• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Hanumangarh News
  • नए मास्टर प्लान में अब 53 नहीं, 44 चक होंगे; 30 तक लागू होगा, मेडिकल कॉलेज के लिए 42 बीघा भूमि आरक्षित
--Advertisement--

नए मास्टर प्लान में अब 53 नहीं, 44 चक होंगे; 30 तक लागू होगा, मेडिकल कॉलेज के लिए 42 बीघा भूमि आरक्षित

अगले 20 साल में हनुमानगढ़ शहर व आसपास के इलाके में विकास योजनाओं की जरूरतों के हिसाब से प्रस्तावित नए मास्टर प्लान...

Dainik Bhaskar

Jun 15, 2018, 04:00 AM IST
अगले 20 साल में हनुमानगढ़ शहर व आसपास के इलाके में विकास योजनाओं की जरूरतों के हिसाब से प्रस्तावित नए मास्टर प्लान में नौ चकों की संख्या कम कर दी गई है। ऐसे में अब 53 की बजाए 44 चक ही नए प्लान में शामिल होंगे। मास्टर प्लान इसी माह 30 जून तक लागू किया जाना है। इसको लेकर नगरीय निकाय विभाग के अधिकारी मास्टर प्लान के ड्राफ्ट को अंतिम रूप देने में जुटे हैं। खास बात है कि नए मास्टर प्लान को लेकर सेटेलाइट सिस्टम से जुड़ी जीआईएस मैपिंग (रिमोट सेंसिंग व जियो इन्फरमेटिक्स) तकनीक का सहारा लिया गया। इससे पहले मैन्युअल सर्वे के आधार पर मास्टर प्लान तैयार किया जाता था जोकि अब पूरी तरह से हाइटेक हो गया है। इस बीच नगरपरिषद प्रशासन को नगरीय निकाय विभाग की ओर से मास्टर प्लान में शामिल किए जाने वाले 53 चकों की संख्या कम किए जाने की लिखित में सूचना मिल गई है। सरकार अब बुनियादी सुविधाओं के साथ- साथ शहर के विकास की तमाम योजनाओं को भी मास्टर प्लान के जरिए मूर्तरूप देगी। आगामी 20 वर्षों की शहर में बुनियादी सुविधाओं का विकास मास्टर प्लान से तय होगा। गौरतलब है कि नया मास्टर प्लान वर्ष 2016 में लागू होना था लेकिन ड्राफ्ट प्लान तैयार करने में देरी के चलते दो बार पुराने मास्टर प्लान की ही अवधि बढ़ाई गई। ऐसे में पुराने मास्टर प्लान की अवधि 30 जून तक है। सहायक नगर नियोजक रामनिवास का कहना है कि नया मास्टर प्लान 30 जून तक लागू होने की उम्मीद है। इसको लेकर नगरीय निकाय विभाग में उच्चस्तर पर प्रक्रिया चल रही है।

यह नौ चक नहीं होंगे शामिल

नए मास्टर प्लान में क्षेत्र के 53 चक और गांव शहरी क्षेत्र में शामिल करना प्रस्तावित किया गया था जिसमें से नगरीय निकाय विभाग ने नौ चक कम कर दिए हैं। इस तरह से 16 एसएसडब्ल्यू, 20 एचएमएच, छह एसएनएम, चार एसएनएम, चार एसटीजी, एक एमओडी, पांच जेआरके, तीन जेआरके व 42 एनजीसी नए मास्टर प्लान में शामिल नहीं होंगे। ऐसे में अब मास्टर प्लान में शामिल किए जाने वाले चकों की संख्या कम होकर 44 रह गई है।

मास्टर प्लान में यह योजनाएं|आरओबी, फ्लाइओवर, आरयूबी, अंडरपास सबके लिए जगह तय

नए मास्टर प्लान में हनुमानगढ़ शहर का विस्तार, मेडिकल कॉलेज व अस्पताल के लिए 42 बीघा भूमि आरक्षित करने, घग्घर की चौड़ाई छह बीघा दर्शाने, शहर विस्तार विस्तार की संभावनाओं का अध्ययन, विकास को विस्तार देने के लिए महत्वपूर्ण निर्माण शहर के बाहर,सड़क यातायात व्यवस्था दुरुस्त करने, रिंग रोड आंतरिक रोड का विकास,आंतरिक यातायात की बेहतर व्यवस्था, नागरिक सुविधाओं पर फोकस,अत्याधुनिक सीवरेज सिस्टम,कचरा निष्पादन का पुख्ता प्रबंध, निर्धारित मानक पर ही रिहायशी कॉलोनियों में आवास निर्माण, व्यवस्थित वैध निर्माण, कच्ची बस्ती विकास की विशेष योजनाएं तय होंगीं।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..