• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Dungla News
  • दक का जवाब: एक दिन पहले भाजपा में आने की बात कही थी, वो जीतने के बाद मुकर गए
--Advertisement--

दक का जवाब: एक दिन पहले भाजपा में आने की बात कही थी, वो जीतने के बाद मुकर गए

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 04:35 AM IST
दक का जवाब: एक दिन पहले भाजपा में आने की बात कही थी, वो जीतने के बाद मुकर गए

- दक: कांग्रेस के लंबे शासन में आप खुद डोडा चूरा का व्यवसाय करते थे। मात्र दो रुपए किलो के भाव से खरीदकर किसानों का जमकर शोषण किया। सबसे पहले हमारी सरकार ने डोडा चूरा के भाव बढ़ाकर किसानों को राहत दी थी। कानूनन प्रतिबंधित करने से अब खरीद बंद हुई।


- दक: कांग्रेस पार्षद ने अध्यक्ष चुनाव के एक दिन पूर्व स्वयं आकर हमारे पदाधिकारियों के सामने भाजपा में शामिल होने की बात कही। जीतने के बाद वे अपनी बात से मुकर गए।


- दक: आपको तथ्यों की जानकारी नहीं। नपा की एनओसी 9 मार्च 2017 काे जारी हो गई थी। यहां की ग्रेवल केवल 4-5 किमी तक काम आती है। उससे पूरा 90 किमी का काम नहीं रुक सकता। ठेकेदार की लापरवाही से काम धीमा हुआ तो रेलवे ने टेंडर निरस्त कर दिया। अब पूरे मार्ग को पांच खंड में बांटकर नए सिरे से टेंडर किए। काम जल्द पूरा होगा।


- दक: आपकी सरकार में मात्र घोषणाएं होती थीं, काम नहीं। बड़ीसादड़ी-मंगलवाड़ सड़क की स्वीकृति 28 मार्च 2015 को हमारी सरकार ने की। अप्रैल में टेंडर और मई में वर्कऑर्डर हुआ। अब काम होने को है। बांसी-होड़ा चौराहा सड़क का काम भी पूरा होने वाला है। ब्राडगेज लाइन का बजट भी मोदी सरकार ने जारी किया।


- दक: आपके समय नई सड़कें बनी ही नहीं। हमारी सरकार ने पुरानी सड़कों के गडढ़े भरने के अलावा नई सड़कों का जाल बिछा दिया। यदि कहीं घटिया निर्माण हुआ तो आपको खुद जाकर भी काम रुकवाना था या हमें जानकारी दे तो तत्काल कार्रवाई कराएंगे। पंस में कोई टेंडर ही नहीं होते तो किसी को रोकने का क्या सवाल? कार्यकारी एजेंसी तो पंचायतें होती है।

गौतम दक

गौतम दक बड़ीसादड़ी से विधायक है। इससे पहले भाजपा मंडल अध्यक्ष रहे। सत्तासीन विधायक होने के नाते जिम्मेदारी बनती है कि जनता की वाजिब मांगों को सरकार के सामने रखकर पूरा करवाएं।

प्रकाश चौधरी

प्रकाश चौधरी कांग्रेस संगठन में विभिन्न पदों पर रहने के बाद बड़ीसादड़ी से लगातार दो बार विधायक रहे। ऐसे में जिम्मेदारी है कि जनता के हित में आवाज उठाएं। सरकार के गलत फैसलों का विरोध करें।

दक- आप शराब कारोबार में जेल तक गए, भय फैलाया

चौधरी का जवाब: गलत पैनल्टी लगाने से केस बना था, टैक्स बोर्ड ने फिर से जांच शुरू कराई है


- चौधरी: हमारी कंपनी ने कोई टैक्स चोरी नहीं की। दूसरे प्रदेश में परमिट पर माल भेजा। राजनीतिक द्वेष से गलत पैनल्टी लगाई। टैक्स बोर्ड कोर्ट ने इस केस में पुन: जांच के निर्देश दिए हैं।


- चौधरी: आपकी सरकार प्रभावित किसानों को मात्र 40 हजार रुपए प्रति बीघा से मुआवजा दे रही थी। हमने केंद्र सरकार के नए भूमि अधिग्रहण कानून का इंतजार किया। इसी कारण किसानों को तीन-चार लाख रुपए बीघा से मुआवजा मिला। हमने स्वीकृति दे दी थी पर चुनाव आचार संहिता लागू होने से काम अटक गया।


-चौधरी: मैंने ऐसा कुछ नहीं कहा। युवक कांग्रेस के सम्मेलन में ऐसे किसी विषय पर चर्चा चल रही थी। उस पर भाजपा वालों ने ही मेरे वक्तव्य को गलत तरीके से पेश कराया था। क्षेत्र का हर नागरिक जानता है कि मैंने दस साल में कितने काम कराए हैं।


-चौधरी: परिवारवाद से तो आप राजनीति में आए। आपके पिता प्रधान रहे। चुनाव में सामान्य वर्ग से कोई महिला तैयार नहीं हुई तो मजबूरी में प|ी को चेयरमैन बनवाना पड़ा। एसएचओ के साथ मारपीट के मामले में निर्दोष होने से मेरा साला कोर्ट से बरी हो गया पर वो ही एसएचओ बाद में हरियाणा पुलिस की गिरफ्तारी से जेल गया। क्योंकि वो अवैध शराब कारोबार में लिप्त थे। भाई हो या साला। मैंने कभी पुलिस कार्रवाई नहीं रुकवाई। जो जैसी गलती करेगा, वैसा भुगतेगा।


-चौधरी: मैं जनता का सेवक हूं। आम आदमी की तकलीफ दूर करने के लिए मरना पड़े तो भी तैयार हूूं। सरकार किसी की हो। जनता की वाजिब मांग पूरी नहीं हो तो आंदोलन करने का हक सबको है और वैसे भी दस के दौरान कितने काम कराए हैं, यह क्षेत्र का बच्चा-बच्चा जानता है।

X
दक का जवाब: एक दिन पहले भाजपा में आने की बात कही थी, वो जीतने के बाद मुकर गए
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..