• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Gulabpura News
  • बीसलपुर से कम मिल रहा पानी, शहर में 96 व पटरी पार क्षेत्र में 144 घंटे में हो रही सप्लाई, टैंकर ही सहारा
--Advertisement--

बीसलपुर से कम मिल रहा पानी, शहर में 96 व पटरी पार क्षेत्र में 144 घंटे में हो रही सप्लाई, टैंकर ही सहारा

भास्कर संवाददाता | गुलाबपुरा बीसलपुर से पानी की आवक कम होने से कस्बे में जलापूर्ति का अंतराल बढ़ गया। पहले शहर...

Dainik Bhaskar

May 04, 2018, 04:10 AM IST
बीसलपुर से कम मिल रहा पानी, शहर में 96 व पटरी पार क्षेत्र में 144 घंटे में हो रही सप्लाई, टैंकर ही सहारा
भास्कर संवाददाता | गुलाबपुरा

बीसलपुर से पानी की आवक कम होने से कस्बे में जलापूर्ति का अंतराल बढ़ गया। पहले शहर में 72 घंटे में पानी मिल रहा था। अब अंतराल बढ़ाकर 96 घंटे कर दिया गया। वहीं पटरी पार क्षेत्र में 96 घंटे में होने वाली सप्लाई 144 घंटे के अंतराल में की जा रही है। वर्ष 2015 में लिए गए निर्णय के अनुसार बीसलपुर से 16 लाख लीटर पानी मिलना चाहिए, लेकिन अभी प्रतिदिन 10 लाख लीटर पानी ही मिल रहा है।

इस कारण अंतराल बढ़ गया है। कई मोहल्लों में तो 8 से 10 दिन के अंतराल में जलापूर्ति हो रही है। जलदाय विभाग की कनिष्ठ अभियंता साइनो बानो ने बताया कि बीसलपुर से पेयजल आपूर्ति औसत 10 लाख लीटर हो रही है। प्रयास कर रहे हैं कि कस्बे की सप्लाई 96 घंटे के अंतराल में हो जाए। बीसलपुर में पानी की कमी नहीं है, फिर भी पानी कम मिल रहा है। सहायक अभियंता एसके गुप्ता ने बताया कि बीसलपुर से आपूर्ति बढ़ाने के लिए उच्च अधिकारियों को अवगत करा रहे हैं, लेकिन आपूर्ति नहीं बढ़ पा रही है। विभाग के पास वैकल्पिक व्यवस्था नहीं है। पटरी पार क्षेत्र में वर्तमान में करीब 144 घंटे के अंतराल से पानी मिल रहा है।

शाहपुरा | चंबल परियोजना के तहत तीन ओवरहेड टैंक से कस्बे में जलापूर्ति की जा रही है। कई दिनों से लोगों को दूषित पानी मिल रहा है। इससे लोग उल्टी-दस्त का शिकार हो रहे हैं। कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के ब्लॉक अध्यक्ष व पार्षद इशाक खान कायमखानी, पूर्व पार्षद सुभाष व्यास ने बताया कि कई दिनों से कस्बे में मटमैला पानी सप्लाई हो रहा है। कई बार जलदाय अफसरों को बताया, लेकिन व्यवस्था में सुधार नहीं किया। दूषित जल की शिकायत करने पर अगली सप्लाई में देखने की बात कही जाती है। कनिष्ठ अभियंता अक्षय कुमार ने सप्लाई के दौरान जल की गुणवत्ता जांचने की बात कही।


युवा की पहल

भगवानपुरा

में 20 साल से कुआं मालिक बुझा रहा प्यास

बालानगर में 50 परिवारों की बस्ती है। पानी में फ्लोराइड की मात्रा ज्यादा होने से लोगों को कुएं व बावडिय़ों से पानी लेकर आना पड़ रहा है। बाला नगर से 500 मीटर दूर अपने कुएं से रामेश्वरलाल पुरोहित 20 सालों से पूरे गांव के लोगों की प्यास बुझा रहे हैं। रामेश्वर लोगों को पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए सुबह-शाम कुएं पर पहुंच जाते हैं। कुएं पर लोगों की भीड़ लगी रहती है। गांव में नल योजना नहीं होने से लोग ज्यादा परेशान हो रहे हैं। गांव में 3 हैंडपंप हैं, जिसमें फ्लोराइडयुक्त पानी है। वार्डपंच सुरेशानंद शास्त्री ने बताया कि कई बार अधिकारियों को चंबल योजना से जोड़ने के लिए कहा, लेकिन चंबल का पानी अब तक नहीं मिल पाया है।


फूलियाकलां | चंबल परियोजना की पाइप लाइन डलवाने एवं सड़क बनाने की मांग को लेकर तसवारिया बांसा पंचायत के जाटों का नोहरा के ग्रामीणों ने गुरुवार को उपखंड अधिकारी के नाम ज्ञापन दिया। इसमें 7 दिन में मांग पूरी नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी गई। उपखंड अधिकारी के नाम तहसील कार्यालय के एकाउंटेंट लोकेश चौधरी को दिए ज्ञापन में ग्रामीणों ने बताया कि बस्ती में जल संकट गंभीर है। तसवारिया बांसा में चंबल परियोजना की पाइप लाइन डाल दी गई। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि जाटों का नोहरा बस्ती में चंबल की लाइन डालने के लिए दो माह पूर्व सभी घरों से 200 -200 रुपए एकत्र कर सिक्योरिटी के तौर पर ठेकेदार को नकद दे दिए। इसके बावजूद नई लाइन नहीं डाली जा रही है। ग्रामीणों ने जाटों का नोहरा बस्ती में पक्की सड़क बनाने की मांग भी की। गुरुवार को उपखंड अधिकारी एवं तहसीलदार के बांसेडा ग्राम मे न्याय आपके द्वार शिविर मे होने के चलते तहसील कार्यालय के एकाउंटेंट को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान मनभर जाट, कोयली जाट, कमला जाट, मगनी जाट, केदार, कन्हैया लाल, रामराज, राजेंद्र जाट, परमेश्वर जाट, किशनलाल जाट, बनवारी लाल , हेमराज जाट सहित अन्य ग्रामीण मौजूद थे।


कोठियां | अवैध नल कनेक्शन से सप्लाई प्रभावित हो रही है। गांव में करीब 10 दिन से सप्लाई नहीं आने से लोगों में रोष है। गांव में हाल ही में चंबल का पानी पहुंच गया, लेकिन ग्रामीणों को चंबल का पानी नहीं मिल रहा। पाइप लाइन से कुछ लोगों ने सीधे कनेक्शन ले रखे हैं। इससे ऊंचाई वाले क्षेत्र में पर्याप्त पानी नहीं पहुंच रहा है। कई बार शिकायत करने के बावजूद विभाग ध्यान नहीं दे रहा है। पेयजल सप्लाई देने के लिए कर्मचारी पूरे नहीं हैं। इससे भी व्यवस्था प्रभावित हो रही है।

X
बीसलपुर से कम मिल रहा पानी, शहर में 96 व पटरी पार क्षेत्र में 144 घंटे में हो रही सप्लाई, टैंकर ही सहारा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..