• Home
  • Rajasthan News
  • Etawah News
  • नहरों में पानी नहीं होने से सूखने लगी फसलें, किसानों का प्रदर्शन
--Advertisement--

नहरों में पानी नहीं होने से सूखने लगी फसलें, किसानों का प्रदर्शन

भाजपा किसान मोर्चा मंडल इटावा के पदाधिकारियों ने बुधवार को किसानों की विभिन्न समस्याओं को लेकर पूर्व प्रधान...

Danik Bhaskar | Feb 02, 2018, 02:25 AM IST
भाजपा किसान मोर्चा मंडल इटावा के पदाधिकारियों ने बुधवार को किसानों की विभिन्न समस्याओं को लेकर पूर्व प्रधान मानवेंद्र सिंह के नेतृत्व में इटावा उपखंड अधिकारी संजीव कुमार शर्मा को ज्ञापन देकर समस्या निराकरण की मांग की। इटावा मंडल अध्यक्ष प्रेमकुमार सोनी ने बताया कि वर्तमान में नहरों में पर्याप्त क्षमता से पानी नहीं चल पाने के कारण किसानों की फसलें सूखने की कगार पर पहुंच चुकी हैं, इसलिए टेल क्षेत्र गेंता डिस्ट्रीब्यूटरी, लक्ष्मीपुरा डिस्ट्रीब्यूटरी, कजलिया डिस्ट्रीब्यूटरी, अठारवां टेल क्षेत्र में अविलंब नहरी पानी पहुंचाकर किसानों की फसलों के लिए पानी दिया जाए। समर्थन मूल्य पर उड़द खरीद के जिन लोगों के कूपन कटे हुए हैं, उनकी उड़द की खरीद की जाए और बंद हो रहे कांटे वापिस शुरु करवाए जाएं। साथ ही किसानों की अन्य समस्याओं के निराकरण की मांग की गई। ज्ञापन देने वालों में जिलामंत्री रमेश मीणा खरवण, खातौली मंडल अध्यक्ष रामरतन मीणा, इटावा मंडल अध्यक्ष प्रेम सोनी, उपाध्यक्ष विजेन्द्र गौतम, रामदेव सुमन, सुखपाल गुर्जर सहित कई कार्यकर्ता मौजूद रहे।

जंगली जानवर कर रहे किसानों की फसलें चौपट

सुल्तानपुर । अखिल भारतीय किसान सभा ने वन विभाग कार्यालय में धरना प्रदर्शन कर जंगली जानवरों द्वारा किसानों की चौपट फसलों का मुआवजा दिलाने की मांग की। क्षतिपूर्ति के आवेदन प्रस्तुत किए। अखिल भारतीय किसान सभा के तहसील अध्यक्ष हरीश मीणा व अखिल भारतीय किसान सभा के चतुर्भुज पहाडिय़ा ने कहा कि किसानों को जब तक न्याय नहीं मिल जाता तब तक आंदोलन जारी रहेगा। तहसील संयोजक चतुर्भुज पहाडिय़ा, मदन मोहन शर्मा, हरीश मीणा, कुंज बिहारी यादव, पूरणमल मीणा, ओम प्रकाश यादव व बाबूखां ने बताया कि क्षेत्र में जंगली जानवरों, रोझड़े सुअर, हिरन व आवारा जानवरों से किसान परेशान हैं। इस अवसर पर युवराज नागर, रामलटूर मीणा, हेमराज नागर, रामप्रसाद नागर, सूरजमल केवट, महावीर, लक्ष्मीनारायण, गिरिराज मेघवाल, धन्नालाल गोचर, बाबूलाल, हेमराज बैरवा, नंदबिहारी शर्मा, कुंजबिहारी यादव, विजय, चतुर्भुज पहाडिय़ा, पूरणमल, बाबूखां, लालचंद गुर्जर, सूरजमल, गुरुप्रसाद सहित सैकड़ों किसान मौजूद थे।

सुल्तानपुर . कस्बे के वन विभाग कार्यालय में प्रदर्शन करते किसान।

भास्कर न्यूज| इटावा

भाजपा किसान मोर्चा मंडल इटावा के पदाधिकारियों ने बुधवार को किसानों की विभिन्न समस्याओं को लेकर पूर्व प्रधान मानवेंद्र सिंह के नेतृत्व में इटावा उपखंड अधिकारी संजीव कुमार शर्मा को ज्ञापन देकर समस्या निराकरण की मांग की। इटावा मंडल अध्यक्ष प्रेमकुमार सोनी ने बताया कि वर्तमान में नहरों में पर्याप्त क्षमता से पानी नहीं चल पाने के कारण किसानों की फसलें सूखने की कगार पर पहुंच चुकी हैं, इसलिए टेल क्षेत्र गेंता डिस्ट्रीब्यूटरी, लक्ष्मीपुरा डिस्ट्रीब्यूटरी, कजलिया डिस्ट्रीब्यूटरी, अठारवां टेल क्षेत्र में अविलंब नहरी पानी पहुंचाकर किसानों की फसलों के लिए पानी दिया जाए। समर्थन मूल्य पर उड़द खरीद के जिन लोगों के कूपन कटे हुए हैं, उनकी उड़द की खरीद की जाए और बंद हो रहे कांटे वापिस शुरु करवाए जाएं। साथ ही किसानों की अन्य समस्याओं के निराकरण की मांग की गई। ज्ञापन देने वालों में जिलामंत्री रमेश मीणा खरवण, खातौली मंडल अध्यक्ष रामरतन मीणा, इटावा मंडल अध्यक्ष प्रेम सोनी, उपाध्यक्ष विजेन्द्र गौतम, रामदेव सुमन, सुखपाल गुर्जर सहित कई कार्यकर्ता मौजूद रहे।

जंगली जानवर कर रहे किसानों की फसलें चौपट

सुल्तानपुर । अखिल भारतीय किसान सभा ने वन विभाग कार्यालय में धरना प्रदर्शन कर जंगली जानवरों द्वारा किसानों की चौपट फसलों का मुआवजा दिलाने की मांग की। क्षतिपूर्ति के आवेदन प्रस्तुत किए। अखिल भारतीय किसान सभा के तहसील अध्यक्ष हरीश मीणा व अखिल भारतीय किसान सभा के चतुर्भुज पहाडिय़ा ने कहा कि किसानों को जब तक न्याय नहीं मिल जाता तब तक आंदोलन जारी रहेगा। तहसील संयोजक चतुर्भुज पहाडिय़ा, मदन मोहन शर्मा, हरीश मीणा, कुंज बिहारी यादव, पूरणमल मीणा, ओम प्रकाश यादव व बाबूखां ने बताया कि क्षेत्र में जंगली जानवरों, रोझड़े सुअर, हिरन व आवारा जानवरों से किसान परेशान हैं। इस अवसर पर युवराज नागर, रामलटूर मीणा, हेमराज नागर, रामप्रसाद नागर, सूरजमल केवट, महावीर, लक्ष्मीनारायण, गिरिराज मेघवाल, धन्नालाल गोचर, बाबूलाल, हेमराज बैरवा, नंदबिहारी शर्मा, कुंजबिहारी यादव, विजय, चतुर्भुज पहाडिय़ा, पूरणमल, बाबूखां, लालचंद गुर्जर, सूरजमल, गुरुप्रसाद सहित सैकड़ों किसान मौजूद थे।