• Home
  • Rajasthan News
  • Hanumangarh News
  • एक महीने के भीतर मिट्टी के एक लाख सैंपल इकट्ठे करेंगे कृषि विभाग के कर्मचारी, जुलाई तक किसानों को दिए जाएंगे 1.30 लाख सॉयल हेल्थ कार्ड
--Advertisement--

एक महीने के भीतर मिट्टी के एक लाख सैंपल इकट्ठे करेंगे कृषि विभाग के कर्मचारी, जुलाई तक किसानों को दिए जाएंगे 1.30 लाख सॉयल हेल्थ कार्ड

कृषि विभाग की ओर से अगले दो माह के दौरान जिले में एक लाख से अधिक सॉयल हेल्थ कार्ड बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:50 AM IST
कृषि विभाग की ओर से अगले दो माह के दौरान जिले में एक लाख से अधिक सॉयल हेल्थ कार्ड बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसे लेकर गुरुवार को कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक वीएस नैण ने जंक्शन स्थित कृषि उपनिदेशक कार्यालय में एग्रीकल्चर सुपरवाइजर्स की बैठक ली। उन्होंने विभागीय कर्मचारियों को तय समय सीमा में सॉयल हेल्थ कार्ड के लिए सैंपल इकट्ठे करने के निर्देश दिए। इस मौके पर कृषि उपनिदेशक जयनारायण बेनीवाल, सहायक निदेशक रणजीतसिंह सर्वा, बलवीर सिंह, सुरेंद्रकुमार जाखड़, कृषि अधिकारी बलकरण सिंह, राधेश्याम शर्मा व सहायक कृषि अधिकारी जगदीश दूधवाल आदि मौजूद रहे।

साॅयल हेल्थ कार्ड के लिए सैंपल इकट्ठे करने का काम अगले एक महीने तक अभियान के रूप में चलाया जाएगा। कृषि विभाग की आेर से जुलाई की शुरुआत तक किसानों को 130854 सॉयल हेल्थ कार्ड उपलब्ध करवाने की बात कही जा रही है। गौरतलब है कि इस साल कृषि विभाग को इतने ही कार्ड बनाने का लक्ष्य दिया गया है। इनमें से 29190 कार्डों के लिए मिट्टी के सैंपल पहले ही इकट्ठे किए जा चुके हैं। अब बाकी बचे हुए सैंपल इकट्ठे करने का काम विशेष अभियान चलाकर पूरा किया जाएगा। इसके लिए कृषि पर्यवेक्षकों का रूट चार्ट भी तैयार किया गया है। हर कर्मचारी को तय लक्ष्य देकर ग्रामवार योजना बनाई गई है। 15 मई से शुरू हुए अभियान के तहत 15 जून तक सभी सैंपल इकट्ठे होंगे और जुलाई तक सॉयल हेल्थ कार्ड जारी कर दिए जाएंगे।

विभागीय अधिकारियों ने बैठक लेकर तय किया कर्मचारियों का लक्ष्य

जयपुर में केंद्रीय प्रयोगशाला में भी होगी सैंपल्स की जांच

जिले में लैबोरेट्रीज की जांच क्षमता कम होने के चलते मिट्टी के सैंपल जयपुर स्थित केंद्रीय प्रयोगशाला में भी भिजवाए जाएंगे। जानकारी के मुताबिक केंद्रीय प्रयोगशाला में हर रोज 12000 सैंपल की जांच की जा सकती है। इसके अलावा जिले में स्थापित लैब में भी मिट्टी के सैंपल्स की जांच कर कार्ड तैयार किए जाएंगे।