• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Eklera News
  • कानून एक मर्यादा है सभी को पालन करना होता है, जानकारी हर व्यक्ति को होनी चाहिए:डीजे
--Advertisement--

कानून एक मर्यादा है सभी को पालन करना होता है, जानकारी हर व्यक्ति को होनी चाहिए:डीजे

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण का शुक्रवार को जिला एवं सेशन न्यायाधीश डॉ. राजेन्द्र सिंह चौधरी ने राजकीय बालिका उच्च...

Dainik Bhaskar

Feb 10, 2018, 04:45 AM IST
कानून एक मर्यादा है सभी को पालन करना होता है, जानकारी हर व्यक्ति को होनी चाहिए:डीजे
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण का शुक्रवार को जिला एवं सेशन न्यायाधीश डॉ. राजेन्द्र सिंह चौधरी ने राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय झालावाड़ में प्रदेश का पहला विधिक साक्षरता क्लब का विधिवत फीता काटकर शुभारंभ किया। इस मौके पर जिला एवं सेशन न्यायाधीश ने कहा कि राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जयपुर के निर्देशानुसार जिले में 5 विधिक साक्षरता क्लब खोले जाने हैं, इसी के तहत आज इसकी शुरुआत बेटियों के स्कूल से की गई है। उन्होंने बताया कि बेटी मजबूत होती है तो देश, समाज भी मजबूत होता है। उन्होंने बताया कि विधिक साक्षरता क्लब का मुख्य उद्देश्य विद्यालयों के छात्र-छात्राओं में बेसिक कानून के प्रति जागरूकता बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि कानून एक मर्यादा है जिसका सभी को पालन करना होता है और इसकी जानकारी सभी होनी चाहिए। इसी उद्देश्य से यह व्यवस्था की गई है। कानून की जानकारी पढ़े-लिखे व्यक्ति को ही नहीं अनपढ़ व्यक्ति को भी होनी चाहिए, कानून जानना हर व्यक्ति के लिए जरूरी है। उन्होंने बताया कि विधिक साक्षरता क्लब में कानून की जानकारी से संबंधित सरल भाषा में छोटी-छोटी किताबों सहित कम्प्यूटर, फर्नीचर आदि की व्यवस्था के लिए राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के द्वारा 60 हजार रुपए प्रति क्लब की राशि आवंटित की गई है ताकि वहां बैठकर छात्र-छात्राएं कानून के संबंध में जानकारी प्राप्त कर सके। समारोह में पारिवारिक न्यायाधीश पारस जैन, एनडीपीएस जज अनुपमा बिजलानी, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट स्वाति शर्मा, विधिक सेवा प्राधिकरण के पूर्णकालिक सचिव हनुमान सहाय जाट, बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मुकेश जैन भी मंचासीन थे। साथ ही शिक्षा अधिकारी सुरेन्द्र सिंह गौड़, प्राचार्य राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय रंजना वर्मा, अध्यापिकाएं एवं विद्यालय की छात्राएं उपस्थित रही।

झालावाड़. अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (जिला एवं सेशन न्यायाधीश) डाॅ. राजेन्द्र सिंह चौधरी के मार्गदर्शन में वर्ष 2018 की प्रथम राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन 10 फरवरी काे जिला मुख्यालय एवं सभी तालुका मुख्यालयों पर किया जाएगा। प्रथम राष्ट्रीय लोक अदालत के सफल आयोजन के लिए शुक्रवार को झालावाड़ बार संघ के सदस्यों के साथ बैठक हुई । बैठक में डाॅ. राजेन्द्र सिंह चौधरी ने अधिवक्ताओं से राजीनामा योग्य प्रकरणों का अधिक से अधिक निस्तारण करवाने की अपील की।

खानपुर. पंचायत बैसार के गांव नया गांव ठाकरान में विधिक सेवा समिति खानपुर के तत्वावधान में विधिक जागरूकता टीम के द्वारा विधिक साक्षरता शिविर लगाया गया। टीम के पीएलवी नवनीत कुमार पारीक, रामबिलास, हंसराज मीणा, पैनल लायर अनिल कुमार मेहता ने क्षेत्र के श्रमिकों के लिए विधिक सेवाओं की जानकारी दी। शिविर में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत में राजीनामा योग्य प्रकरणों को आपसी समझौते के माध्यम से निपटाने की कानूनी जानकारी दी।

आवर. ग्राम पंचायत मुख्यालय पर शुक्रवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में लोक अदालत के बारे में ग्रामीणों को जानकारी दी गई।

असनावर. विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन अटल सेवा केंद्र में किया गया। इसमें सिविल न्यायाधीश एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट झालावाड़ तापस सोनी ने लोगों को लोक अदालत से संबंधित जानकारी दी। उन्होंने बताया कि न्यायालयों में लंबित राजीनामा योग्य प्रकरणों में आपसी सुलह व समझाइश के आधार पर राजीनामा कर के मामले का राष्ट्रीय लोक अदालत से शीघ्र एवं सुलभ निस्तारण करा सकते हैं। इस अवसर पर थाना प्रभारी इस्लाम अली, सरपंच गुड्डी बाई, बापूलाल भील, ख्यालीराम भील सहित मौजूद रहे।

अकलेरा. ताल्लुका विधिक सेवा समिति अकलेरा के अध्यक्ष अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश बीना जैन के निर्देशन में विधिक सेवा केंद्र थाना सरेड़ी के पीएलवी रोहित कुमार पारेता ने ग्राम कुंजारा में जाकर 10 फरवरी को आयोजित होने वाली राष्ट्रीय लोक अदालत के बारे में जानकारी दी। साथ ही पीएलवी ने निशुल्क विधिक सहायता, मृत्यु भोज, बाल-विवाह जैसी कुप्रथाओं के बारे में ग्रामीणों को सजग किया। विधिक सेवा केन्द्र अमृतखेड़ी के पीएलवी रमेशचंद मीना ने गांव में जाकर बालिकाओं को बाल-विवाह के बारे में जानकारी प्रदान की। विधिक सेवा केंद्र गेहूंखेड़ी के पीएलवी शिवराज किराड़ ने अटल सेवा केंद्र पर आए ग्रामीणों को लोक अदालत के बारे में जानकारी दी। न्यायालयों में लंबित सभी प्रकार के राजीनामा योग्य मुकदमों को लोक अदालत के माध्यम से निपटारा करवाया जा सकता है। पीएलवी द्वारा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान एवं वाहन चलाने संबंधी सामान्य सड़क नियमों की जानकारी भी दी। विधिक सेवा केंद्र पचोला की महिला पीएलवी नीलम हाड़ा ने राजकीय स्कूल में छात्र-छात्राओं को सड़क सुरक्षा के बारे में बताया। अटल सेवा केंद्र पर बालक-बालिकाओं व ग्रामीणों को बताया कि उनके यदि उनके विवाद न्यायालय में लंबित है ताे वह आपसी समझाइश से सुलझ सकते है।

झालावाड़ । तालुका विधिक सेवा समिति अकलेरा के अध्यक्ष अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश बीना जैन के निर्देशन में सचल विधिक जागरूकता लोक अदालत मोबाइल वैन से अकलेरा तालुका में विधिक जागरूकता के तहत प्रचार-प्रसार किया। सचिव विनोद कुमार गौड़ ने बताया कि टीम द्वारा विभिन्न ग्रामीण अंचलों में जाकर विद्यालय की छात्राओं एवं ग्रामीणों को बाल विवाह निषेध कानून, बेटी-बचाओ, बेटी-पढ़ाओ अभियान, पॉलिथीन प्रतिबंध, पर्यावरण सुरक्षा संबंधी एवं समाज से जुड़ी अन्य कुरीतियों व कुप्रथाओं के बारे में जानकारी प्रदान की गई। मोबाइल वैन भ्रमण की रूपरेखा क्रियान्विति अशोक कुमार मीणा ने की। मोबाइल वैन के साथ विधिक जागरूकता टीम के सदस्य पैनल अधिवक्ता फिरोज खान व अशोक लववंशी तथा पीएलवी धापू बाई व दिनेश पारेता उपस्थित रहेे।

झालावाड़. बेटी बचाओं बेटी पढाओं के तहत आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित छात्राएं।

बढ़ेगा बेटियों का आत्मविश्वास

कलेक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी ने कहा कि जिस दिन हमारे देश की बेटियां कानून के बारे में जानने लग गई उसी दिन बेटियों का आत्मविश्वास और बढ़ जाएगा। उन्होंने छात्राओं से कहा कि अपनी नियमित पढ़ाई के अतिरिक्त विधिक साक्षरता क्लब में बैठकर कानून संबंधी जानकारी भी प्राप्त करें। राबाउमाविमें क्लब खोले जाने पर हर्ष व्यक्त करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी से कहा कि पांच विद्यालयों में खोले जाने वाले क्लब का फायदा जिले के सभी विद्यालयों तक पहुंचाए जाने के लिए क्लब में रखी जाने वाली पुस्तकों की पीडीएफ फाइल तैयार करवाई जाकर सभी विद्यालयों में पहुंचाई जाए।

तथ्य की भूल माफी योग्य है कानून की नहीं: जिला जज ने उपस्थित छात्राओं और अध्यापक-अध्यापिकाओं को बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के बारे में जागरूक करते हुए कहा कि तथ्य की भूल माफी योग्य है, लेकिन कानून की भूल माफी योग्य नहीं है। कोई व्यक्ति अपराध कर यह कहकर नहीं बच सकता है कि उसे कानून की जानकारी नहीं है।

असनावर

X
कानून एक मर्यादा है सभी को पालन करना होता है, जानकारी हर व्यक्ति को होनी चाहिए:डीजे
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..