--Advertisement--

भास्कर संवाददाता| बांसवाड़ा

भास्कर संवाददाता| बांसवाड़ा ढाक, टेसू या किंशुक जैसे अलग-अलग नामों से पुकारे जाने वाले सुर्ख केसरी लाल रंग की...

Danik Bhaskar | Feb 19, 2018, 03:55 AM IST
भास्कर संवाददाता| बांसवाड़ा

ढाक, टेसू या किंशुक जैसे अलग-अलग नामों से पुकारे जाने वाले सुर्ख केसरी लाल रंग की आभा वाले पलाश के बारे में हर किसी को जानकारी है, परंतु बहुत ही कम लोग जानते हैं कि केसरी लाल रंग के पलाश के साथ पीले रंग वाला पलाश भी वन क्षेत्रों में मिलता है।

नैसर्गिक सौंदर्यश्री से लकदक और जैव विविधता से समृद्ध बांसवाड़ा जिले के समीप वन क्षेत्र में इस बार दुर्लभ प्रजाति का पीला पलाश देखा गया है।

दुर्लभ प्रजाति के इस पलाश को घाटोल के क्षेत्रीय वन अधिकारी गोविंदसिंह राजावत ने घाटोल के समीप पीपलखूंट वन क्षेत्र से खोज निकाला है। राजावत ने बताया कि एकमात्र पेड़ को सुरक्षित व संरक्षित किया जाएगा और इसकी फलियों से निकलने वाले बीजों से नवीन पौधे बनाकर जिले के वन क्षेत्रों में इसे लगाया जाएगा।