इटावाह

--Advertisement--

अजर-अमर, अंतर्यामी हंै परमात्मा: श्वेता दीदी

कैथून. अरण्डखेडा़ में प्रवचन देती श्वेता दीदी। भास्कर न्यूज | कैथून अरण्डखेड़ा के श्री रघुनाथ मंदिर परिसर में...

Dainik Bhaskar

Mar 29, 2018, 02:50 AM IST
अजर-अमर, अंतर्यामी हंै परमात्मा: श्वेता दीदी
कैथून. अरण्डखेडा़ में प्रवचन देती श्वेता दीदी।

भास्कर न्यूज | कैथून

अरण्डखेड़ा के श्री रघुनाथ मंदिर परिसर में मंगलवार सायं 7 से 8 बजे तक प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के तत्वावधान में चल रहे सत्संग में श्वेता दीदी ने ज्ञान की मुरली सुनाई।

इस अवसर पर दीदी ने कहा कि जो अजर अमर है, अंतर्यामी है, वही परम पिता परमात्मा है, मनुष्य जीवन झाड़ की तरह है, मनुष्य जैसा कर्म करता वैसा फल भोगता है। मैं कौन हूं, जब तक शरीर में आत्मा रहती है, तब तक शरीर कार्य करता है। आत्मा के तीन बिंदु हैं मन, बुद्धि, संस्कार। मनुष्य स्वयं को जान कर मन को वश में रख कर भगवान का स्मरण करे तो वह ईश्वर को प्राप्त कर सकता है।

X
अजर-अमर, अंतर्यामी हंै परमात्मा: श्वेता दीदी
Click to listen..