• Home
  • Rajasthan News
  • Gulabpura News
  • नाकाबंदी तोड़ भागी एंबुलेंस को पुलिस ने 25 किमी पीछा कर पकड़ा, तलाशी में मिला 115 किलो डोडा-चूरा, चालक ही तस्कर
--Advertisement--

नाकाबंदी तोड़ भागी एंबुलेंस को पुलिस ने 25 किमी पीछा कर पकड़ा, तलाशी में मिला 115 किलो डोडा-चूरा, चालक ही तस्कर

भास्कर संवाददाता | भीलवाड़ा मादक पदार्थों के धंधे में लगा चालक रविवार रात एंबुलेंस में डोडा चूरा भर कर ला रहा...

Danik Bhaskar | May 08, 2018, 04:40 AM IST
भास्कर संवाददाता | भीलवाड़ा

मादक पदार्थों के धंधे में लगा चालक रविवार रात एंबुलेंस में डोडा चूरा भर कर ला रहा था। बरड़ोद चौराहा पर हमीरगढ़ पुलिस की नाकाबंदी में रुकने के बजाय गति बढ़ाते हुए भागा तो पुलिस ने करीब 25 किमी पीछा कर एंबुलेंस को पकड़ा तथा पांच कट्टों में भरा करीब 115 किलो डोडा चूरा जब्त कर बीकानेर के बीजासर निवासी युवक को गिरफ्तार किया।

हमीरगढ़ पुलिस को गत रात करीब सवा 11 बजे मुखबीर से सूचना मिली कि चित्तौड़गढ़ की तरफ से किसी वाहन में अफीम डोडा चूरा भीलवाड़ा की तरफ जाना है। इस पर एसएचओ भारत रावत के नेतृत्व में पुलिस ने बरड़ोद चौराहा पर नाकाबंदी शुरू कर दी। देर रात करीब 12 बजे चित्तौड़गढ़ की तरफ से आई गंगानगर पासिंग एंबुलेंस को रुकने का इशारा किया, लेकिन चालक ने रोकने के बजाय उसकी गति बढ़ाई और भाग निकला। इस पर एसएचओ के नेतृत्व में टीम ने एंबुलेंस का रामधाम तक व उसके बाद स्वरूपगंज तक करीब पीछा कर एंबुलेंस को पकड़ा तो उसमें मरीज के बजाय पांच कट्टों में अफीम डोडा चूरा भरा मिला। पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट में मामला दर्ज कर डोडा चूरा से भरी एंबुलेंस जब्त किया। तस्करी के आरोप में बीकानेर जिले के बीजासर निवासी मामराज पुत्र तेजाराम जाट को गिरफ्तार किया। पूछताछ में उसने बताया कि वह एंबुलेंस चालक हैं तथा निंबाहेड़ा के पास से डोडा चूरा भर कर बीकानेर जा रहा था। वह मादक पदार्थों की खरीद-फरोख्त करता है। पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट में मामला दर्ज कर जांच सदर एसएचओ को सौंपी है।

हर साल बढ़ रहे मादक पदार्थों की तस्करी के मामले

जिले में मादक पदार्थों की तस्करी के मामले हर साल बढ़ रहे हैं। वर्ष 2015 में महज 23 मामले दर्ज हुए, जो 2016 में बढ़कर 60 तक पहुंच गए। 2017 में यह आंकड़ा बढ़कर 88 पर पहुंच गया। अधिकाशंतः इस अवैध धंधे में लगे लोग चित्तौड़गढ़ जिले के विभिन्न कस्बों व गांवों से माल लेकर आते हैं। इसका कारण वहां बहुतायत से अफीम की खेती होती है। गत साल चित्तौड़ की तरफ से मादक पदार्थ लाने वालों को बीगोद, मांडलगढ़, हमीरगढ़, पुर, मांडल, रायला, गुलाबपुरा आदि थानों की पुलिस ने पकड़ा था। कुछ तस्करों ने मध्यप्रदेश के नीमच से भी डोडा चूरा लाने की बात कही थी।

भीलवाड़ा. एबुलेंस में बोरों में भरकर ले जाया जा रहा डोडा चूरा।

निंबाहेड़ा से भरा, बीकानेर बेचने जा रहा था

मामले की जांच कर रहे सदर एसएचओ राकेश वर्मा का कहना हैं कि एंबुलेंस चालक ने निंबाहेड़ा के पास से डोडा चूरा से भरे पांच कट्टे एंबुलेंस में रखे तथा उन्हें बेचने के लिए वह बीकानेर जा रहा था। अधिकाशंतः पुलिस एंबुलेंस की जांच नहीं करती हैं, इसे देखते हुए उसने डोडा चूरा भरा, लेकिन मुखबीर की सूचना से वह पुलिस के हत्थे चढ़ गया। उससे पूछताछ कर यह पता लगाया जा रहा है कि तस्करी में वह अकेला था या उसका कोई साथी भी था, यह मौके पर पहुंच जांच करने से ही सामने आएगा।