• Home
  • Rajasthan News
  • Etawah News
  • नए बस स्टैंड पर सुविधाओं के बाद भी नहीं हो रहा बसों का ठहराव
--Advertisement--

नए बस स्टैंड पर सुविधाओं के बाद भी नहीं हो रहा बसों का ठहराव

नगर में सरकार द्वारा 15 वर्ष पूर्व कोटा रोड पर लाखों रुपए की राशि खर्च कर यात्रियों की सुविधायुक्त नवीन बस स्टैंड...

Danik Bhaskar | May 14, 2018, 02:55 AM IST
नगर में सरकार द्वारा 15 वर्ष पूर्व कोटा रोड पर लाखों रुपए की राशि खर्च कर यात्रियों की सुविधायुक्त नवीन बस स्टैंड निर्माण करवाया था। लेकिन 15 वर्ष बाद भी बस स्टैंड पर नियमित रूप से बसों का ठहराव नहींं किए जाने के कारण यह बस स्टैंड वीरान पड़ा है। जहां नगरपालिका द्वारा बसों के ठहराव के निर्णय के बाद यहां पर 25 लाख की लागत से आधुनिक शौचालय का भी यात्रियों की सुविधा के लिए निर्माण करा चुकी हैं।

आगार प्रबंधक इस बस स्टैंड का उपयोग नहीं लेकर बसों का ठहराव नही कर रहें। इससे यह बस स्टैंड असामाजिक तत्वों का डेरा बनता जा रहा हैं । वहीं कई लोग तो बस स्टैंड पर लगें सामानों को भी खोलकर ले जा रहे हैं।

गत वर्ष नगरपालिका द्वारा यहां पर यात्रियों की सुविधा के लिए आधुनिक शौचालय के साथ यात्री प्रतीक्षालय और अन्य निर्माण कार्यों पर लाखों रुपए की राशि खर्च कर बस स्टेंड की दशा सुधारी थी। उसके बाद करीब एक - डेढ़ महीने बसों का ठहराव नवीन बस स्टैंड पर हुआ था लेकिन उसके बाद आगार ने वापस पुराने बस स्टैंड पर ही बसों का ठहराव शुरू कर दिया। नगरपालिका बोर्ड में कई बार प्रस्ताव लिए जा चुके हैं लेकिन आगार प्रबंधक की उदासीनता के चलते नवीन बस स्टेंड पर बसों का ठहराव नहीं हो रहा हैं।

पुराने बस स्टैंड पर है अव्यवस्थाएं

नगर में पुराने बस स्टैंड पर नगर की बढ़ती आबादी व यात्रियों के बढ़ते दबाव के बाद छोटा पड़ता जा रहा है वहीं इसके अलावा इस पर अव्यवस्थाओं के चलते यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है । अधिशाषी अधिकारी, नगरपालिका प्रवीण शर्मा ने बताया कि नवीन बस स्टेंड पर नगरपालिका द्वारा आधुनिक शौचालय सुविधा उपलब्ध करा दी हैं । अभी कार्यभार संभाला हैं जल्द ही आगार प्रबंधक कोटा को पत्र लिखकर बसों के ठहराव की व्यवस्था करवाने के प्रयास किए जाएंगें

हालात

इटावा के नए बस स्टैंड पर बसों का संचालन नहीं होने से वीरान पड़ा, पुराने पर अव्यवस्थाओं का बोलबाला

इटावा. नवीन बस स्टैंड पर बसों का संचालन नहीं होने से वीरान पड़ा बस स्टैंड।