घाटोल

--Advertisement--

बांसवाड़ा भास्कर

अमरता की कुंजी पहले एक याद रखने लायक जीवन जीने में हैं। -ब्रूस ली बांसवाड़ा, बुधवार, 24 जनवरी, 2018 कुशलगढ़

Dainik Bhaskar

Jan 24, 2018, 07:50 PM IST
अमरता की कुंजी पहले एक याद रखने लायक जीवन जीने में हैं।

-ब्रूस ली

बांसवाड़ा, बुधवार, 24 जनवरी, 2018

कुशलगढ़
माघ, शुक्ल पक्ष-7, 2074

पापा- बेटा तेरी गर्लफ्रेंड है? बेटा- नहीं। पापा-आजकल तो सबकी होती है। थोड़ा सोशल बनो। बेटा- वैसे एक है... पापा- दुष्ट.. तभी फेल होता है हर बार।

X
Click to listen..