--Advertisement--

सरकार राशि दे तो समिति प्रदेश में नंदीशाला खोलेगी

निराश्रित गोवंश के लिए जिले में नंदीशाला की स्थापना के लिए राजस्थान गोसेवा समिति पदाधिकारियों की बैठक रविवार को...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:25 AM IST
निराश्रित गोवंश के लिए जिले में नंदीशाला की स्थापना के लिए राजस्थान गोसेवा समिति पदाधिकारियों की बैठक रविवार को कलेक्टर के साथ कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई।

राजस्थान गोसेवा समिति प्रदेशाध्यक्ष महंत दिनेशगिर ने बताया कि नंदीशाला की स्थापना के लिए गोपीनाथ गोशाला, फतेहपुर गोशाला, रामगढ़ गोशाला और हरदयाल गोशाला द्वार संचालित करने पर चर्चा की गई, लेकिन राज्य सरकार द्वारा एक बार में 50 लाख की राशि देने के बाद भविष्य में कोई राशि नहीं देने के कारण प्रशासन और राजस्थान गोसेवा समिति के मध्य सहमति नहीं हो पाई। प्रदेशाध्यक्ष महंत दिनेशगिरि ने सरकार के समक्ष प्रस्ताव रखा कि यदि सरकार गोवंश के लिए प्रति वर्ष नौ माह तक सहायता राशि प्रदान करें तो गोसेवा समिति पूरे प्रदेश में नंदीशाला के संचालन के लिए तत्पर है। बैठक में एसपी विनीत राठौड़, संयुक्त निदेशक पशुपालन बीएल झूरिया, उपनिदेशक कृषि दीपक अग्रवाल, उपवन संरक्षक राजेन्द्र हुड्‌डा, नगरपरिषद आयुक्त के अलावा राजस्थान गोसेवा समिति के प्रदेशाध्यक्ष महंत दिनेशगिरि, प्रदेश संगठन मंत्री रामचन्द्र नेहरा, जिलाध्यक्ष बीपी क्याल, गोपीनाथ गोशालाध्यक्ष गोपाल सोमानी, पिपराली गोशाला के सतवीर आदि ने भाग लिया। कलेक्टर नरेश ठकराल ने निराश्रित पशुधन द्वारा आम आदमी और किसानों को हो रहे नुकसान का विश्लेषण करते हुए सभी से इसका हल निकालने की अपील की।

गोसेवकों ने प्रदेशाध्यक्ष महंत दिनेशगिरि के साथ कलेक्टर से मिलकर समस्या रखी

फतेहपुर. नंदीशाला के लिए कलेक्टर व अन्य अधिकारियों से चर्चा करते हुए।