हनुमानगढ़

  • Hindi News
  • Rajasthan News
  • Hanumangarh News
  • किसानों का ऐलान: जनप्रतिनिधियों व अफसरों को सब्जी चाहिए तो भामाशाह कार्ड व ई मित्र पर रजिस्ट्रेशन जरूरी
--Advertisement--

किसानों का ऐलान: जनप्रतिनिधियों व अफसरों को सब्जी चाहिए तो भामाशाह कार्ड व ई मित्र पर रजिस्ट्रेशन जरूरी

पवन तिवाड़ी/राकेश वर्मा| श्रीगंगानगर अगर आप जनप्रतिनिधि, अधिकारी या मंत्री हैं तो आपको सब्जी तो मिलेगी पर एक...

Dainik Bhaskar

Jun 02, 2018, 03:00 AM IST
किसानों का ऐलान: जनप्रतिनिधियों व अफसरों को सब्जी चाहिए तो भामाशाह कार्ड व ई मित्र पर रजिस्ट्रेशन जरूरी
पवन तिवाड़ी/राकेश वर्मा| श्रीगंगानगर

अगर आप जनप्रतिनिधि, अधिकारी या मंत्री हैं तो आपको सब्जी तो मिलेगी पर एक प्रक्रिया के तहत। इन लोगों को किसान सब्जी तभी देंगे, जब वे भामाशाह कार्ड ई-मित्र पर ले जाकर रजिस्ट्रेशन करवाएंगे। इसके बाद इनके मोबाइल पर मैसेज आएगा। फिर उसी दिन उन्हें सब्जी दी जाएगी। आपको बता दें कि सरकार ने इसी प्रक्रिया के तहत इस बार किसानों से सरसों-चना की खरीद की थी। अब किसानों ने भी 1 से 10 जून की हड़ताल में इसी नियम से मंत्रियों व अफसरों के लिए सब्जी बेचना तय किया है। पहले दिन शहर के हर प्रवेश मार्ग पर किसानों ने सात नाके लगाए।

किसान आंदोलन के पहले दिन गांवों में लगाए धरने, रैलियां भी निकाली, शहरी क्षेत्र में महसूस नहीं हुई सब्जी व दूध की किल्लत

हनुमानगढ़|किसान संगठनों के आह्वान पर दस दिवसीय गांव बंद के पहले दिन ग्रामीण क्षेत्र में खासा असर देखने को मिला। जिले में कई जगह किसानों ने धरने लगाए और रैलियां निकाली। खासतौर पर संगरिया व हनुमानगढ़ तहसील क्षेत्र में किसान संगठनों से जुड़े नेता पूरा दिन सक्रिय रहे। हालांकि शुक्रवार को शहरी क्षेत्र में दूध, सब्जी व अन्य जरूरी वस्तुओं की कोई किल्लत नजर नहीं आई। इसकी वजह गुरुवार को देर रात को ही सब्जियां पहुंचना बताया जा रहा है। उधर, दूध की किल्लत आने की आशंका नजर आ रही है। इसे लेकर जंक्शन व टाउन के दूध विक्रेताओं ने शुक्रवार को कलेक्टर को ज्ञापन भी सौंपा। ऐसा कहा जा रहा है कि कई जगह दूध लेकर आने वालों को जबरन रोककर दूध बिखेर दिया गया लेकिन इस संबंध में काेई रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई। गंगमूल डेयरी में दूध की आवक भी शुक्रवार को काफी कम हो गई। डेयरी के कई चिलिंग सेंटर्स के सामने भी किसान धरना लगाकर बैठे रहे। इसके अलावा डेयरी से जुड़ी दुग्ध समितियों ने भी दूध आपूर्ति नहीं करने का अल्टीमेटम दे दिया है। इस कारण काफी कम गाड़ियां दुग्ध संग्रहण के लिए भेजी गईं। शुक्रवार सुबह डेयरी के लिए जिले में सिर्फ दो हजार लीटर दूध का ही संग्रहण हुआ जबकि सामान्यत: 35 लीटर दूध पहुंचता है। श्रीगंगानगर जिले में भी ऐसी ही स्थितियां बताई जा रही हैं। उधर, मक्कासर गांव में आंदोलन कर रहे लोगों में से दो जनों को शांतिभंग की आशंका में गिरफ्तार किया गया। जंक्शन थाना प्रभारी राजेश सिहाग ने बताया कि गांव मक्कासर से रणवीर सिहाग व कुलवंत को शांतिभंग की आशंका में गिरफ्तार किया गया है।

विस्तृत खबर पेज 13 पर

X
किसानों का ऐलान: जनप्रतिनिधियों व अफसरों को सब्जी चाहिए तो भामाशाह कार्ड व ई मित्र पर रजिस्ट्रेशन जरूरी
Click to listen..