• Home
  • Rajasthan News
  • Hanumangarh News
  • गर्मी का प्रकोप : स्वास्थ्य विभाग ने लू ताप घात से बचाव के लिए जारी किए निर्देश
--Advertisement--

गर्मी का प्रकोप : स्वास्थ्य विभाग ने लू ताप घात से बचाव के लिए जारी किए निर्देश

हनुमानगढ़| बढ़ती गर्मी के साथ ही जनजीवन अस्त-व्यस्त होता जा रहा है। शुक्रवार को अधिकतम तापमान 49 डिग्री सेल्सियस के...

Danik Bhaskar | Jun 02, 2018, 03:00 AM IST
हनुमानगढ़| बढ़ती गर्मी के साथ ही जनजीवन अस्त-व्यस्त होता जा रहा है। शुक्रवार को अधिकतम तापमान 49 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहा। ऐसे हालात में अत्यधिक गर्मी में लू-ताप घात की बढ़ती आशंका को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने विभागीय अधिकारियों, कर्मचारियों व आमजन को विशेष एहतियात बरतने के लिए कहा है। सीएमएचओ डॉ. अरूण कुमार ने विभागीय कर्मचारियों को स्वास्थ्य केंद्रों पर उपस्थिति के साथ-साथ फील्ड पर भी नजर रखने के निर्देश दिए। सीएमएचओ ने बताया कि लू-ताप घात के रोगियों के लिए कुछ बैड आरक्षित रखते हुए कूलर व शुद्ध पेयजल की व्यवस्था करने, संस्थान में रोगी के उपचार हेतु आपातकालीन किट में ओआरएस एवं आवश्यक दवाइयां उपलब्ध हैं।

लू-ताप घात से बचाव के लिए बरतें सावधानी : महामारी नियंत्रण डॉ. सुरेश चौधरी ने बताया कि वर्तमान में बढ़े हुए तापमान व लू के कारण ताप घात का खतरा बढ़ गया है। ऐसे हालात में दोपहर के समय अति आवश्यक होने पर ही घर से निकलें। धूप में जाना पड़े, तो शरीर पूर्ण तरह से ढका होना चाहिए। धूप में बाहर जाते समय हमेशा सफेद या हल्के रंग के ढीले व सूती कपड़ों का उपयोग करें। बहुत अधिक भीड़, गर्म घुटन भरे कमरों में बैठने से बचें, रेल या बस आदि की यात्रा अत्यावश्यक होने पर ही करें। इसके अलावा खाली पेट घर से बाहर न निकलें। भोजन करके एवं पानी पीने के बाद ही घर से बाहर निकलें। गर्दन के पिछले भाग कान एवं सिर को गमछे या तौलिए से ढक कर ही धूप में निकलें एवं रंगीन चश्में एवं छतरी का प्रयोग करें। गर्मी मे हमेशा पानी अधिक मात्रा मे पिएं और नींबू पानी, नारियल पानी, ज्यूस आदि का प्रयोग करें।

यह हैं लक्षण :डॉ. सुरेश चौधरी ने बताया कि शरीर में लवण व पानी अपर्याप्त होने पर विषम गर्म वातावरण में लू-ताप घात का कई लक्षणों से पता लगाया जा सकता है। सिर का भारीपन व सिरदर्द, अधिक प्यास लगना व शरीर में भारीपन के साथ थकावट लू-ताप घात का लक्षण है। इसके अलावा जी मिचलाना, सिर चकराना व शरीर का तापमान बढ़ना, पसीना आना बंद होना, मुंह का लाल हो जाना, बेहोश होना या बेहोशी लगना जैसी स्थिति होने पर लू-ताप घात का प्रभाव हो सकता है।