--Advertisement--

डिवाइडर नहीं, विकट मोड़ भी बना रहे हाईवे को जानलेवा

शाहपुरा | नागौर-संतूर राष्ट्रीय राजमार्ग भीलवाड़ा जिले में गुलाबपुरा से हुरड़ा, कोठियां, शाहपुरा, पंडेर, जहाजपुर,...

Danik Bhaskar | May 13, 2018, 04:45 AM IST
शाहपुरा | नागौर-संतूर राष्ट्रीय राजमार्ग भीलवाड़ा जिले में गुलाबपुरा से हुरड़ा, कोठियां, शाहपुरा, पंडेर, जहाजपुर, शक्करगढ़ होते हुए निकलता है। मात्र डेढ़ महीने पहले इसे शुरू किया गया।

शाहपुरा से 12 किलोमीटर दूर टोल प्लाजा भी बनकर तैयार है। इस पर जल्दी ही टोल वसूली शुरू होगी। इस राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण में रहीं तकनीकी खामियां जानलेवा साबित हो रही है। घूमावदार व अंधे मोड़, संपर्क सड़कों के पास एकदम तेज ढलान, संपर्क सड़कों के मिलने के स्थान पर डिवाइडर नहीं होना, दुर्घटनाग्रस्त संभावित क्षेत्र में गति नियंत्रक संकेतक या सूचना पट्ट का अभाव आदि हादसो का कारण बन रहे हैं। राजमार्ग पर 50 दिन के दौरान नौ ऐसे हादसे हुए हैं जिनमेें लोगों की जान गई हैं। शुक्रवार को ही जहाजपुर के पास चार लोगों की मौत हुई है।

तकनीकी जानकारों के अनुसार दुर्घटनाएं निर्माण कार्यों में खामियों की वजह से हुई हैं। दुर्घटना के बाद प्रशासनिक अधिकारी राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों को बताते भी हैं बावजूद इसके तकनीकी खामियां दूर नहीं की जा रही हैं। ऐसे में यह राजमार्ग हादसों का कारण बना रहेगा।