• Home
  • Rajasthan News
  • Hanumangarh News
  • रिटायर्ड थानेदार का भूमि पर था कब्जा, टीम हटाने गई तो परिवार ने किया हमला, पत्थर फेंके, लाठियां बरसाईं, आत्महत्या का प्रयास, 7 गिरफ्तार
--Advertisement--

रिटायर्ड थानेदार का भूमि पर था कब्जा, टीम हटाने गई तो परिवार ने किया हमला, पत्थर फेंके, लाठियां बरसाईं, आत्महत्या का प्रयास, 7 गिरफ्तार

टाउन के वार्ड 34 में निर्माणाधीन दशहरा ग्राउंड के पास बुधवार सुबह कब्जे हटाने गई नगरपरिषद अमले और पुलिस कर्मियों...

Danik Bhaskar | Jun 14, 2018, 03:50 AM IST
टाउन के वार्ड 34 में निर्माणाधीन दशहरा ग्राउंड के पास बुधवार सुबह कब्जे हटाने गई नगरपरिषद अमले और पुलिस कर्मियों पर रिटायर्ड थानेदार के परिवार ने हमला कर दिया। पथराव और लाठियों से चोटें मारने से नप के लेखाधिकारी और दो पुलिसकर्मियों सहित छह जने चोटिल हो गए।

वहीं पुलिसकर्मी का कैमरा व मोबाइल तोड़ दिया। इस बीच रिटायर्ड थानेदार ने खुद पर केरोसीन डालकर आत्मदाह का प्रयास किया जिस पर पुलिस ने उसे हिरासत लेकर प|ी, बेटे और बेटी सहित सात जनों को शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। देर शाम आरोपियों को एसडीएम कोर्ट में पेश किया गया जहां से रिटायर्ड एएसआई और उसके बेटे को जेल भेज दिया गया जबकि शेष पांच आरोपियों को पाबंद कर छोड़ दिया गया। नगरपरिषद आयुक्त ने इस संबंध में मारपीट कर सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने एवं आत्महत्या प्रयास के आरोप में केस दर्ज कराया है।

टाउन सीआई रामप्रताप बिश्नोई का कहना है कि रिटायर्ड एएसआई और उसके बेटे को जेल भिजवा दिया जबकि शेष आरोपियों को कोर्ट ने पाबंद कर छोड़ दिया। सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने और आत्महत्या प्रयास मामले की जांच की जा रही है। वहीं रिटायर्ड थानेदार ने कहा कि शहर में और भी कब्जे है। यह नगरपरिषद की साजिश है।

रिटायर्ट पुलिस V/s पुलिस

रिटायर्ड थानेदार को आत्महत्या करने से रोकता हुआ पुलिसकर्मी।

रिटायर्ड थानेदार की बेटी को मारपीट करने से रोकती तीन-तीन महिला पुलिसकर्मी।

बेटे ने भी बड़ा उत्पात मचाया। उसको संभालने के लिए 8 लोग लगे।

वीडियोग्राफी करने आए पुलिसकर्मी का कैमरा छीनकर तोड़ा, फिर मोबाइल फोन भी छीनकर तोड़ डाला

हनुमानगढ़. कब्जा हटाने गई टीम में कुल 50 से ज्यादा कर्मी व अधिकारी मौजूद थे, जबकि कब्जाधारी परिवार के सदस्य महज 4 थे। फिर भी खूब उत्पात मचाया।

वार्ड 34 में दशहरा ग्राउंड के पास गत दिवस रिटायर्ड एएसआई निरंजन सिंह की ओर से मिट्टी भर्ती का कार्य रूकवा दिया गया था। इसको लेकर दो-तीन से समझाइश चल रही थी। इस बीच पता चला कि पहले से ही कब्जा किए हुए निरंजन सिंह दशहरा ग्राउंड में मिट्टी भर्ती के लिए प्रस्तावित जगह पर भी कब्जा कर रहा है। इसके लिए ईंटें भी मौके पर गिरा दी गई हैं। इस पर नगरपरिषद की टीम आयुक्त राजेंद्र स्वामी के नेतृत्व में पुलिस जाब्ते के साथ सुबह करीब साढ़े दस बजे जेसीबी और दमकल गाड़ी लेकर वार्ड 34 में दशहरा ग्राउंड के पास पहुंची और कब्जा हटाने की कार्रवाई शुरू की तो निरंजन सिंह पहले वहां पहुंचा और फिर केरोसीन लेकर आने की धमकी देकर वहां से चला गया। इसके बाद उसके परिवार के सदस्यों ने पथराव कर लाठियों से हमला कर दिया गया। इसमें परिषद लेखाधिकारी राकेश मेहंदीरत्ता, सफाई कर्मचारी लाली देवी, पुलिस कांस्टेबल लायकसिंह, महिला कांस्टेबल प्रमिला व दो अन्य के चोटें आईं। इस बीच जगतारसिंह ने ईंट उठाकर मारने का प्रयास किया तो चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संदीप कुमार ने उसे पकड़ लिया। वहीं निरंजन सिंह(74) ने खुद पर केरोसीन डालकर आत्महत्या का प्रयास किया। आग लगाने के प्रयास से पहले मौके पर मौजूद एएसआई लालचंद ने उसे पकड़कर बोतल नीचे गिराकर हिरासत में ले लिया। वहीं निरंजन सिंह की प|ी जसपाल कौर(58), बेटे जगतारसिंह(30), बेटी हरेंद्र कौर (23) निवासी वार्ड 34 को शांतिभंग में गिरफ्तार कर जीप में बिठाने का प्रयास किया तो वह नीचे लेट गए। वहीं पुलिस कर्मियों पर लात-घूंसे चलाने लगे। इसमें महिला पुलिसकर्मी के गले पर चोट आई। इस बीच पुलिसकर्मियों ने जबरन उठाकर जीप में डाल थाने ले गई।

रिटायर्ड एएसआई और उसके परिवार के हंगामे के आगे कम नजर आया जाब्ता, थाने में भी महिला पुलिस कर्मी को देख लेने की धमकी

रिटा. थानेदार की प|ी

...और ये बेटी भी

रिटा. थानेदार

हमले में कार्यवाहक आयुक्त व दो पुलिस कर्मियों सहित 6 लोग चोटिल, सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने का केस

मामला|डेढ़ बीघा भूमि पर किया हुआ है कब्जा

टाउन के वार्ड 34 में कालूनाथ के डेरे के पास रिटायर्ड एएसआई निरंजन सिंह की ओर से करीब डेढ़ बीघा भूमि पर कब्जा किया हुआ है। आयुक्त राजेंद्र स्वामी ने बताया कि यह मामला लोक अदालत में भी विचाराधीन रहा। कोर्ट ने 40 गुणा 70 साइज भूमि का नियमन के आदेश भी दिए लेकिन निरंजन सिंह ने 60 गुणा 80 से ज्यादा भूमि पर वर्तमान में कब्जा किया हुआ है। वहीं दशहरा ग्राउंड के पास और भूमि पर कब्जा करने का प्रयास किया जा रहा था। दशहरा ग्राउंड में मिट्टी भर्ती का कार्य भी निरंजन सिंह ने रूकवा दिया था।

3 रिश्तेदारों को भी हंगामा करते गिरफ्तार किया

हमले के बाद परिषद की ओर से मिट्टी भर्ती का काम शुरू करा दिया गया। करीब एक घंटे बाद बेअंतसिंह पुत्र दर्शनसिंह जटसिख निवासी तलवाड़ा झील, मनप्रीत पुत्र राजेंद्र सिंह जटसिख निवासी श्रीनगर व पवन पुत्र रतन धानक निवासी वार्ड 33 टाउन तीनों वहां पर पहुंचे और खुद को निरंजन सिंह के रिश्तेदार बताते हुए हंगामा करने लगे। आरोपियों ने विरोध कर काम रोकने का प्रयास किया। इस पर पुलिस ने उन तीनों को भी शांतिभंग में गिरफ्तार कर लिया।