• Hindi News
  • Rajasthan
  • Eklera
  • कोई किसी को सुख दुख नहीं देता, सब अपने कर्मों का फल भोगते हैं: बालयोगी
--Advertisement--

कोई किसी को सुख-दुख नहीं देता, सब अपने कर्मों का फल भोगते हैं: बालयोगी

Eklera News - ल्हास में चल रही भागवत कथा के तीसरे दिन कथावाचक बालयोगी महाराज ने बताया कि मनुष्य अपने कर्मो से ही सुख-दुख भोगते...

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2018, 02:45 AM IST
कोई किसी को सुख-दुख नहीं देता, सब अपने कर्मों का फल भोगते हैं: बालयोगी
ल्हास में चल रही भागवत कथा के तीसरे दिन कथावाचक बालयोगी महाराज ने बताया कि मनुष्य अपने कर्मो से ही सुख-दुख भोगते हैं। लोग शंकर भगवान को लोटा भरकर जल चढाते हैं, लेकिन अपने माता-पिता को एक गिलास पानीं तक नहीं पिलाते हैं।

इंसान-इंसान की बनाई हुई मूर्ति की तो पूजा करते हैं, लेकिन भगवान की बनाई हुई मूर्ति मानव सें ईर्ष्या करते हैं। आगे बताया कि राजा को अपने चापलूस और मीठा बोलने वाले लोगों से बचकर रहना चाहिए। क्योंकि रावण और धृतराष्ट्र ने अपने सही बात करने वाले मंत्री विभीषण व विधुर की बात नहीं मानी तो राज्य का पतन हो गया। इस अवसर पर पूर्व विधायक कैलाश मीना, कमल जैन, पारस जैन, गंगाराम सरपंच, कैलाश कारपेेंटर, चौथमल मीना, रमेश मीना, रामबिलास सरपंच, रामसिंह सरपंच, नवल सरपंच लालचंद पूर्व सरपंच, रामदयाल मीना, शंकरलाल मीना, भारमल मीना, मांगीलाल मीना उपस्थित रहे। इससे पूर्व रंगलाल मीना ने प|ी सहित भागवत की पूजा की।

अकलेरा. रविवार को ल्हास में चल रही भागवत कथा में तीसरे दिन बड़ी संख्या में उपस्थित श्रद्धालु।

तारज. रविवार को नानीबाई रो मायरे का वाचन करते कथावाचक।

नानीबाई के मायरा सुनने उमड़े श्रद्धालु

तारज. कस्बे में तीन दिवसीय नृसिंह के मायरा का आयोजन किया जा रहा है। शिल्पा पारिक द्वारा संगीतमय नानीबाई के मायरे का वाचन किया जा रहा है। समस्त कस्बेवासियों द्वारा 12 बजे से मायरे का आयोजन किया जा रहा है। इसके तहत महाआरती मीणा समाज झालावाड़ जिलाध्यक्ष रामप्रकाश मीणा ने की। मायरा सुनने तारज सहित आसपास के ग्रामीण पहुंच रहे है।

X
कोई किसी को सुख-दुख नहीं देता, सब अपने कर्मों का फल भोगते हैं: बालयोगी
Astrology

Recommended

Click to listen..