खिलाड़ियों के लिए स्टेडियम में बॉक्सिंग रिंग ही नहीं, इसलिए रोटेरी क्लब में खेल रहे

Hanumangarh News - जंक्शन स्थित रोटरी क्लब में शुक्रवार को जिला स्तरीय बॉक्सिंग प्रतियोगिता का शुभारंभ हुआ। इस प्रतियोगिता के लिए...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 08:32 AM IST
Hanumangarh News - rajasthan news there is no boxing ring in the stadium for the players so playing in the rotary club
जंक्शन स्थित रोटरी क्लब में शुक्रवार को जिला स्तरीय बॉक्सिंग प्रतियोगिता का शुभारंभ हुआ। इस प्रतियोगिता के लिए जिले भर से करीब 37 खिलाड़ियों ने भाग ले रहे हैं। चौकाने वाली बात है कि जिला मुख्यालय पर हो रही इस बॉक्सिंग प्रतियोगिता में खिलाड़ियों को बॉक्सिंग रिंग तक उपलब्ध नहीं हो सकी। ऐसे में खिलाड़ियों को खुले में ही खेलना पड़ा। यह समस्या इसलिए आती है क्योंकि जिला स्टेडियम में बॉक्सिंग रिंग की सुविधा नहीं है और ना ही पर्याप्त संसाधन हैं। ऐसे में मुक्केबाजी में रूचि रखने वालों को परेशानी होती है। कोच नहीं होने की वजह से भी खिलाड़ियों को खुद अपने स्तर पर ही प्रैक्टिस करनी पड़ती है। विभागीय स्तर पर भी इन खिलाडि़य़ों के लिए सार्थक प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। नतीजन स्थानीय स्तर पर खिलाडि़य़ों का खेलों से मोह भंग हो रहा है।

खिलाड़ी अपने ही स्तर पर करते हैं प्रैक्टिस: राजीव गांधी स्टेडियम में खिलाड़ियों के लिए कोई खास सुविधा नहीं है। बॉक्सिंग खेल के लिए जिला स्टेडियम में कोच भी नहीं है। इसीलिए खिलाड़ी अपने स्तर पर ही प्राइवेट प्रैक्टिस करते हैं। कुछ खिलाड़ी तो ऐसे भी है जो यू-ट्यूब के सहारे खेल के गुर सीखते हैं। बॉक्सरों के अनुसार उन्हें बॉल पैड, पंचेज पैड, स्पीड पैड, रिंग मैट की अभ्यास के लिए खास जरूरत है, लेकिन सरकार इस ओर ध्यान नहीं दे रही है।

ये रहे नतीजे- शुक्रवार को हुई इस प्रतियोगिता में जिले भर से 37 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया था। इसमें 49 किलो भारवर्ग में सोनू, 52 में विकास खटीक, 57 में तरुण कुमार, 60 में सुभाष चंद्र, 63 में सुरेश कुमार, 69 में विक्रम, 75 में प्रदीप सिंह, 91 में मोहन सिंह, 91 में अजय पूनिया, वहीं महिला वर्ग में 51 किलो भारवर्ग में पूनम का चयन राज्य स्तरीय प्रतियोगिता के लिए हुआ है।

आल इंडिया यूनिवर्सिटी बॉक्सर विक्रम सिंह महला ने इस मामले में बताया कि जिला स्तर पर प्रतियोगिताएं हुई लेकिन इसमें रिंग ही नहीं था। बॉक्सिंग संघ ने अपने स्तर पर जितना किया वो सराहनीय है। सरकार की तरफ से किसी भी तरीके की सहायता नहीं दी जाती। प्रैक्टिस करने के लिए ना कोच है ना ही रिंग और ना ही संसाधन। ऐसे में खिलाड़ियों का हौसला भी गिरता है। जिला स्तर पर हुई प्रतियोगिताओं में ऐसा हाल देखने को मिलेगा ऐसा सोचा नहीं था। सरकार को इस बारे में सोचना चाहिए।


X
Hanumangarh News - rajasthan news there is no boxing ring in the stadium for the players so playing in the rotary club
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना