जहाजपुर

--Advertisement--

सरकारी भवन हुए खंडहर, कार्यालय चल रहे किराए के मकानों में

कोटड़ी| विभागीय अनदेखी के चलते उपखंड मुख्यालय पर लाखों रुपए की लागत से बने राजकीय कार्यालयों एवं भवन खंडहर में बदल...

Dainik Bhaskar

Jul 02, 2018, 02:55 AM IST
सरकारी भवन हुए खंडहर, कार्यालय चल रहे किराए के मकानों में
कोटड़ी| विभागीय अनदेखी के चलते उपखंड मुख्यालय पर लाखों रुपए की लागत से बने राजकीय कार्यालयों एवं भवन खंडहर में बदल गए हैं। टेलीफोन एक्सचेंज मार्ग पर बने क्वार्टर, वाटर शेड के क्वार्टर, वाटर शेड कार्यालय, मोक्षधाम मार्ग पर बना प्राथमिक विद्यालय भवन बरसों से बंद है।

इनकी खिड़कियां, दरवाजे व अन्य सामान चोरी हो रहा है। कुछ भवन तो खोलपुरा के लोग शौचालय के रूप में इस्तेमाल करते हैं। कुछ स्थानों पर शाम को समाजकंटकों को अड्डा लग जाता है जो शराब पार्टी करते हैं। कृषि विभाग का एक गोदाम व क्वार्टर उपखंड कार्यालय के सामने हैं। इसका भी एक भाग कचरा घर बन गया है। इस क्वार्टर की चारदीवारी गिर गई। जिसके चलते आसपास के लोग वहां कचरा डाल जाते हैं। इस कचरे से दुर्गंध फैल रही है। इस गोदाम के दरवाजे के दोनों तरफ केबिन लगा दी गई। इनके पीछे भवन दिखाई भी नहीं देता

किराए में चल रहे सरकारी कार्यालय

एक तरफ कस्बे में कई सरकारी भवन खंडहर हैं। जबकि महिला बाल विकास का कार्यालय बरसों से किराए के भवन में है। जहाजपुर मार्ग पर स्थिति कृषि उपज मंडी में राजकीय खरीद के समय ही कार्य होता है। अन्यथा यह बंद पडी़ रहती है। बंद रहने के दौरान यहां भी चोरी होती है। वर्ष 1980 के दशक में बनी इस मंडी के भवन निर्माण पर उस समय लाखों रुपए लगे थे।

X
सरकारी भवन हुए खंडहर, कार्यालय चल रहे किराए के मकानों में
Click to listen..