--Advertisement--

बांसवाड़ा भास्कर

लोग क्या सोचेंगे, इस बात की चिंता करने की बजाए क्यों ना कुछ ऐसा करने में समय लगाएं जिसे प्राप्त करने पर लोग आपकी...

Danik Bhaskar | Feb 10, 2018, 03:00 AM IST
लोग क्या सोचेंगे, इस बात की चिंता करने की बजाए क्यों ना कुछ ऐसा करने में समय लगाएं जिसे प्राप्त करने पर लोग आपकी प्रशंसा करें।

-डेल कार्नेगी

बांसवाड़ा, शनिवार, 10 फरवरी, 2018

कुशलगढ़
फाल्गुन, कृष्ण पक्ष-10, 2074

मोनू- सर, मुझे कुछ याद नहीं रहता। टीचर- अच्छा, बताओ कि क्लास में तुम्हारी पिटाई कब हुई थी? मोनू-सर, मंगलवार को। टीचर- यह कैसे याद रह गया? मोनू- सर प्रैक्टिकल में नहीं थ्योरी में प्रॉब्लम है।