इटावाह

--Advertisement--

मरम्मत के अभाव में कालीसिंध पर बना एनीकट टूटने के कगार पर

इटावा. सरकार जल संग्रहण व पानी को बचाने के लिए करोड़ों रुपए की योजनाएं बनाकर कार्य कर रही है। लेकिन प्रशासन की...

Dainik Bhaskar

Feb 18, 2018, 03:05 AM IST
मरम्मत के अभाव में कालीसिंध पर बना एनीकट टूटने के कगार पर
इटावा. सरकार जल संग्रहण व पानी को बचाने के लिए करोड़ों रुपए की योजनाएं बनाकर कार्य कर रही है। लेकिन प्रशासन की अनदेखी के चलते कोटा जिले के इटावा उपखंड क्षेत्र में ढ़ीपरी व बड़ौद के यहां कालीसिंध नदी पर बना एनिकट लंबे समय अरसे से मरम्मत नहींं होने के कारण जर्जर व क्षतिग्रस्त हो गया है।

प्रशासन ने इस एनिकट की सार संभाल तक नही ली है। इसके चलते मरम्मत के अभाव में अब एनिकट टूटने के कगार पर खड़ा है। इससे कालीसिंध नदी में हर वर्ष संग्रहण होने वाला लाखों गैलन पानी व्यर्थ बह जाता है। तथा इससे जहां भूमिगत जल स्तर में भी गिरावट आती है। इस एनिकट को बचाने को लेकर सरकार व प्रशासन प्रयासरत नजर नहीं आ रहे है। इसके चलते इससे जुड़े सैकड़ों गांवों के लोग भी इसको लेकर चिंतित है।

कालीसिंध नदी में ढ़ीपरी के यहां नई पुलिया निर्मित हो गई थी। इसके बाद पूर्व सरकार ने इस नदी में पुरानी पुलिया के मोखों को बंद कर इसको एनिकट बना दिया। इसके बनने के बाद से सीसवाली, बड़ौद व ढ़ीपरी कालीसिंध सहित इनसे सैकड़ों गांवों में पानी का भूमिगत स्तर काफी नीचे था। इस एनिकट बनने के बाद अब भूमिगत जल स्तर बढ़ने से लोगों को काफी राहत मिली है। लेकिन जल्द ही क्षतिग्रस्त एनिकट की मरम्मत नहीं हुई तो यह पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त हो जाएगा।

इटावा. कालीसिंध नदी के जर्जर एनीकट से बहता पानी।

X
मरम्मत के अभाव में कालीसिंध पर बना एनीकट टूटने के कगार पर
Click to listen..