--Advertisement--

दलित संगठनों ने किया कल भारत बंद का आह्वान

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 04:50 AM IST

Hanumangarh News - सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी/एसटी एक्ट में दिए गए फैसले के विरोध में दलित संगठनों ने भारत बंद के राष्ट्रीय आह्वान पर...

दलित संगठनों ने किया कल भारत बंद का आह्वान
सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी/एसटी एक्ट में दिए गए फैसले के विरोध में दलित संगठनों ने भारत बंद के राष्ट्रीय आह्वान पर दो अप्रैल को हनुमानगढ़ बंद करने का निर्णय लिया है। इसको लेकर बैठक दलित संगठनों के पदाधिकारियों की शनिवार को नगरपरिषद सभागार में बैठक हुई। बैठक को संबोधित करते हुए सुरेंद्र गोंद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से दलित वर्ग की सुरक्षा खतरे में पड़ गई। इस फैसले से दलितों पर अत्याचार बढ़ेगा। डांगावास कांड, डेल्टा कांड, उना कांड, सहारणपुर कांड, रोहित वेमुला कांड, भीमा कोरेगांव कांड जैसी घटनाओं में बढ़ोतरी हो जाएगी। बृजलाल निनाणिया ने कहा कि हम सभी को बंद को सफल बनाना है। वहीं वाल्मिकी समाज के सफाई कर्मचारियों ने सामूहिक अवकाश लेकर भारत बंद में शामिल होने का आश्वासन दिया। वक्ताओं ने कहा कि अब समय आ गया है कि जब एससी एसटी वर्ग में आने वाले सभी समाजों को एकजुट होकर सरकार के सामने अपनी एकता का परिचय देना होगा। वक्ताओं ने सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दायर करने की बात कही। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार एक-एक कर दलित वर्ग के हितों पर कुठाराघात कर रही है। दो अप्रैल को बंद के आह्वान पर रैली निकालकर दुकानदारों को गुलाब के फूल देकर बंद की अपील की जाएगी। इसको लेकर रविवार सुबह 11 बजे जंक्शन में रविदास मंदिर में बैठक में पहुंचने पर बल दिया गया। इस मौके पर पार्षद सेवाराम नागर, राजेश पंवार, विनोद कायथ, पवन मौर्य, विनोद पिवाल आदि मौजूद थे। वहीं खटीक समाज ने भी बंद का समर्थन किया है। जंक्शन में जीन माता मंदिर में झाबरमल बागड़ी की अध्यक्षता में हुई बैठक में समाज के लोगों ने बंद में शामिल होने का निर्णय लिया। इस मौके पर मनोज बड़सीवाल, रतन सांखला, सुरेंद्र खटीक, बंटी, सुरेश बडगुजर,परमानंद, मुकेश आदि मौजूद थे।

पक्कासारणा|संविधान से छेड़छाड़ एवं एससी एसटी एक्ट को निष्प्रभावी किए जाने के विरोध व भीम सेना के संयोजक चंद्रशेखर की रिहाई के लिए सोमवार को प्रस्तावित भारत बंद के आहन के तहत पुरानी धर्मशाला में सर्वसमाज के लोगों की बैठक हुई। इस मौके पर धर्मपाल कटारिया, महीराम चालिया, राधेश्याम गोदारा आदि ने विचार प्रकट किये व प्रमुख लोगों की कमेटी बनाई। इस मौके पर पंचायत समिति डायरेक्टर बेगराज कटारिया, उपसरपंच कृष्ण लाल, पूर्व डायरेक्टर गुरदीप सिंह, पूर्व सरपंच कालूराम सोलंकी, राधेश्याम गोदारा, पूर्व उपसरपंच बनवारी लाल, वार्ड पंच इमीलाल, नरेश कटारिया, महेंद्र बाजीगर, जसपाल भट्टी, महेंद्र सहारण, अश्वनी कुमार, सुनिल बारूपाल आदि लोगों को कमेटी में लिया गया है। जो घर घर जाकर भारत बंद के लिए जागरूकता पैदा करेंगे। ग्रामीणों द्वारा इस विषय में तहसीलदार को ज्ञापन भी सौंपा गया है।

पक्कासारणा

भारत बंद में पूरा योगदान देने के लिए बैठक

संगरिया| अनुसूचित जाति, जनजाति की समाज की बैठक जिला अध्यक्ष एडवोकेट हरमीत सिंह बलजोत की अध्यक्षता में शनिवार को हुई । सर्वसमाज ने निर्णय लिया कि 2 अप्रैल को देशव्यापी भारत बंद के तहत संगरिया बाजार बंद किया जाएगा। अनुसूचित जाति जनजाति एक्ट के संबंध में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए निर्णय तुरंत गिरफ्तारी पर रोक व जांच के लिए उच्च स्तर की अनुमति के संबंध में भारत सरकार से पुनर्विचार याचिका दायर करने पर चर्चा की। बैठक में हंसराज किलानिया, सत्यपाल, भागीरथ, रवि कुमार, शिव बारूपाल, भोपाल मेहरड़ा, हंसराज, चंद्रशेखर, महावीर राठी, दौलतराम पूर्व सरपंच सलीवाला, दलीप भाटिया आदि मौजूद थे।

भादरा| एससी एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट द्वारा किए गए संशोधन केविरोध में बहुजन समाज पार्टी व भीम आर्मी के द्वारा 2 अप्रैल को प्रस्तावित भारत बंद के समर्थन में भीम आमी व बसपा कार्यकर्ताओं बसपा नेता राजीव कस्वां के नेतृत्व में संयुक्त व्यापार मण्डल के अध्यक्ष चम्पालाल गोयल को ज्ञापन देकर भादरा बाजार बंद रखने की अपील की। इस मौके पर बसपा तहसील अध्यक्ष मोहनलाल धानक, भीम आर्मी के तहसील अध्यक्ष मुकेश चौपड़ा, बसपा कोषाध्यक्ष ओम स्वामी, रायसाहब, पवन सुड्डा समेत अनेक बसपा कार्यकर्ता उपस्थित थे। अखिल भारतीय सफाई मजदूर संघ के कार्यकर्ताओं ने भी सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी एसटी एक्ट में किए गए संशोधन के विरोधस्वरूप नगर अध्यक्ष शशि गोगडिय़ा के नेतृत्व में 2 अप्रैल को भादरा बंद रखने का निर्णय लिया है। एसडीएम को ज्ञापन सौंपेगें व प्रस्तावित भारत बंद के समर्थन में भादरा बाजार बंद करवाएंगे।

X
दलित संगठनों ने किया कल भारत बंद का आह्वान
Astrology

Recommended

Click to listen..