Hindi News »Rajasthan »Eklera» भूमि अवाप्ति के 13 साल बाद भी किसानों को मुआवजा नहीं मिला

भूमि अवाप्ति के 13 साल बाद भी किसानों को मुआवजा नहीं मिला

अकलेरा. शिविर में उपस्थित अधिकारी एवं पीड़ित किसान। भास्कर न्यूज | अकलेरा उपखंड मुख्यालय पर एसडीएम एवं रेलवे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 09, 2018, 04:05 AM IST

अकलेरा. शिविर में उपस्थित अधिकारी एवं पीड़ित किसान।

भास्कर न्यूज | अकलेरा

उपखंड मुख्यालय पर एसडीएम एवं रेलवे के अधिकारियों की अध्यक्षता में रेलवे लाइन में आई भूमि, पेड़-पौधों और मुआवजा निर्धारण को लेकर बैठक हुई। इसमें अधिकारियों ने रेल्वे लाइन में आने वाले पुराने प्रकरणों को निर्धारित करने एवं उनकी सहमति पर चर्चा की।

शिविर में शाम 5 बजे तक भी कितने प्रकरणों का निस्तारण हुआ, इस संबंध में अधिकारियों के पास कोई जवाब नहीं मिल पाया था। अकलेरा क्षेत्र में वर्ष 2005 में अवाप्त भूमि के 13 साल बाद भी प्रकरणों का निस्तारण नहीं हो पाया है। करीब 61 प्रकरण अभी भी विचाराधीन चल रहे हैं। शिविर में जमाबन्दी का दुरुस्तीकरण, मुआवजा वितरण, पेड़ पौधों एवं मकानों का निर्धारण करने के बारे में पक्षकारों से चर्चा की गई। रेलवे लाइन की भूमि पर लगाए गए। 90 संतरा के पौधों का अभी तक निस्तारण नहीं किया गया। कटफला निवासी मोहनलाल, गिरधारीलाल ने इस मामले में अधिकारियों के समक्ष पक्ष रखा। इसी प्रकार घाटोली निवासी महाजन की भूमि पर रेलवे लाइन के बाहर लगाया गया अमरूद का बगीचा जेसीबी से नष्ट कर दिया गया। उसका मुआवजा अभी तक निर्धारित नहीं किया जा सका है। घीसालाल भील को अभी तक कुएं का मुआवजा नहीं मिला। अकलेरा निवासी आबिद खान ने बताया कि राजस्व विभाग ने रेलवे लाइन में वर्ष 2003 में सीमांकन कर तहसीलदार की ओर से राजस्व रिपोर्ट प्रस्तुत की गई थी। रेलवे लाइन में आए कुएं का महज 1 लाख 49 हजार रुपए का मुआवजा निर्धारित किया गया। जबकि उसकी कीमत करीब 10 लाख रुपए है। शिविर में अधिकारियों की ओर से कोई संतोष प्रद जवाब नहीं दिया गया।

शिविर में यह रहे उपस्थित

रेलवे भूमि पर मुआवजा प्रकरणों के निस्तारण एवं समाधान के लिए लगाए गए शिविर में रेलवे के एक्सईएन संदीप ऑबेरॉय, जेईएन केपी सिंह, एसडीएम अश्विन के पंवार, तहसीलदार रामकिशन मीना सहित मौजूद रहे।

रेलवे लाइन में आई भूमि के निस्तारण को लेकर सभी पक्षों को शिविर में आमंत्रित किया गया था, लेकिन कई पक्षकार नहीं आए। कुछ प्रकरणों का शिविर में निस्तारण किया गया है। -अश्विन के पंवार, एसडीएम अकलेरा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Eklera

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×