घाटोल

  • Hindi News
  • Rajasthan News
  • Ghatol News
  • ब्लॉकवार करवाई गई थी प्राचार्यों से वसूली, अब लौटाने होंगे रुपए
--Advertisement--

ब्लॉकवार करवाई गई थी प्राचार्यों से वसूली, अब लौटाने होंगे रुपए

बांसवाड़ा| पंचायतसहायक भर्ती का जिम्मा सरकारी सीनियर स्कूलों के 300 से ज्यादा प्राचार्यों पर डालने पर खिलाफत करने...

Dainik Bhaskar

Jan 09, 2018, 04:30 AM IST
बांसवाड़ा| पंचायतसहायक भर्ती का जिम्मा सरकारी सीनियर स्कूलों के 300 से ज्यादा प्राचार्यों पर डालने पर खिलाफत करने के लिए गलत तरीके से फंड इकट्ठा करने का मामला सोमवार को शिक्षा विभाग में छाया रहा। इस बीच, स्कूलों के प्राचार्यों के संगठनों ने इससे अनभिज्ञता जताई। साथ ही खुलकर कहा है कि भर्ती प्रक्रिया हो चुकी है, लेकिन जब पीईईओ को कोई राहत ही नहीं दिलाई, तो फंड इकट्ठा करने वालों को अब रुपए लौटाना चाहिए।

गौरतलब है कि जिले में पंचायत स्तर पर नियुक्त 300 से ज्यादा प्राचार्य से बनाए पीईईओ को गैर शैक्षणिक कार्यों के खिलाफ संघर्ष शुरू कर राहत दिलाने का झांसा देकर हजार-हजार रुपए कुछ शिक्षा अधिकारियों ने एक-एक हजार रुपए लिए थे। उसके बाद कुछ नहीं किया गया, तो ठगे से महसूस करने वाले कुछ पीईईओ ने इसका भांडा फोड़ा। इसे लेकर भास्कर ने सोमवार के अंक में प्रमुखता से समाचार प्रकाशित किया। इसके बाद विभाग में इस तरह की गतिविधियों को लेकर दिनभर चर्चा रही। यह भी पता चला कि कुछ पीईईओ ने मिलकर बाकायदा लामबंद होकर घाटोल, गढ़ी, बागीदौरा, बांसवाड़ा और तलवाड़ा ब्लॉक में एक-एक अधिकारी को जिम्मा सौंपकर उन्हीं के जरिए वसूली की गई। अब ऐसे हालात बनने पर कुछ अधिकारियों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर खुलकर बात की और इसे गलत करार देकर कहा कि इस तरह उगाही करने वालों के खिलाफ अधिकारियों को कार्रवाई करनी चाहिए।

गाइडलाइनपर हुई थी बात बाद में हुई मनमानी-रेसा

रेसाके जिलाध्यक्ष रामलाल खराड़ी और महामंत्री किशनसिंह ने स्पष्ट किया कि संगठन के पास भर्ती की गाइडलाइन नहीं होने से रही दिक्कतों की शिकायतें थी, तो हमने ज्ञापन दिए थे। संगठन कभी भी भर्ती के खिलाफ नहीं रहा। रेसा पी के जिलाध्यक्ष विमल चौबीसा का कहना है कि भर्ती के दिशा-निर्देश स्पष्ट नहीं होने की दिक्कतें बताने पर हमने भी ज्ञापन दिए, लेेकिन इस तरह की वसूली सही नहीं है।

X
Click to listen..