• Home
  • Rajasthan News
  • Ghatol News
  • बिजली, पानी और चिकित्सा सुविधाओं को लेकर ग्रामीण एकजुट
--Advertisement--

बिजली, पानी और चिकित्सा सुविधाओं को लेकर ग्रामीण एकजुट

ग्रामपंचायत घाटोल में बिजली, पानी, चिकित्सा समेत मूलभूत सुविधाएं कस्बेवासियों को दिलाने को लेकर शुक्रवार को...

Danik Bhaskar | Jan 06, 2018, 05:41 AM IST
ग्रामपंचायत घाटोल में बिजली, पानी, चिकित्सा समेत मूलभूत सुविधाएं कस्बेवासियों को दिलाने को लेकर शुक्रवार को भाजपा ओबीसी प्रकोष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्रप्रसाद पंचाल की अध्यक्षता में बैठक हुई।

इसमें हनुमान विकास समिति का गठन कर घाटोल का विकास करने के लिए ग्रामीण एकजुट हुए। यहां के 40 परिवाराें ने घाटोल नेगरेट रोड़ का नामकरण हनुमान कॉलोनी रखने का निर्णय लिया। साथ ही नया बसस्टैंड के आगे नेशनल हाईवे क्रोसिंग में सीवरेज नाली बनवाने की जिम्मेदारी राजेंद्रप्रसाद पंचाल को सौंपी।

हनुमान कॉलोनी में रोड़ के दोनों ओर पौधे लगाने, कॉलोनी मोड़ पर 15 फीट ऊंचा बोर्ड लगवाने के लिए जयंतीलाल घाटलिया, बंसीलाल कलाल, रतनपाल मुंगाणिया को प्रभारी बनाया। नया बस स्टैंड को तत्काल प्रभाव से शुरू करवाने, बस स्टैंड परिसर में सुलभ काॅम्पलेक्स शुरू करवाने, पेयजल, बिजली और सफाई व्यवस्था करने, घाटोल में स्वच्छता अभियान चलाने, कस्बे में घूम रहे आवारा मवेशियों को कांजी हाउस पहुंचाने की व्यवस्था करने, कस्बे के सभी मार्गों गली मोहल्लों में लाइटें लगवाने, नालियों की नियमित साफ सफाई करवाने, हनुमान कॉलोनी में पाइप लाइन से शुद्ध पानी पहुंचाने, नया बसस्टैंड परिसर में 15 साल पहले बनी दुकानों की मरम्मत कराकर बेरोजगारों को आवंटित कराने, सब्जी मंडी के लिए पक्के शेड बनवाने का निर्णय लिया।

कस्बे में बाईपास नहीं होने और पर्याप्त ट्रैफिक पुलिस का जाब्ता नहीं के कारण आए दिन हो रहे हादसों के लिए क्षेत्रवासियों ने प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया। ग्रामीणों ने कहा कि 20 हजार से अधिक आबादी वाले कस्बा पंचायत होने के कारण वि मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। उन्होंने घाटोल को नगरपालिका बनाने की मांग को भी पुरजोर तरीके से उठाने की बात कही। बैठक में घाटोल विकास कार्य के लिए कमेटी का गठन किया, इसमें अध्यक्ष जयंतीलाल घाटलिया, उपाध्यक्ष अशोक सैनी, महामंत्री रतनपाल मुंगाणिया, कोषाध्यक्ष बंसीलाल कलाल, मार्गदर्शक राजेंद्रप्रसाद पंचाल को बनाया गया।

मुद्दों के लिए संघर्ष