Hindi News »Rajasthan »Ghatol» विज्ञान: 11.67 % रिजल्ट घटा, 12 से 29वें स्थान पर पहुंचे हम कॉमर्स: 5 साल में 34% बच्चे कम, रिजल्ट भी 5.83 फीसदी गिरा

विज्ञान: 11.67 % रिजल्ट घटा, 12 से 29वें स्थान पर पहुंचे हम कॉमर्स: 5 साल में 34% बच्चे कम, रिजल्ट भी 5.83 फीसदी गिरा

भास्कर संवाददाता | बांसवाड़ा माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान ने बुधवार शाम को 12वीं साइंस और कॉमर्स संकाय के...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 24, 2018, 03:45 AM IST

  • विज्ञान: 11.67 % रिजल्ट घटा, 12 से 29वें स्थान पर पहुंचे हम कॉमर्स: 5 साल में 34% बच्चे कम, रिजल्ट भी 5.83 फीसदी गिरा
    +1और स्लाइड देखें
    भास्कर संवाददाता | बांसवाड़ा

    माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान ने बुधवार शाम को 12वीं साइंस और कॉमर्स संकाय के परिणाम घोषित कर दिए। विज्ञान का परिणाम 78.71 प्रतिशत व कॉमर्स का 85.37 फीसदी रहा। पिछले साल की तुलना में दोनों विषयों के परिणाम में गिरावट दर्ज की गई। विज्ञान में 11.67 फीसदी जबकि कामर्स में 5.83 फीसदी रिजल्ट कम रहा। विज्ञान में 4340 विद्यार्थियों ने परीक्षा दी, जिसमें 3416 परीक्षार्थी पास हुए। इसी प्रकार कॉमर्स में 369 परीक्षार्थियों में से 315 पास हुए। इस बार भी दोनाें विषयों में लड़कियां का सफलता प्रतिशत ज्यादा रहा। विज्ञान में छात्राओं का परिणाम 81.49 फीसदी और छात्रों का परिणाम 77.11 फीसदी रहा। वहीं कॉमर्स में छात्राओं का परिणाम 96.84 और छात्रों का परिणाम 81.39 प्रतिशत रहा है। 5 साल में कॉमर्स में 577 से घटकर 381 बच्चे रह गए। जबकि साइंस में 1664 से बढ़कर 4404 पहुंच गए। हालांकि विज्ञान में छात्राएं पिछले साल की तुलना में 12.48 फीसदी कम पास हुई है। कॉमर्स में छात्राओं का परिणाम पिछले साल की तुलना में 2.97 फीसदी अधिक रहा है। दोनों ही विषयों में जिला इस बार प्रदेश में 29वें पायदान पर रहा। जबकि पिछले साल विज्ञान में बांसवाड़ा 12वें व कॉमर्स में 16वें स्थान पर था।

    विज्ञान

    4340 विद्यार्थियों ने परीक्षा दी

    3416 विद्यार्थी पास हुए

    पास प्रतिशत : 78.71%

    लड़के

    पास प्रतिशत : 77.11%

    पास प्रतिशत : 81.49%

    4 सालों की स्थिति

    2013-14

    2014-15

    2015-16

    2016-17

    2757 ने परीक्षा दी

    2126 पास हो पाए

    लड़कियां

    1583 ने परीक्षा दी

    1290 पास हुई परिक्षा में

    69.17%

    74.22%

    89.40%

    90.38%

    पांच साल में कॉमर्स में 577 से घटकर 381 रह गए स्टूडेंट, साइंस में 1664 से बढ़कर 4404 पहुंचे

    खुशी की आतिशबाजी

    लड़कों से हमेशा आगे रही लड़कियां

    कॉमर्स विषय में प्रवेशित छात्राओं की संख्या छात्राें के मुकाबले काफी कम हो रही है। फिर भी आॅवरऑल परिणाम बेहतर देने के मामले में छात्राएं हमेशा से आगे रही है। पिछले साल जारी विज्ञान के परिणाम में छात्राओं का प्रतिशत 91.63 फीसदी रहा वहीं छात्र 89.67 फीसदी ही सफल हो सके। कॉमर्स में भी दोनों का परिणाम क्रमश: 93.97 और 90.10 फीसदी रहा। पिछले साल भी विज्ञान में 91.63 व कॉमर्स में 93.97 फीसदी छात्राएं पास हुई थी जबकि छात्रों का सफलता प्रतिशत क्रमश: 89.67 व 90.10 प्रतिशत रहा था।

    105 प्रथम श्रेणी से पास हुए कॉमर्स में

    %

    सरस्वती विद्या मंदिर, घाटोल

    %

    राउमावि बागीदौरा

    विज्ञान- खेरवा सीनियर स्कूल में 20 बच्चे, एक भी पास नहीं हो पाया

    विज्ञान में 30 स्कूलों का परिणाम 100 फीसदी रहा। वहीं दूसरी और 6 स्कूल ऐसे भी हैं, जहां परिणाम 30 फीसदी से कम रहा। इसमें भी राउमावि खेरवा का परिणाम तो शून्य फीसदी रहा। जहां 20 बच्चों ने परीक्षा दी जो सभी फेल हो गए। इसके अलावा गांगडतलाई के सरस्वती विनि का परिणाम भी 9.9 फीसदी रहा। श्रीराम विद्यानिकेतन मोहकमपुरा का 11.76 परिणाम रहा है।

    1784 बच्चे विज्ञान वर्ग में प्रथम श्रेणी से पास हुए

    %

    राउमावि बागीदौरा

    डाक लेने और देने में ही समय निकल गया : पंड्या

    पूर्व डीईओ पुष्पेंद्र पंड्या ने बताया कि शिक्षकों को शिक्षण से दूर अन्य कामों में अधिक व्यस्त रखा जा रहा है। रोजाना सूचना देने के लिए शिक्षक संसाधनों की कमी के कारण दूसरे कंप्यूटर सेंटर पर ही समय बिताते हैं। विभाग की ऑब्जर्वेशन टीम शिक्षा की गुणवत्ता को नहीं परख रही और सूचनाएं ही एकत्रित करती है। यहीं कारण है कि परिणामों में गिरावट आती है। दूसरा कारण यह भी है कि बच्चों की साइंस और कॉमर्स विषय में रुचि कम है। जिन्हें यह कठिन लगता है। 10वीं पास होने के बाद दूसरे दोस्तों को देख अधिकांश बच्चे यह विषय चयन कर रहे हैं।

    विज्ञान में 52 फीसदी व कॉमर्स में 33 फीसदी प्रथम

    पिछले कुछ सालों से परीक्षा परिणाम और विद्यार्थियों के परीक्षा देने की संख्या पर गौर करें तो बांसवाड़ा जिले में बच्चों का कॉमर्स विषय के प्रति रूझान लगातार कम हो रहा है। इसके उलट 10वीं पास करने के बाद अधिकांश विद्यार्थियों ने विज्ञान के विषयों में अपनी रुचि बढ़ाई है। जिस कारण परीक्षार्थियों की संख्या में हर साल बढ़ोतरी हो रही है। रिजल्ट में विज्ञान में 52 फीसदी और कॉमर्स में 33 फीसदी प्रथम रहे हैं।

    कॉमर्स- 10 स्कूलों ने दिया 100 फीसदी परिणाम, 4 निजी स्कूल

    कॉमर्स में करीब 10 स्कूलों ने 100 फीसदी परिणाम रहा। निचला घंटाला, आबापुरा, तैयबिहा अंग्रेजी माध्यम स्कूल, राजकीय स्कूल परतापुर, बागीदौरा, कुशलगढ़, भारद्वाज पब्लिक स्कूल घाटोल, नासा एकेडमी, लोहारिया, सरस्वती स्कूल उदाजी का गढ़ा ने 100 फीसदी परिणाम दिए। बड़ोदिया का परिणाम 35 फीसदी रहा।

    35 फीसदी रिजल्ट ही रहा बड़ोदिया स्कूल में

  • विज्ञान: 11.67 % रिजल्ट घटा, 12 से 29वें स्थान पर पहुंचे हम कॉमर्स: 5 साल में 34% बच्चे कम, रिजल्ट भी 5.83 फीसदी गिरा
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ghatol

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×