Hindi News »Rajasthan »Ghatol» पेट में 5 किलो की तिल्ली, खाना खाने में बढ़ी तकलीफ, ऑपरेशन से निकाली

पेट में 5 किलो की तिल्ली, खाना खाने में बढ़ी तकलीफ, ऑपरेशन से निकाली

भास्कर संवाददाता | बांसवाड़ा घाटोल के नेगरेड गांव की हिरकी नामक महिला 6 माह से पेट में दर्द से परेशान होकर छोटे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 26, 2018, 04:05 AM IST

भास्कर संवाददाता | बांसवाड़ा

घाटोल के नेगरेड गांव की हिरकी नामक महिला 6 माह से पेट में दर्द से परेशान होकर छोटे बड़े अस्पतालों में भटकती रही। परिजन इलाज के लिए ले जाते रहे, लेकिन तकलीफ दूर नहीं हुई। करीब डेढ़ माह पहले दर्द अधिक होने लगा, खाना खाने में तकलीफ होने लग गई। तब विस्तृत जांच में सामने आया कि इस तकलीफ का मुख्य कारण पेट में स्पलीन यानी तिल्ली है। जो अपने सामान्य आकार और वजन से काफी गुना बढ़ गई थी। जिससे भोजन करने में तकलीफ होने लग गई।

सामान्यतः तिल्ली का आकार डेढ़ से 2 सेंटीमीटर तक का होता है, लेकिन हिरकी के शरीर में इसका आकार 11 सेंटीमीटर से अधिक हो गया था। इससे पेट के अंदर का आधे से भी ज्यादा हिस्सा तिल्ली ने कवर कर लिया था। आकार बढ़ने के साथ इसका वजन भी 5 किलोग्राम से ज्यादा हो गया था।

भर्ती हिरकी

शरीर में कम से कम दो सेंटीमीटर की होती है तिल्ली, घाटोल की महिला के पेट में यह 11 सेमी से भी ज्यादा बढ़ गई

हजारों में किसी एक में देखने को मिलता है ऐसा केस

घेरे में दिख रही तिल्ली।

विशेषज्ञ सर्जन डॉ. हितेन व्यास ने बताया कि तिल्ली निकालने के ऑपरेशन वैसे तो सामान्य होते हैं। जब कोई हादसे और घटना में घायल होता हैं और तब ऑपरेशन निकाला जाता हैं, जिसमें तिल्ली बिखरी होती है। इतनी बड़ी और भारी तिल्ली के ऑपरेशन होते हैं। मरीज हिरकी के जैसे केस हजारों में किसी एक में देखने को मिलता है। तिल्ली बढ़ने के कई कारण होते हैं, जिसमें मुख्य रुप से बीमारी के अधिक समय तक शरीर में बने रहने, मलेरिया होने, दूषित स्थानों पर रहने के साथ ही अन्य कारण भी होते हैं, हिरकी के केस में कोई कारण स्पष्ट नहीं हो पाया। जब 19 फरवरी को हिरकी को भर्ती किया तो उसकी पूरी जांच कराने के बाद 23 को उसका ऑपरेशन कर दिया गया। अधिकांश ऐसे केस यहां से रैफर करने पड़ते हैं।

तिल्ली बढ़ने के लक्षण

रोगी अत्यंत दुखी रहता है।

शरीर में थोड़ा थोड़ा बुखार बना रहता है।

जलन-कब्ज की समस्या बढ़ जाती है।

आंखें, अंगुलियां-नाखून पीले पड़ जाते हैं।

शरीर में तिल्ली का कार्य महत्वपूर्ण

तिल्ली शरीर में महत्वपूर्ण कार्य करती है, यह खून के फिल्टर की तरह काम करती है, पुराना खून की कणिकाओं को इसके द्वारा रिसाइकिल किया जाता है। यह बाहरी बेक्टीरिया से भी लड़ने में मदद करती है। सामान्यतः:शरीर में इसकी लंबाई 5 इंच और चौड़ाई 1 से 2 इंच होती है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ghatol

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×