Hindi News »Rajasthan »Itawah» दो समाजों के विवाह सम्मेलनों में 52 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे

दो समाजों के विवाह सम्मेलनों में 52 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे

एक तरफ चेहरे पर बेटी की डोली उठने पर खुशी थी तो दूसरी ओर बेटी के बिछुड़ने का गम आंखों में आंसू के रूप में झलक रहा था।...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 13, 2018, 03:30 AM IST

  • दो समाजों के विवाह सम्मेलनों में 52 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे
    +1और स्लाइड देखें
    एक तरफ चेहरे पर बेटी की डोली उठने पर खुशी थी तो दूसरी ओर बेटी के बिछुड़ने का गम आंखों में आंसू के रूप में झलक रहा था। बाबुल से बेटी की भावनात्मक विदाई का नजारा यहां शनिवार को आयोजित माली व बैरवा समाज के सामूहिक विवाह सम्मेलनों में देखने को मिला।

    आवां में श्री गणेश नवयुवक मंडल के तत्वावधान में आयोजित माली समाज के सम्मेलन में शनिवार तड़के 10 जोड़े परिणय सूत्र के बंधन में बंधे। शुक्रवार शाम को आए वर वधुओं के परिजन देर रात तक मांगलिक रस्मों में व्यस्त दिखाई दिए। सभी ने अग्नि को साक्षी मानकर सात वचनों के बाद सात फेरे लिए। समिति की ओर से सभी जोड़ों को गृहस्थी के सामान उपहार में दिए गए। दूधियाखेडी माताजी मंदिर परिसर में आयोजित बैरवा समाज के विवाह सम्मेलन में शनिवार को 42 जोड़े परिणय सूत्र से आबद्ध हुए। भीषण गर्मी के बावजूद भी यहां दिनभर उत्सव का माहौल बना रहा। आयोजन स्थल के हर तरफ दूल्हा और दुल्हनों के ताबीदार नजर आए। एक ओर जहां टेन्टों में बैठे मित्र दूल्हे को सजाते रहे तो दूसरी ओर दुल्हन की साखियां भी दुल्हन का श्रृंगार करने में व्यस्त दिखाई दी। तोरण मारने की रस्म के बाद वरमाला हुई फिर सभी दूल्हा दुल्हनें पांडाल में पहुंचे। जहां आचार्यों ने उनका परंपरागत रिवाज से पाणिग्रहण संस्कार करवाया।

    अपनों को ढूंढते रहे परिजन

    दूधियाखेडी माताजी मंदिर अहाते में आयोजित बैरवा समाज के विवाह सम्मेलन में 45 जोड़े होने के कारण रिश्तेदार अपने परिजनों तलाशते रहे। उन्हें सम्बन्धित दूल्हे व दुल्हनों के टेन्टो को ढूंढने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। विवाह सम्मेलन का पांडाल इतना बड़ा था कि उसमें आने वाले मेहमानों व परिजनों को अपने जोड़ों के टेंट ढूंढने में ही काफी समय गंवाना पड़ा। अधिक भीड़ के चलते बच्चे इधर उधर होने पर मंच से बार बार उनके गुम होने की उद्घोषणा करवाई जा रही थी। दूसरी ओर देवली कनवास सड़क मार्ग पर वाहनों की रेलमपेल दिखाई दे रही थी।

    विवाह सम्मेलन सामाजिक एकता को बढ़ाते हैं: नागर

    इटावा . बाबुल से बेटी की भावनात्मक विदाई का नजारा गैंता में नागर धाकड़ समाज के सामूहिक विवाह सम्मेलन में देखने को मिला। सम्मेलन में मुख्य अतिथि अखिल भारतीय धाकड़ महासभा राष्ट्रीय मंत्री हेमंत नागर अंताना, पूर्व विधायक प्रेमचंद नागर, पूर्व प्रधान विजय शंकर नागर, मुकेश कुदालिया थे। इस दौरान नागर ने वर वधु को आशीर्वाद देते हुए कहा कि विवाह सम्मेलन खर्चीली शादियों को रोककर समाज को नई दिशा प्रदान करता है तथा यह विवाह सम्मेलन सामाजिक एकता को बढ़ाते हैं व समाज एक सूत्र में बंधता है। इस मौके पर समाज की ओर से अतिथियों का सम्मान किया गया। इस सामूहिक विवाह सम्मेलन में 22 जोड़े विवाह बंधन में बंधे। सामूहिक विवाह सम्मेलन में सुबह से ही जोड़ो का आना प्रारंंभ हो गए थे व गर्मी के तीखे तेवर के बावजूद सम्मेलन में काफी चहल-पहल नजर आई।

    इटावा . गेंता में धाकड़ समाज के सामूहिक विवाह सम्मलेन में परिणय सूत्र में बंधते जोड़े।

    देवली मांजी . आवां में माली समाज के सम्मेलन में अग्नि के समक्ष फेरे लेते वर-वधू।

  • दो समाजों के विवाह सम्मेलनों में 52 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Etawah News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: दो समाजों के विवाह सम्मेलनों में 52 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Itawah

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×