• Home
  • Rajasthan News
  • Gulabpura News
  • श्रद्धालुओं की कार पुलिया से टकराई, बालिका समेत तीन की मौत, ससुर-दामाद की आंखें दान की, 4 लोगों को मिलेगी रोशनी
--Advertisement--

श्रद्धालुओं की कार पुलिया से टकराई, बालिका समेत तीन की मौत, ससुर-दामाद की आंखें दान की, 4 लोगों को मिलेगी रोशनी

भास्कर संवाददाता | हुरड़ा/ बिजयनगर गुलाबपुरा थाना क्षेत्र में सोमवार तड़के हादसे में दो साल की बच्ची सहित तीन...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 04:45 AM IST
भास्कर संवाददाता | हुरड़ा/ बिजयनगर

गुलाबपुरा थाना क्षेत्र में सोमवार तड़के हादसे में दो साल की बच्ची सहित तीन लोगों मौत हो गई। ये लोग आसींद में नाकोड़ा भैरूजी की भजन संध्या से देर रात कार से बिजयनगर लौट रहे थे। इनकी कार एक पुलिया की दीवार से टकरा गई। हादसे में चार अन्य घायल हैं। हार्डवेयर व्यवसायी व उनके ससुर के मरणोपरांत नेत्रदान कराए गए हैं।

थाना निरीक्षक सतीश मीणा ने बताया कि बिजयनगर के पोखरना व मंडिया परिवार के सदस्य आसींद स्थित श्रीमाल वाटिका में रविवार को आयोजित नाकोड़ा भैरूजी की भजन संध्या से बिजयनगर जा रहे थे। सोमवार तड़के करीब तीन बजे गागेड़ा में खारिया तालाब के पास पुलिया की दीवार से स्विफ्ट डिजायर कार अनियंत्रित होकर टकरा गई। टक्कर इतनी तेज थी कि कार आगे से पूरी तरह बिखर गई। इसमें बिजयनगर के सथाना बाजार निवासी हार्डवेयर व्यवसायी वीरेंद्र (32) पुत्र राजेंद्र पोखरना, उनके ससुर पुखराज (54) पुत्र माणकचंद मंडिया की मौके पर ही मौत हो गई। मंडिया न्यू लाइट कॉलोनी में रहते थे जिनका हैदराबाद में आभूषणों का व्यवसाय था। वीरेंद्र की दो वर्षीय बेटी जिनिशा की गुलाबपुरा के अस्पताल में सांस थम गई। हादसे में घायल वीरेंद्र की प|ी ज्योति (28), छोटे भाई अतुल, पुत्र जेनिथ (4) व सास लीलादेवी (55) को गुलाबपुरा से भीलवाड़ा के बांगड़ अस्पताल में ले जाया गया। सभी की हालात खतरे से बाहर बताई जा रही है। वहीं, गुलाबपुरा मोर्चरी में पोस्टमार्टम के बाद तीनों शव परिजनों को सुपुर्द कर दिए गए।

आज था जिनिशा का जन्मदिन

दो साल की मासूम जिनिशा का मंगलवार को जन्मदिन मनाया जाना था। परिवार में उसके जन्मदिन पर समारोह की तैयारी की जा रही थी।

समाजसेवा में सक्रिय थे पोखरना, मंडिया का था हैदराबाद में व्यवसाय

वीरेंद्र पोखरना

पुखराज मंडिया

व्यवसायी वीरेंद्र पोखरना व पुखराज मंडिया के नेत्र जैन सोशल ग्रुप की प्रेरणा से परिवारजनों दान कराए गए। ग्रुप के अध्यक्ष मंडिया के चचेरे भाई सुखराज हैं। वे भाविप, लायंस क्लब आदि संस्थाओं के सहयोग से नेत्रदान कराने में सक्रिय हैं। गुलाबपुरा अस्पताल में नेत्र उत्सर्जित कर अजमेर के जेएलएन अस्पताल के आई बैंक भिजवा दिए गए। इस दौरान गुलबापुरा पालिकाध्यक्ष धनराज गुर्जर सहित कई समाजजन, परिजन व गुलाबपुरा-बिजयनगर के व्यवसायी मौजूद थे। व्यवसाई वीरेंद्र पोखरना समाजसेवा में सक्रिय रहे। वे जैन सोशल ग्रुप बिजयनगर की युवा शाखा के कोषाध्यक्ष थे। पोखरना के निधन पर समाजजनों ने शोक व्यक्त किया।

दो स्थानों से निकली शवयात्राएं, बीच रास्ते में हुई साथ

हादसे से बिजयनगर में शोक का माहौल रहा। शाम 4 बजे वीरेंद्र व पुत्री जिनिशा की अर्थी सथाना बाजार स्थित निवास से उठी। पुखराज मंडिया की शव यात्रा न्यू लाइट कॉलोनी स्थित निवास से रवाना हुई। तीनों अर्थियां बालाजी मंदिर के पास एक साथ हुई। जहां से खारीतट स्थित स्वर्गाश्रम पर साथ अंतिम संस्कार हुआ।