• Home
  • Rajasthan News
  • Etawah News
  • पेयजल योजना में देरी से नाराज ग्रामीणों का उपतहसील कार्यालय पर धरना
--Advertisement--

पेयजल योजना में देरी से नाराज ग्रामीणों का उपतहसील कार्यालय पर धरना

कस्बे में बाेराबास व मंडाना पेयजल योजना में देरी होने के कारण पूर्व प्रधान कान्ति गुर्जर के नेतृत्व में उपतहसील...

Danik Bhaskar | Mar 10, 2018, 04:20 AM IST
कस्बे में बाेराबास व मंडाना पेयजल योजना में देरी होने के कारण पूर्व प्रधान कान्ति गुर्जर के नेतृत्व में उपतहसील कार्यालय पर धरना प्रदर्शन किया गया। तहसील परिसर में मोहन यादव सहित कई वक्ताओं ने ग्रामीणों को सम्बोधित किया। बाद में कलेक्टर के नाम ज्ञापन के लिए कार्यालय पहुंचे तो वहां पर ज्ञापन लेने वाला कोई भी अधिकारी नहीं था। 1 बजे तक कोई भी जिम्मेदार अधिकारी तहसील मुख्याल्य पर कोई नहीं था। ग्रामीण नायब तहसीलदार जगदीश गहलोत को बुलाने के लिए अड़ गए और कार्यालय के सामने बैठ गए।

एक घंटे बाद नायब तहसीलदार आए तो लोगों ने उनको घेर लिया तथा खरी-खाेटी सुनाई। 31 मार्च तक पानी आने का आश्वासन दिया तब जाकर ग्रामीण शांत हुए। गुर्जर ने बताया कि बोराबास मंडाना पेयजल योजना 2012 से निर्माणधीन है 2014 में जल देने का ल्क्ष्य निधारित था, 31 मार्च तक योजना से पेयजल नहीं मिला तो जनता सडको़ पर उतरकर उग्र आंदोलन करेगी, जिसकी जिम्मेदारी प्रशासन व सरकार की होगी। इस अवसर पर गीता बाई, नन्दुबाई, हिम्मतबाई, ग्यारसी बाई, भगवती बाई, मोहन यादव, देवलाल मीणा, नारू भील, महेन्द्र सिंह, बनवारी शर्मा, रमेश शर्मा, धन्नालाल सुमन, प्रविण श्रंगी, लटुर, अजगर, दुर्गा मीणा, दिनेश राठौर व सुरेश मीणा सहित कई लोगों ने भाग लिया।

मंडाना. कस्बे में बोराबांस-मंडाना पेयजल योजना में देरी को लेकर धरना-प्रदर्शन करते ग्रामीण।

किसानों की समस्याओं को लेकर भेजा ज्ञापन

इटावा| भारतीय किसान संघ तहसील पीपल्दा के कार्यकर्ताओं ने किसानों की विभिन्न समस्याओं को लेकर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भेजकर समस्या निराकरण की मांग की। तहसील अध्यक्ष रमेशचंद ने बताया कि ज्ञापन में इटावा ब्रांच केनाल में पर्याप्त पानी चलाने, चना व सरसों के खरीद केंद्र खातौली मुख्यालय पर खोलने, तहसील में पड़त रही जमीनों का सर्वे कर किसानों को मुआवजा देने, प्रत्येक पंचायत पर गौशाला खोलने, उड़द की बकाया जिंस का भुगतान करने, खातौली उपतहसील में नायब तहसीलदार की नियुक्ति करने, मध्यप्रदेश सरकार की तर्ज पर भावांतर योजना लागू करने, इटावा में सहायक कृषि अधिकारी का कार्यालय खोलने, इटावा में मृदा परीक्षण प्रयोगशाला खोलने, इटावा कृषि उपज मंडी में धर्मकांटा खोलने, वन्यजीवों से फसलों की सुरक्षा के लिए तारबंदी पर अनुदान देने, लंबित कृषि कनेक्शन जारी करने, ड्रेनेज की खुदाई करवाने,चंबल नदी पर दैलोद गांव के पास चेकडेम बनाने, अठारवां क्षेत्र की भूमि का समतलीकरण करवाने व स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने की मांग की। इस दौरान रामगोपाल मीणा, घनश्याम चौधरी, रामेश्वर मीणा, रामनारायण मीणा, शौभाग सुमन, एडवोकेट छोटूलाल जाटवा, इंद्रकुमार मीणा, एडवोकेट सत्यनारायण मीणा, रामावतार मीणा, महावीर मीणा सहित कई सदस्य मौजूद रहे।