Hindi News »Rajasthan »Ghatol» गढ़ी-परतापुर का 7वां गेहूं खरीद केंद्र, खुला अब तक 67 किसानों से लिया 5819 क्विंटल गेहूं

गढ़ी-परतापुर का 7वां गेहूं खरीद केंद्र, खुला अब तक 67 किसानों से लिया 5819 क्विंटल गेहूं

बांसवाड़ा। जिले के गढ़ी-परतापुर में भी शनिवार को एफसीआई ने अपना खरीद खोल दिया। यहां पहले ही दिन तौल भी शुरू हो गया।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 08, 2018, 06:00 AM IST

गढ़ी-परतापुर का 7वां गेहूं खरीद केंद्र, खुला अब तक 67 किसानों से लिया 5819 क्विंटल गेहूं
बांसवाड़ा। जिले के गढ़ी-परतापुर में भी शनिवार को एफसीआई ने अपना खरीद खोल दिया। यहां पहले ही दिन तौल भी शुरू हो गया। एफसीआई ने अपने छह केंद्रों पर अब तक 67 किसानों से 5 हजार 819 क्विंटल गेहूं की खरीद कर ली है। इस दरम्यान 450 किसान ई-टोकन हासिल कर समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए कतार में आ गए। इधर, बांसवाड़ा मंडी में राजफेड के अधीन केंद्र पर शनिवार को भी किसी किसान ने गेहूं नहीं बेचा।

एफसीआई के डिपो प्रबंधक बनवारीलाल मीणा के निर्देशन में गढ़ी के डाइट परिस में टीम ने केंद्र की शुरुआत की। यहां तीन किसानों ने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन किया। बाद में पहले किसान रतन पाटीदार का 25.5 क्विंटल गेहूं तौला गया। इस बीच, बड़ोदिया, छींच, घाटोल, तलवाड़ा और गनोड़ा के केंद्रों पर भी तौल का क्रम जारी रहा। सभी केंद्रों पर पूरे दिन में 33 किसानों से 3006 क्विंटल गेहूं खरीदा गया। इधर, राजफेड के एकमात्र कृषि उपज मंडी बांसवाड़ा केंद्र पर अब तक एक भी किसान का गेहूं तौला नहीं जा सका। असल में यहां 11 किसानों ने रजिस्ट्रेशन करवाया, लेकिन राजफेड की साइट पर तारीख शो नहीं होने से किसानों को बुलावा नहीं भेजा सका। किसान खुद भी गेहूंं लेकर नहीं पहुंचे। यहां राजफेड के लिए खरीद कर रही बांसवाड़ा क्रय-विक्रय सहकारी समिति की टीम दिनभर बैठी रही। समिति व्यवस्थापक परेश पंड्या ने बताया कि अब रजिस्टर्ड किसानों को कॉल करके सोमवार को तौल के लिए बुलाया जाएगा।

गेहूं खरीद केंद्र पर तौल करवाते हुए कर्मचारी और किसान।

गलत ई-टोकन बनाने पर बनवाए दोबारा, बड़ोदिया में गेहूं रिजेक्ट भी

ऑनलाइन प्रक्रिया में चूक के चलते शनिवार को कुछ किसानों के गलत टोकन बनने पर एफसीआई की टीम ने उन्हें निरस्त कर नए रजिस्ट्रेशन भी करवाए। सारा काम ऑनलाइन होने से ई-टोकन के आधार पर ही मंडी से लेकर एफसीआई डिपो तक सिस्टम से काम संभव है। ऐसे में गलत ई-टोकन बनने पर सॉफ्टवेयर में एडिट ऑप्शन नहीं होने से नए बनाने पड़े। उधर, बड़ोदिया केंद्र पर गेहूं में मिट्टी की शिकायत शनिवार को भी रही। ज्यादा दिक्कत आने पर क्वालिटी इंस्पेक्टर ने जांच के बाद कुछ किसानों का गेहूं रिजेक्ट भी किया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ghatol

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×