Hindi News »Rajasthan »Hanumangarh» डेयरी संचालकों को सुरक्षा मुहैया करवाने का पुलिस ने दिया आश्वासन, गंगमूल डेयरी में सोमवार को भी नहीं हुई आवक

डेयरी संचालकों को सुरक्षा मुहैया करवाने का पुलिस ने दिया आश्वासन, गंगमूल डेयरी में सोमवार को भी नहीं हुई आवक

चार दिन से चल रहे गांव बंद आंदोलन का असर अब भी बरकरार है। हालांकि शहरों में इसका असर कम है लेकिन गांवों में अब भी दूध...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 05, 2018, 03:55 AM IST

  • डेयरी संचालकों को सुरक्षा मुहैया करवाने का पुलिस ने दिया आश्वासन, गंगमूल डेयरी में सोमवार को भी नहीं हुई आवक
    +1और स्लाइड देखें
    चार दिन से चल रहे गांव बंद आंदोलन का असर अब भी बरकरार है। हालांकि शहरों में इसका असर कम है लेकिन गांवों में अब भी दूध और सब्जी बाहर नहीं आने दे रहे। हनुमानगढ़ शहर के निकटवर्ती गांवों में यही हालात देखने को मिले। गांव मक्कासर में किसानों ने सब्जी की सप्लाई लेकर जा रहे लोगों से सब्जी लेकर मौके पर ही हाट लगाकर 10 रुपए प्रति किलो के हिसाब से बेच दी ताकि सब्जी उत्पादक को नुकसान नहीं हो वहीं दूध सप्लाई को रोककर ग्रामीणों और जरूरतमंदों को बांट दिया। मनीष गोदारा, देवीलाल, गुरलाल मान, रजीराम, सुभाष गोदारा आदि मौजूद रहे। इसी तरह गांव रोड़ावाली में भी किसानों ने दूध की सप्लाई रोककर ग्रामीणों में वितरित कर दी।

    जानकारी के अनुसार गांवों से दूध लाते समय वाहनों को रास्ते में रोकने की घटनाओं को देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा मुहैया करवाने का आश्वासन दिया है। जानकारी के मुताबिक कुछ डेयरी संचालकों को सुरक्षा दी भी जा रही है। इस मामले में भी दुग्ध विक्रेताओं ने भेदभाव की बात कही है। उनका कहना है कि बड़े दूध विक्रेताओं को पुलिस सुरक्षा मुहैया करवा रही है लेकिन गांव से 100-200 लीटर दूध लाने वालों के लिए कोई सुरक्षा नहीं है। अभी अधिकांश छोटी प्राइवेट डेयरियों में शहरी क्षेत्र से ही दूध की आपूर्ति हो रही है जोकि पर्याप्त नहीं है। हर रोज 1000-2000 लीटर दूध का व्यवसाय करने वाली डेयरियों को शहरी क्षेत्र से ही 100-150 लीटर दूध मिल पा रहा है।

    जिले का माहौल| पीलीबंगा में चोरी छिपे दूध ले जा रहे लोगों को चेतावनी देकर छोड़ा, गोलूवाला में ग्रामीणों को बांटा, टिब्बी में टेंपो चालकों व किसानों में कहासुनी

    पीलीबंगा| गांव बंद किसान आंदोलन के तहत सोमवार को लगातार चौथे दिन भी मसरूवाला, दुलमाना और कमाना बस स्टैंड सहित हनुमानगढ़ पीलीबंगा सूरतगढ़ फोरलेन पर देर रात तक किसानों ने रात्रि गश्त कर के चोरी छिपे दूध सब्जी की आपूर्ति करने वाले लोगों को पकड़ा और उन्हें चेतावनी देकर छोड़ दिया। गुरमेल सिंह, इकबाल मान, अरविंद बिश्नोई, सुखजीत सिंह बराड़ सहित बड़ी संख्या में किसानों ने देर रात तक और सुबह 4 बजे से पुन: बस स्टैंड और फोरलेन पर डेरा डाल कर सप्लाई को पूर्णतया ठप कर दिया। गांव बंद आंदोलन समिति के संयोजक गोपाल बिश्नोई के अनुसार बुधवार को मंदसौर में पिछले वर्ष पुलिस की गोली से शहीद हुए किसानों की पहली बरसी पर शहीद किसानों को श्रद्धांजलि देने के लिए बड़ी संख्या में किसान श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया जाएगा।

    दूध व्यापारी बोले-आंदोलन के दौरान जानबूझकर माहौल खराब कर रहे कुछ असामाजिक तत्व

    सोमवार को सब्जी की स्थिति सामान्य हुई लेकिन दूध की किल्लत लगातार बनी हुई है। दूध व्यापारियों के मुताबिक कुछ असामाजिक तत्व जानबूझकर माहौल खराब कर रहे हैं। गांव से दूध लाने वाले व्यापारियों को परेशान करने और दूध सड़क पर बिखेरने की घटनाओं से नाराज व्यापारी सोमवार को ज्ञापन देने के लिए कलेक्ट्रेट भी गए लेकिन अधिकारियों से मुलाकात नहीं हो पाई। गंगमूल डेयरी के पास दूध की आवक शून्य हो गई है। दुग्ध व्यवसाय से जुड़े लोगों के मुताबिक प्राइवेट डेयरियों पर अन्य कंपनियाें का पैकिटबंद दूध भी खत्म हो रहा है। ऐसे हालात में दूध की किल्लत और बढ़ सकती है।

    गांवों में कहीं नजर नहीं आ रही स्टॉलें

    आंदोलन की शुरुआत में किसान संगठनों की आेर से शहरों के आसपास के गांवों में स्टाॅलें लगाने की बात कही गई थी। अब चार दिन बाद भी किसी गांव में व्यवस्थित तरीके से लगी हुई स्टॉलें नजर नहीं आई हैं। इक्कादुक्का जगहों पर सब्जी की गाड़ी रुकवाकर आनन-फानन में सस्ते भाव पर सब्जियां जरूर बेची गई हैं। ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है कि लोग शहर से जाकर सब्जी या दूध खरीदकर ला सकें।

    गोलूवाला| किसानों की हड़ताल में सोमवार को भी गहमागहमी रही। उपस्थित लोगों ने दूध ले जाने वाले को रोका। दूध को इधर-उधर लोगों को बांट दिया। ये लोग रविवार देर रात्रि से ही मैनरोड पर सड़क के किनारे पड़ाव डाले बैठे थे। एक-दो गाड़ी सब्जी की भी रोकी गई। इस दौरान डीवाईएफआई के जिला उपाध्यक्ष जगदीश सारस्वत,भीम झाझडिय़ा सहित किसान संघ के अन्य लोग मौजूद थे।

    हनुमानगढ़. किसान आंदोलन के दौरान दूध व सब्जी खरीदकर ले जाते लोग।

    किसान मंडी में सब्जी लेकर आएगा तो बोली कराई जाएगी : राजकुमार नानकानी

    सोमवार को मंडी में बोली रुकवाने आए किसानों को व्यापारियों ने व्यवसाय में हस्तक्षेप नहीं करने के लिए कहा है। व्यापारी किसानों के आंदोलन के साथ हैं लेकिन कोई किसान मंडी में सब्जी लेकर आता है तो बोली करवाई जाएगी। सब्जी उगाने वाले छोटे काश्तकारों ने भी बोली रुकवाने का विरोध किया है क्योंकि सब्जी को आठ-दस दिन तक संभालकर नहीं रखा जा सकता। राजकुमार नानकानी, होलसेल सब्जी व्यवसायी

    टिब्बी| कस्बे में बिकने आई सब्जी को किसानों ने निराश्रित पशुओं को खिलाकर सरकार की किसान विरोधी नीतियों का विरोध किया। मुख्य बाजार में होने वाली सब्जी की बोली पर आई सब्जी को किसानों ने उठाकर भगत सिंह चौक पर निराश्रित पशुओं को खिला दिया। वहीं एक बार तो किसानों ने खरबूजे से भरे टेंपो में से खरबूजे उतारकर सड़क पर डाल दिए, जिससे टैंपो चालक व किसानों के मध्य कहा सुनी हुई जिससे बाजार में वाहनों की लंबी कतार लगने से जाम लग गया। वहीं दुकानदारों के बीच बचाव के कारण मामला शांत हुआ।

    आंदोलन की आड़ में कुछ असामाजिक तत्व गुंडागर्दी कर रहे हैं। इसे लेकर प्रशासन को भी सूचित किया है। बड़े दूध व्यापारियों को ही सुरक्षा मुहैया करवाई जा रही है। यही हालात रहे तो एक-दो दिन में दूध की भारी किल्लत हो जाएगी। विकास नागपाल, दुग्ध व्यवसायी

    आंदोलन में असामाजिक तत्वों के हस्तक्षेप के चलते दिल्ली में आपात बैठक बुलाई गई है। खासतौर पर पंजाब में आंदोलन की आड़ में व्यवस्था खराब करने के मामले सामने आए हैं। मंगलवार को होने वाली बैठक में ही आंदोलन का भविष्य तय होगा। राजस्थान से भी 10-15 किसान बैठक के लिए जा रहे हैं। इंद्रजीत पन्नीवाली, किसान नेता

    भादरा| नेठराना में संघर्ष समिति का राष्ट्रीय किसान आंदोलन के समर्थन में किसानों का धरना दूसरे दिन भी जारी रहा। श्रवण सहारण ने बताया कि हमारे गांव से दूध सब्जी गांव से बाहर नहीं गई। किसान आंदोलन के चरण में गांव के किसानों व नौजवानों ने धरना स्थल पर नारेबाजी की। धरने पर किसान एकता तहसील अध्यक्ष छोटूराम गोदारा, संघर्ष समिति अध्यक्ष घडसीराम जांगिड़, छात्रसंघ अध्यक्ष अंकित मूंड, धन्नाराम जाखड़, रमेश पारीक मौजूद थे।

  • डेयरी संचालकों को सुरक्षा मुहैया करवाने का पुलिस ने दिया आश्वासन, गंगमूल डेयरी में सोमवार को भी नहीं हुई आवक
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Hanumangarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: डेयरी संचालकों को सुरक्षा मुहैया करवाने का पुलिस ने दिया आश्वासन, गंगमूल डेयरी में सोमवार को भी नहीं हुई आवक
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Hanumangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×