पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Hanumangarh News Rajasthan News Husband And Both Daughters Are Blind Wife Murtidevi Is Running The House Doing Sewing Work She Said My Life Was Made For Them Only

पति व दोनों बेटियां नेत्रहीन, पत्नी मूर्तिदेवी सिलाई का काम कर घर चला रही, बोलीं-मेरा जीवन इन्हीं के लिए बना

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

नेत्रहीन पति व दो नेत्रहीन बच्चियों को पाल पोष पढ़ाई करवा उनका जीवन रोशन करने में जुटी है सेक्टर छह की मूर्ति देवी। 12वीं तक पढ़ी मूर्ति ने बताया कि उनके पति प्रदीपकुमार बचपन से ही नेत्रहीन है। उनकी शादी 2005 में हुई तब तक उन्हें पति के नेत्रहीन होने का पता नहीं था। मगर बाद में जब उन्हें पता चला तो उन्होंने किसी से कोई गिला शिकवा नहीं किया और भगवान पर भरोसा रखते हुए अपने पति की सेवा करने की ठानी। उनका मानना है कि जो मन में सच्चाई और जज्बा हो तो मुश्किलें आसान हो जाती हैं। इसी सोच को लेकर मूर्ति आज खुद सिलाई कर अपने पति और दो पुत्रियों को पाल रही है। कमाई का और कोई साधन नहीं है। पति नेत्रहीन होने के कारण कोई काम नहीं कर सकते और घर पर ही रहते है। मूर्ति ने बताया कि परिवार और समाज के कुछ लोगों ने दूसरी शादी की भी सलाह दी, लेकिन मूर्ति ने इस प्रस्ताव को ठुकरा पति व्रता नारी का संदेश समाज को दिया है। उन्होंने भास्कर को बताया कि प|ी का पहला धर्म पति की सेवा करना ही होता है, चाहे पति कैसा भी हो यह कुछ मायने नही रखता। मूर्ति देवी ने जटिल परिस्थतियों से हार नही मानी है। हालात का सामना करते वह अपनी भीतरी ऊर्जा की रोशनी से दो बच्चों और पति का जीवन रोशन कर रही है। मूर्ति का कहना है कि अब मुझे जीवन में कोई दिक्कत महसूस नहीं हो रही है।

शिक्षा संबल का लिया संकल्प

पति के नेत्रहीन होने के बाद घर की सारी जिम्मेदारी मूर्ति देवी के कंधों पर है। जिम्मेदारी संभालते मूर्ति अपनी दोनों बेटियों के पालन पोषण में जुटी है और उन्हें शिक्षा संबल देने का भी संकल्प लिया। बड़ी बेटी स्नेहा 5वीं कक्षा में पढ़ती है। वहीं छोटी बेटी सुहाना 3 कक्षा में पढ़ती है। वह बताती है कि पति प्रदीप कुमार जन्म से नेत्रहीन है। इस संबंध में पति प्रदीप कुमार ने नेत्रहीन की हमारी पीढ़ी चल रही है। उनकी माता कलावती देवी भी नेत्रहीन है। उनके पिता जसवंत पक्काभादवा में रहते है।
खबरें और भी हैं...