• Home
  • Rajasthan News
  • Hanumangarh News
  • बैंक ने पुलिसकर्मियों के वेतन खातों में परिवर्तन के लिए लगाया शिविर
--Advertisement--

बैंक ने पुलिसकर्मियों के वेतन खातों में परिवर्तन के लिए लगाया शिविर

हनुमानगढ़| पुलिस कर्मियों के वेतन खातों का पुलिस सैलरी पैकेज (पीएसपी) में बदलने के लिए मंगलवार को भारतीय स्टेट बैंक...

Danik Bhaskar | Jun 06, 2018, 04:00 AM IST
हनुमानगढ़| पुलिस कर्मियों के वेतन खातों का पुलिस सैलरी पैकेज (पीएसपी) में बदलने के लिए मंगलवार को भारतीय स्टेट बैंक की ओर से समन्वय कैंप लगाया गया। इसमें पुलिसकर्मियों के वेतन खातों की मौके पर ही श्रेणी बदली गई। पुलिस कंट्रोल रूम प्रभारी ने बताया कि शिविर में बैंक स्टाफ ने सहयोग किया। वहीं पुलिस कर्मियों ने भी उत्साह दिखाया। इस मौके पर पुलिस लाइन के संचित निरीक्षक राहुल यादव, बैंक की क्षेत्रीय कार्यालय मुख्य प्रबंधक राजकुमारी दादलानी, शाखा प्रबंधक पवन धौलिया आदि मौजूद थे। गौरतलब है कि एसबीआई ने राज्य के पुलिस कर्मियों के लिए पुलिस सैलरी पैकेज (पीएसपी) की शुरूआत की है, इसके तहत लोन पर आधा प्रतिशत छूट के साथ एक्सीडेंटल इंश्योरेंस दिया जाएगा। गौरतलब है कि पुलिस कर्मियों के सैलरी अकाउंट पहले एसबीबीजे बैंक में थे। एसबीबीजे बैंक एसबीआई में मर्ज होने के बाद सभी के खाते अब एसबीआई में गए हैं। इसी के तहत विशेष तौर पर पुलिस सैलरी पैकेज (पीएसपी) शुरू किया गया।

पुलिस सैलरी पैकेज से यह होगा फायदा : पैकेज में कांस्टेबल से एएसआई रैंक के पुलिसकर्मी को सिल्वर एटीएम, एसआई और इंस्पेक्टर को गोल्ड एटीएम और आरपीएस/आईपीएस को प्लेटिनम एटीएम कार्ड दिए जा रहे हैं। इस कार्ड के तहत 5 लाख से 50 लाख रुपए तक का एक्सीडेंटल इंश्योरेंस मिलेगा। फ्लाइट के एक्सीडेंट में हुई मृत्यु में 50 लाख रुपए तक के इंश्योरेंस का प्रावधान किया है। इसके अलावा बैंक से लोन लेने पर पुलिसकर्मी को आधा प्रतिशत रेट ऑफ इंटरेस्ट में छूट मिलेगी।

फर्जी वसीयत तैयार कराकर जमीन हड़पी, केस दर्ज : सदर पुलिस ने फर्जी दस्तावेजों से वसीयत तैयार कराकर जमीन खुद के नाम करा धोखाधड़ी के मामले में मंगलवार को आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है। सुलखन सिंह पुत्र गुरदयाल बावरी निवासी डबलीराठान ने पुलिस को बताया कि प्यारा सिंह पुत्र वजीर सिंह निवासी डबलीराठान व तीन-चार अन्यों ने राजस्व अधिकारी व कर्मचारियों के साथ मिलकर फर्जी तरीके से वसीयत तैयार कर उसके हिस्से की जमीन खुद के नाम करा ली। मामले की जांच एएसआई हीरालाल को सौंपी गई है।