--Advertisement--

बांसवाड़ा भास्कर

Ghatol News - जिन्दगी एक साइकिल की तरह है। अगर आपको बैलेंस बनाकर रखना है तो आपको पैडल मारते रहना होगा। -अल्बर्ट आइंस्टीन...

Dainik Bhaskar

Feb 21, 2018, 04:55 AM IST
बांसवाड़ा भास्कर
जिन्दगी एक साइकिल की तरह है। अगर आपको बैलेंस बनाकर रखना है तो आपको पैडल मारते रहना होगा।

-अल्बर्ट आइंस्टीन

बांसवाड़ा, बुधवार, 21 फरवरी, 2018

कुशलगढ़
फाल्गुन, शुक्ल पक्ष-6, 2074

पप्पू के घर रिश्तेदार आए। पप्पू दरवाजा खोलते हुए जोर-जोर से हंसने लगा। रिश्तेदार- ऐसे क्यों हंस रहा है? पप्पू- टीचर ने कहा था कि जब भी मुसीबत आए, उसका सामना हंसते हुए करना।

X
बांसवाड़ा भास्कर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..