• Home
  • Rajasthan News
  • Etawah News
  • सिंचाई के अभाव में फसलें सूखी, तीन दिन में नहीं मिला पानी तो किसान करेंगे हाइवे जाम
--Advertisement--

सिंचाई के अभाव में फसलें सूखी, तीन दिन में नहीं मिला पानी तो किसान करेंगे हाइवे जाम

फसलों की बुवाई को 50 दिन बीतने के बाद भी एक बार भी नहरी पानी नही मिलने से आक्रोशित किसानो ने प्रदर्शन की चेतावनी दी...

Danik Bhaskar | Feb 15, 2018, 04:35 AM IST
फसलों की बुवाई को 50 दिन बीतने के बाद भी एक बार भी नहरी पानी नही मिलने से आक्रोशित किसानो ने प्रदर्शन की चेतावनी दी है। झोटोली टेल क्षेत्र पर किसानों की जल वितरण समिति अध्यक्ष घासीलाल गुर्जर के नेतृत्व में बैठक हुई। बैठक मे जल उपयोक्ता संगम समिति अध्यक्ष हनोतिया कृष्णकुमार शर्मा ने भी हिस्सा लिया। बैठक मे किसानों ने प्रशासन व सीएडी विभाग की लापरवाही पर गहरा रोष व्यक्त किया। इस मौके पर किसान ब्रहानन्द शर्मा,बद्रीलाल गौतम व निजाम अंसारी समेत कई किसानों ने कहा कि टेल क्षेत्र मे 50 दिन फसल बुवाई को होने के बाद भी अभी तक पानी नही मिल पाने से फसलें सूखने लगी हैं। प्रशासन द्वारा 10 फरवरी को पानी पहुंचाने का आश्वासन दिया था, लेकिन पानी पहुंचना तो दूर इस दरम्यान किसी ने आकर नहरों की सुध नहीं ली। सीएडी विभाग द्वारा पानी पहुंचाने को लेकर कोई गंभीरता दिखाई जा रही है ।

तीन दिन मंे पानी नहीं तो करेंंगे भूख हड़ताल

यहां किसान गिरिराज,चन्द्रप्रकाश दाधीच व कृष्णकुमार आदि ने बताया कि कई बार अवगत करवाने के बाद भी सीएडी विभाग व प्रशासन अधिकारियो ने एक बार भी आकर सुध तक नहीं ली। ऐसे मे जहां पानी नहीं मिलने से हजारों बीघा के खेत पड़त रह गए। वहीं बची हुई गंगूह व चने की फसल भी सूखने लगी है। ऐसे मे यदि तीन दिन मे नहरी पानी नहीं पहुंचाया गया तो किसान स्टेट हाईवे पर चक्काजाम करेंगे।

9-सुल्तानपुर क्षेत्र के झोटोली टेल पर नहरी पानी के अभाव मंे सूखी फसल दिखाते किसान।

नहरों में 60 की जगह 30 सेमी गेज का प्रवाह, टेल तक नहीं पहुंच रहा पानी

इटावा| क्षेत्र की नहरों की कई वितरिकाओं में एक माह से पूर्ण क्षमता से नहरी पानी नही पहुंच पाने के चलते वितरिकाएं सूखी पड़ी हुई हैं। इससे क्षेत्र में गेंहू, धनिए व मैथी की फसल में सिंचाई नही हो पा रही है। किसान फसल बचाने के लिए महंगा डीजल जलाकर ट्यूबवैलों से सिंचाई कर रहे हैं। तो कई किसान कैनाल में कम जलप्रवाह के कारण नहरों पर इंजन रखकर पानी लेने को मजबूर हैं। इटावा ब्रांच केनाल के फतेहपुर फाल पर पानी का 60 सेमी का गेज चलना चाहिए लेकिन पिछले एक पखवाड़े से केवल 30 से 40 सेमी का ही गेज चल रहा है। जिससे क्षेत्र की नहरों में नाम मात्र का पानी का प्रवाह होने से माइनरों तक भी ईबीसी का पानी नहीं पहुंच रहा हैं जिससे धोरे तक भी सूखे पड़े हुए हैं। इस बारे में इस बारे में विभाग के एक्सईएन देवराज शर्मा ने बताया कि इटावा ब्रांच केनाल में रोटेशन से पानी दिया जा रहा हैं व नहरों में पानी का प्रवाह बढ़ाया जा रहा है।

इटावा. पानी नहीं पहुंचने से टेल क्षेत्र में सूखी पड़ी नहर।

खाड़ी मे बह रहा नहरी पानी

किसान नरेन्द्र दाधीच,श्याम शर्मा व सत्यप्रकाश गौतम ने बताया कि हेड क्षेत्र के किसान खेतों मे पानी पिलाकर धोरे क ो खुला ही छोड़ देते है जिसके चलते नहरो का पानी व्यर्थ ही खाड़ी व नालो मे बहता रहता है लेकिन सीएडी विभाग द्वारा सख्ती नही की जाती। इसके साथ ही जब टेल क्षेत्र के किसान पानी मांग करते है तो रोटेशन प्रणाली का बहाना लगाकर बात को टाल देते है ऐसे मे हर वर्ष टेल क्षेत्र मे पानी को लेकर काफी परेशानी उठानी पड़ रही है

सीएडी पर लापरवाही का आरोप


पानी के अभाव में सूखने लगी हैं फसलें

किसान केसरीलाल नागर, रामप्रसाद मीणा, सांवला नागर, धन्नालाल मीणा,चंद्रप्रकाश मीणा,रामफूल नागर सहित कई किसानों ने बताया कि गेहूं की फसल दो माह की होने को आ रही हैं, लेकिन अभी तक फसलों में दूसरा नहर का पानी नही मिल पा रहा, जिससे फसलें सूखने के कगार पर पहुंच गई हैं। हालात यह हैं कि पानी नही मिलने से खेतों में दरारेें आने लग गई हैं और गेहूं की फसल में पीलापन आने लग गया हैं।