Hindi News »Rajasthan »Hanumangarh» सूरतगढ़, हनुमानगढ़ और किशनपुरा वितरिका की नहरें अब होंगी पक्की

सूरतगढ़, हनुमानगढ़ और किशनपुरा वितरिका की नहरें अब होंगी पक्की

हनुमानगढ़|भाखड़ा सिंचाई प्रणाली की सूरतगढ़, हनुमानगढ़ और किशनपुरा वितरिका तीनों कच्ची नहरों को अब पक्का किया...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 12, 2018, 04:20 AM IST

हनुमानगढ़|भाखड़ा सिंचाई प्रणाली की सूरतगढ़, हनुमानगढ़ और किशनपुरा वितरिका तीनों कच्ची नहरों को अब पक्का किया जाएगा। जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप ने सोमवार को तीनों वितरिकाओं के पुनरुद्धार और आधुनिकीकरण कार्य का शिलान्यास किया।

सादुलब्रांच की आरडी 103 से 198.700 तक रिपेयर और आधुनिकीकरण का लोकार्पण किया। खास बात यह है कि सूरतगढ़़ और हनुमानगढ़ वितरिका पर छठ पूजा के लिए घाट का निर्माण भी किया जाएगा। सूरतगढ वितरिका पर घाट के साथ-साथ एक कमरे का निर्माण भी किया जाएगा। किशनपुरा वितरिका को पक्का करने का शिलान्यास करने के बाद आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जलसंसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप ने कहा कि नहर पक्की होने से पहले चार बीघा जमीन की बजाय साढ़े पांच बीघा जमीन को पानी मिल पाएगा। उन्होंने कहा कि नहर पक्का करने के काम में क्वालिटी से किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा। डॉ. रामप्रताप ने कहा कि अब ऐसी तकनीक आ गई है कि चलती नहर को पक्का किया जा सकेगा। इसमें हालांकि थोड़ी लागत तो ज्यादा है लेकिन यह कारगर बहुत रहेगी।

सिंचाई विभाग के एक्सईएन पवनकुमार शर्मा ने बताया कि भाखड़ा सिंचाई प्रणाली की सूरतगढ़ वितरिका का 29.69 करोड़ की लागत से 0 से 33.528 किमी. तक पुनरुद्धार और आधुनिकीकरण का कार्य किया जाएगा। इससे ९७९७.३२ हेक्टेयर भूमि के किसानों को फायदा मिलेगा। पक्की नहर बन जाने से पानी का लॉस भी कम होगा जिससे किसानों को पहले के मुकाबले ज्यादा पानी मिल सकेगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Hanumangarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: सूरतगढ़, हनुमानगढ़ और किशनपुरा वितरिका की नहरें अब होंगी पक्की
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Hanumangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×