Hindi News »Rajasthan »Hanumangarh» ऐसा हाल रहा तो कैसे बचेगा पानी

ऐसा हाल रहा तो कैसे बचेगा पानी

पानी को लेकर जलदाय विभाग और आम नागरिक गंभीर नहीं है। शहर में जगह-जगह हो रहे लीकेज को देखकर यही प्रतीत होता है। यह...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 14, 2018, 03:50 AM IST

  • ऐसा हाल रहा तो कैसे बचेगा पानी
    +3और स्लाइड देखें
    पानी को लेकर जलदाय विभाग और आम नागरिक गंभीर नहीं है। शहर में जगह-जगह हो रहे लीकेज को देखकर यही प्रतीत होता है। यह हाल जिला मुख्यालय का है। भास्कर के जल मित्र अभियान के तहत भास्कर के जल मित्रों ने ऐसी ही फोटो भास्कर को उपलब्ध करवाई है, जिसमें लीकेज पानी व्यर्थ बह रहा है। यानी प्रतिदिन सैकड़ों लीटर और महीनों में हजारों लीटर पानी व्यर्थ बह जाता है। जल मित्रों ने जिला मुख्यालय के जंक्शन क्षेत्र से यह फोटो भास्कर में भेजे हैं, इनमें कहीं-कहीं तो महीनों से यह लीकेज ऐसे ही पड़े हैं, जिन्हें कोई संभालता तक नही और इन्हीं की वजह से पानी बर्बाद हो रहा है।

    लीकेज से व्यर्थ बह रहा है हजारों लीटर पानी, सड़कों में बन गए गड्ढे

    जल मित्रों ने मौके से पानी की बर्बादी के फोटो भेजे, जलदाय विभाग बोला-दुरुस्त करवा देंगे

    जंक्शन ओवरब्रिज के पास

    जंक्शन में ओवरब्रिज के नीचे की साइड में पेयजल पाइप लाइन में काफी समय से लीकेज है। यहां पेयजल सप्लाई आने के समय पानी यूं ही बहता रहता है और नाली में व्यर्थ जाता है जबकि पास की कॉलोनियों में पानी आने के समय पानी के कम प्रेशर की शिकायतें मिलती है पर इसे भी दुरुस्त नहीं करवाया जा रहा।

    हाउसिंग बोर्ड

    ऐसा ही हाल जंक्शन में हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में चेतराम सोनी की दुकान के पास है। यहां काफी टाइम से सड़क के बीच में पेयजल पाइप लाइन लीकेज है। लीकेज का पानी सड़क पर फैलता है। इससे सड़क में गड्ढे बन गए हैं। लोग भी परेशान है। इसी तरह जंक्शन रेलवे रोड पर बने जल घर के पास कई दिनों से लीकेज है।

    जंक्शन में रेलवेस्टेशन पटरियों के पास लगे पाइपों से पूरे दिन काफी मात्रा में पानी बहता रहता है। हालांकि कई लोग यहां के पानी से कपड़े या अन्य काम में इसे उपयोग लेते दिखाई पड़ते हैं लेकिन यह पानी पूरे दिन ट्रैक के बीच में जमा हो जाता है लेकिन रेलवे प्रशासन इस और कोई गौर नहीं कर रहा है।

    आमजन जागरूक हो, तो पानी व्यर्थ नहीं जाएंगे

    विभाग को जब भी सूचना मिलती है तो कर्मचारी भेजे जाते हैं। यह तो एक सतत प्रक्रिया है ताकि पानी बर्बाद नहीं हो। अगर जंक्शन में कहीं लीकेज है तो लीकेज दुरुस्त करवाने के लिए कर्मचारी भेजे जाएंगे। पानी अगर कहीं बर्बाद हो रहा है तो आमजन को भी जागरूक होना होगा। कई बार लोग खुद ध्यान नहीं देते और पानी व्यर्थ बहता है। मेजरसिंह ढिल्लो, एक्सईएन, जलदाय विभाग, हनुमानगढ़

    जंक्शन रेलवे स्टेशन

  • ऐसा हाल रहा तो कैसे बचेगा पानी
    +3और स्लाइड देखें
  • ऐसा हाल रहा तो कैसे बचेगा पानी
    +3और स्लाइड देखें
  • ऐसा हाल रहा तो कैसे बचेगा पानी
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Hanumangarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: ऐसा हाल रहा तो कैसे बचेगा पानी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Hanumangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×