह बात साध्वी श्रद्धा गोपाल सरस्वती माही दीदी ने वमासा गौशाला में मकर सक्रांति की शाम को हुई गौचेतना धर्म सभा को संबोधित करते हुए कही। दीदी ने कहा कि गौमाता न सिर्फ वैतरणी पार करवाने वाली और धर्म के आधार पर श्रेष्ठ हैं अपितु अर्थ व्यवस्था का भी आधार है । ऐसे में पहले की तरह प्रत्येक हिन्दू अपने घर में गौपालन करे और किसान गौआधारित कृषि करे तो गौमाता को उसका खोया हुआ सम्मान वापस मिलेगा। मां भारती पुन: विश्वगुरु के सिंहासन पर आरूढ़ होगी। इससे पूर्व दीदी ने गौशाला में गायों को अपने हाथों से हरा चारा खिलाया। साथ ही गौशाला की व्यवस्थाएं देखी । शारदा देवी व्यास ने दीदी का उपरणा ओढ़ाकर सम्मान किया। गौशाला कोषाध्यक्ष अशोक मेहता, राजेश भट्ट, अनुराग रावल ने अतिथियों का सम्मान किया। इस अवसर पर वेलचंद पाटीदार सिलोही, गोपाल पाटीदार जसेला, कांतिलाल पाटीदार नोगामा, गोविंद पाटीदार विराट, जिला कार्यवाह विष्णु बुनकर, लीलाराम जोशी बोडिगामा छोटा, गिरधर पंड्या, रविंद्र व्यास, प्रदीप जोशी, नाथु पाटीदार, नाथु खराड़ी मौजूद थे। संचालन वीरेंद्रसिंह पंवार ने किया और आभार गौशाला अध्यक्ष चिमन पटेल ने जताया।

Sagwara News - rajasthan news we careless in preserving gaumata39s glory despite knowing mahi didi
X
Sagwara News - rajasthan news we careless in preserving gaumata39s glory despite knowing mahi didi
Sagwara News - rajasthan news we careless in preserving gaumata39s glory despite knowing mahi didi
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना