• Hindi News
  • Rajasthan
  • Gulabpura
  • दस साल पहले हर साल 500 यूनिट रक्तदान होता था, अब यह आंकड़ा 4000 तक पहुंचा
--Advertisement--

दस साल पहले हर साल 500 यूनिट रक्तदान होता था, अब यह आंकड़ा 4000 तक पहुंचा

Dainik Bhaskar

May 07, 2018, 04:00 AM IST

Gulabpura News - भास्कर संवाददाता | गुलाबपुरा रक्तदान को लेकर लोगों में जागरूकता आई है। नतीजा यह रहा कि 10 साल पहले जहां हर साल 500...

दस साल पहले हर साल 500 यूनिट रक्तदान होता था, अब यह आंकड़ा 4000 तक पहुंचा
भास्कर संवाददाता | गुलाबपुरा

रक्तदान को लेकर लोगों में जागरूकता आई है। नतीजा यह रहा कि 10 साल पहले जहां हर साल 500 यूनिट रक्तदान होता था, अब यह आंकड़ा बढ़कर हर साल करीब 4000 यूनिट हो गया है।

उपखंड प्रशासन की पहल पर अब अन्य संस्थाओं के साथ राजकीय कर्मचारी संगठन भी अभियान से जुड़ गए हैं। कुछ दिन पहले गुलाबपुरा में आयोजित शिविर में 151 यूनिट रक्तदान हुआ। रक्तदान के लिए जागृति लाने में क्षेत्र की स्वयंसेवी, सामाजिक संस्थाओं एवं आमजन का योगदान रहा है। रक्तदान को लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में भी जागरूकता आई है। गुलाबपुरा सहित हुरड़ा, आगूंचा, भोजरास, खारी का लांबा, गागेड़ा, खेजड़ी, कानिया, कंवलियास, रूपाहेली, सरेरी, जिंक कॉलोनी आदि क्षेत्रों में वर्षभर में 20 रक्तदान शिविर आयोजन होते हैं। यहां संग्रहित होने वाला रक्त भीलवाड़ा, अजमेर, उदयपुर और जयपुर के ब्लड बैंक भिजवाया जाता है।

राजेंद्र माहेश्वरी करते हैं रक्तदान के लिए प्रेरित

आगूंचा निवासी राजेंद्र माहेश्वरी शिक्षक हैं। वे 10 वर्षों से रक्तदान जागृति के लिए विशेष प्रयास कर रहे हैं। एक वेबसाइट केबीएसबीएल ओओडी हेल्प डाॅट ओआरजी भी संचालित की जा रही है। इस वेबसाइट पर देशभर के रक्तदाताओं का डाटा है। यह डाटा अपडेट होता रहता है। रक्त की जरूरत होने पर हेल्पलाइन नंबर 9214002424 भी संपर्क किया जा सकता है। माहेश्वरी रक्तदान के लिए युवाओं को प्रेरित करते हैं। माहेश्वरी को रक्तदान के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य पर पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल सम्मानित कर चुकी हैं।

X
दस साल पहले हर साल 500 यूनिट रक्तदान होता था, अब यह आंकड़ा 4000 तक पहुंचा
Astrology

Recommended

Click to listen..