Hindi News »Rajasthan »Hanumangarh» आमजन भटकता रहा, घरों तक नहीं पहुंचे दूधिए, सड़कों पर बिखेरा दूध तो कहीं गोवंश को खिला दी सैकड़ों क्विंटल सब्जी

आमजन भटकता रहा, घरों तक नहीं पहुंचे दूधिए, सड़कों पर बिखेरा दूध तो कहीं गोवंश को खिला दी सैकड़ों क्विंटल सब्जी

किसानों की विभिन्न मांगों को लेकर 10 दिन तक दूध तथा सब्जी बाजार में नहीं ले जाने के आंदोलन के दूसरे दिन भी विभिन्न...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 03, 2018, 03:55 AM IST

  • आमजन भटकता रहा, घरों तक नहीं पहुंचे दूधिए, सड़कों पर बिखेरा दूध तो कहीं गोवंश को खिला दी सैकड़ों क्विंटल सब्जी
    +1और स्लाइड देखें
    किसानों की विभिन्न मांगों को लेकर 10 दिन तक दूध तथा सब्जी बाजार में नहीं ले जाने के आंदोलन के दूसरे दिन भी विभिन्न गांव और कस्बों में किसानों ने सब्जी, दूध और फलों की आपूर्ति रोकी। संगरिया में प्रदर्शन के दौरान मारपीट का मामला सामने आया, जिसे बाद में समझाइश से सुलझाया गया। इसी तरह जाखड़ांवाली में किसानों ने ट्रैक्टर रैली निकाली। दूसरे दिन आंदोलन का असर शहरों में भी देखने को मिला। आमजन दूध, सब्जी को लिए भटकते हुए दिखे।

    भादरा| किसानों की हड़ताल के समर्थन में ब्लॉक कांग्रेस कमेटी शनिवार को भी सक्रिय भूमिका में रही। किसानों एवं कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बीसीसी अध्यक्ष सतपाल नेहरा की अध्यक्षता में भादरा शहर को जोड़ने वाले मुख्य मार्गों पर दूध वाहनों को रोककर दूध ईंट भट्टा निवासियों एवं सेना भर्ती के लिए शारीरिक दक्षता योग्यता की तैयारी करने वाले प्रतियोगियों में वितरित कर दिया गया तथा सब्जी व दूध के वाहन चालकों से किसान आंदोलन को समर्थन देने बाबत समझाइश की। इसके बाद आंदोलन समर्थक तालाबंदी करने के लिए सरस डेयरी पहुंचे जहां डेयरी प्रबंधक अशोक कुमार स्वामी ने आंदोलन समर्थकों को दूध नहीं लेने का आश्वासन दिया। बीसीसी अध्यक्ष सतपाल नेहरा ने कार्यकर्ताओं से 10 जून तक किसानों द्वारा प्रस्तावित गांव बंद को समर्थन देने की अपील की। बीसीसी कार्यालय में मीटिंग हुई। इसमें अजय ढिल एवं संजीव पूनियां ने बताया कि 5 जून को धिक्कार दिवस मनाया जाएगा। इस मौके पर राजेंद्र बराला, नवीन पूनिया आदि मौजूद थे।

    टिब्बी| गांवों में किसानों ने दूध, सब्जी की बिक्री को रोककर प्रदर्शन किया। गांव मेहरवाला में युवा क्लब, डीवाईएफआई व किसान संघ के सदस्यों ने मेहरवाला बस स्टैंड पर दूध, सब्जी व अन्य सामग्री ले जा रही गाड़ियों को रोककर वितरण किया। गांव बशीर स्थित श्री कृष्ण गोशाला प्रधान सहदेव खद्दा के नेतृत्व में ग्रामीणों ने बशीर से निकलने वाली सभी सड़कों पर दूध-सब्जी व अनाज आदि जरूरी समान को रोका गया। गांव व इलाके सभी दूध वालों और सब्जी विक्रेताओं ने भी समर्थन किया। सुभाष सुथार, घनश्याम खद्दा, राजपाल खद्दा, भीम महला आदि मौजूद थे।

    लिखमीसर| आंदोलनकारियों ने पीबीएन नहर के पुल पर निगरानी की। बसों में दूध बेचने ले जा रहे लोगों से किसानों ने दूध छीन लिया। इसके बाद उन्हें ठंडी लस्सी बनाकर पिला दी। ग्रामीण नरसी खीचड़, विक्रम, इंद्र गोदारा, राजेश खीचड़ तथा विनोद भादू ने बताया कि दूध वालों तथा ग्रामीणों को शांतिपूर्ण तरीके से समझाने के बाद भी बाजार में राशन का सामान ले जाने की कोशिश कर रहे हैं।

    ढाबां में किसानों ने टेंपो को रोककर सब्जी और फल सड़कों पर बिखरे, एक जगह हुआ तनाव

    भादरा

    संगरिया| गांव भगतपुरा, बोलांवाली, चक प्रताप नगर, भाखरांवाली, हरिपुरा, ढाबां सहित कई गांवों में किसानों ने प्रदर्शन किया। ढाबां में एक टेंपो को रोककर उसमें से सब्जी और फल सड़कों पर बिखेर दिए और सब्जी को बेचने नहीं दिया। संगरिया में दूध संचालकों और एक जने के बीच मामला मारपीट का हो गया, जिस पर सभी लोग थाने के सामने एकत्रित हो गए। सीआई महेंद्रदत्त शर्मा ने समझाइश करते हुए उन्हें कहा कि कानून के दायरे में रहकर कार्य करे अन्यथा पुलिस के द्वारा कानूनी कार्रवाई करने की बात कही। उसके बाद दोनों पक्षों में मामला शांत हो गया। किसान नेता विक्रम कलहरी और भाखड़ा किसान संघर्ष समिति अध्यक्ष अशोक चौधरी ने कहा कि कई असामाजिक तत्व इस आंदोलन को बिगाड़ने में है। चक प्रताप नगर में प्रो ओम जांगू ने कहा कि किसान आंदोलन का उद्देश्य किसान में जाग्रति पैदा करना है। हरिपुरा के किसानों ने दूध की सप्लाई बंद रखी और किसान नेता बलकोर सिंह ढिल्लो, हरमीत बलजोत, महेंद्र सेवटा, जल उपयोगिता संगम अध्यक्ष हरगोविंद सिंह आदि ने धरना स्थल पर अपने विचार रखे। गांव भाखरांवाली और बोलांवाली में किसानों ने विरोध स्वरूप नारेबाजी और मोटरसाइकिलों पर रैली निकाली।

    जाखड़ांवाली| किसानों ने गांव बंद के तहत बस स्टैंड पर किसानों ने सभा कहा की। दस जून तक बाजार मे कोई भी सप्लाई दूध-सब्जी नहीं करने का संकल्प लिया। किसान विजय गोदारा ने कहा कि सरकार को किसानों की जायज मांगों पर गौर करना चाहिए। किसानों ने 11 ट्रैक्टरों के साथ बस स्टैंड, शिव मंदिर, पंचायत घर, बस स्टैंड होते हुए मुख्य बाजार पहुंचे। रैली में भागीरथ शर्मा, रामपाल, श्यामलाल गोदारा, राजू वर्मा आदि मौजूद थे।

    पल्लू| दूसरे दिन भी कस्बे में स्थित चीलिंग सेंटरों पर एक लीटर दूध भी नहीं तुला। सरस डेरी के सामने किसानों का धरना जारी रहा। किसानों ने सब्जी विक्रेताओं को समझाइश कर अपने समर्थन में आने का कहा। जिला परिषद सदस्य गौरीशंकर थोरी सहित विभिन्न किसानों ने शनिवार को बाजार में पैदल मार्च निकाला। लोगों को आंदोलन के प्रति जागरूक किया। रैली में शिवम डेयरी के संचालक बुधराज सारण, रामप्रताप बिसू, भादरराम, अमरचंद मुहाल, दिलीप गोस्वामी, छात्र नेता अनिल बिरड़ा, लालचंद ढुकिया, महावीर जाखड़ ,ताराचंद बिजारणियां, भैराराम, मदन आदि मौजूद थे।

    नोहर में अंादोलन के दूसरे दिन सरस डेयरी के आगे किसानों ने डाला पड़ाव

    नोहर| दूसरे दिन शनिवार को लोग दूध के लिए इधर-उधर भटकते देखे गए। वहीं किसानों व दुग्ध उत्पादक समितियों ने हड़ताल के दूसरे दिन अखिल भारतीय किसान सभा के तहसील सचिव सुरेश स्वामी के नेतृत्व में यहां सरस डेयरी के सामने पड़ाव डाल दिया। शुक्रवार रात्रि को शहर को जोड़ने वाले सभी मार्गों पर किसानों ने नाका लगाया। कई जगह दूध सड़कों पर बिखेरा गया। सब्जियों की गाड़ियों को रुकवाकर सब्जियां सड़कों पर डाली गई। आलू से भरे ट्रक में से दर्जनों कट्टे उतारकर गोशाला को सौंपे गए। वहीं किसान हड़ताल के चलते अनाज मंडी में भी सन्नाटा पसरा रहा। अखिल भारतीय किसान सभा के तहसील सचिव सुरेश स्वामी ने बताया कि किसानों की मांग पूरी नहीं होने तक दूध, अनाज, सब्जी को बाजार में नहीं भेजने का आह्वान किया। स्वामी ने बताया कि किसानों द्वारा किसी को जबरदस्ती नहीं रोका जा रहा है। इस अवसर पर कामरेड नियामत अली, पवन ज्याणी, दीपक रेगर, नरेश रेगर, महावीर जाखड़, पृथ्वीराम, बजरंगलाल, रामजीलाल नेहरा आदि किसान मौजूद थे।

    इधर, दूधवालों ने सौंपा ज्ञापन, कहा-वे हड़ताल में शामिल नहीं, उन्हें बेवजह कर रहे परेशान : टंकियों के माध्यम से दूध विक्रय करने वाले दर्जनों दूधवालों ने तहसीलदार व थाना प्रभारी को ज्ञापन देकर उन्हें बिना वजह परेशान करने का आरोप लगाते हुए सुरक्षा प्रदान करने की मांग की गई। ज्ञापन में बताया गया है कि वे घर-घर जाकर दूध विक्रय का कार्य करते हैं। वे हड़ताल में शामिल नहीं है मगर कुछ लोग दूध विक्रय करने से रोककर दूध को सड़कों पर डाल रहे हैं। जिस कारण उनकी दूध सप्लाई का काम बाधित हो रहा है। दूध विक्रय नहीं करने से गायों के लालन-पालन में परेशानी आ रही है। प्रशासन ने इन दूध विक्रेताओं को हर संभव सहायता उपलब्ध करवाने का आश्वासन दिया।

    पीलीबंगा: दूधियों को पकड़कर गांव में ही बांट दिया

    पीलीबंगा| राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ और अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में विभिन्न किसान संगठनों द्वारा किया जा रहा प्रदर्शन दूसरे दिन शनिवार को भी जारी रहा। वहीं गांव प्रेमपुरा से दूध एकत्रित कर बेचने जा रहे दूधियों को रंगे हाथों पकड़कर उनका दूध गांव में ही ग्रामीणों को वितरित कर दिया। इस दौरान राजवंत सिंह मसरूवाला, जसवीर सिंह बजीतपुरिया व गुरमेल सिंह भुल्लर के नेतृत्व में सुबह 6 से 10 बजे तक किसानों द्वारा गांव मसरूवाला के बस स्टैंड पर धरना लगाकर आसपास के गांवों और हनुमानगढ़ सूरतगढ़ रोड़ पर सब्जी व दूध की परिवहन व्यवस्था ठप कर वर्तमान सरकार की किसान विरोध नीतियों पर रोष प्रकट किया। गांव बंद में बलदेव सिंह बजीतपुरिया, अमरजीत सिंह बजीतपुरिया, तेजा सिंह ढिल्लों, बलौर सिंह, भोला सिंह, इकबाल मान, काका सिंह सहित बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने भाग लिया।

    िटब्बी

    पीलीबंगा

    जाखड़ांवाली

    संगरिया

    नोहर

    पल्लू

  • आमजन भटकता रहा, घरों तक नहीं पहुंचे दूधिए, सड़कों पर बिखेरा दूध तो कहीं गोवंश को खिला दी सैकड़ों क्विंटल सब्जी
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Hanumangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×