जयपुर / 10 हफ्ते, 10 बजे और 10 मिनट, फॉर्मूले से डेंगू मरीजों की संख्या 15 हजार से घटाकर 500 पर ले आई दिल्ली

फाइल। फाइल।
X
फाइल।फाइल।

  • डेंगू नियंत्रण का कैंपेन चलाने में दिल्ली का प्लान देश के लिए नजीर बना
  • दूसरी तरफ दिल्ली है, वहां 2015 में डेंगू के मरीज 15 हजार 837 हो गए थे

दैनिक भास्कर

Nov 03, 2019, 08:39 AM IST

जयपुर (डूंगरसिंह राजपुरोहित). डेंगू नियंत्रण का कैंपेन चलाने में दिल्ली का प्लान देश के लिए नजीर बन गया है। डेंगू का सीजन आने और लार्वा पनपने से पहले ही एक सितंबर से 10 हफ्ते, 10 बजे और 10 मिनट प्रोग्राम चला दिल्ली ने डेंगू पर 80 फीसदी कंट्रोल कर दिया। लेकिन राजस्थान सोया रहा। डेंगू इस समय परवान पर है लेकिन अभी तक महकमे के अफसर कह रहे हैं कि लार्वा मारने की पायरेथ्रम फोकल स्प्रे मशीनें ही नहीं हैं।

 

उल्टा प्रशासन लोगों को डरा रहा है कि उनके घर लार्वा पाया गया तो 500 रुपए का चालान कटेगा। प्रदेश में डेंगू के रोगी 7 हजार के पार पहुंच चुके हैं। 2200 के करीब जयपुर में आॅन रिकार्ड हैं। दूसरी तरफ दिल्ली है, वहां 2015 में डेंगू के मरीज 15 हजार 837 हो गए थे। जबकि इस बार जनप्रिय डेंगू कंट्रोल अभियान 10 सप्ताह, 10 बजे, 10 मिनट के कारण 467 मरीज ही सामने आए हैं। 

 

लिस्ट

 

राजस्थान में 2014 तक देश में सबसे कम डेंगू रोगी थे, 2015 से बढ़ने लगे
राजस्थान में डेंगू लार्वा के लिए मुफीद तापमान के बावजूद 2014 तक देश में सबसे कम डेंगू रोगी पाए जाते थे। लेकिन 2015 से लार्वा कंट्रोल के प्रति लापरवाही और बारिश की मात्रा बढ़ने से रोगियों की संख्या बेतहाशा बढ़ रही है। 2014 तक प्रति दस लाख आबादी पर औसतन 14 रोगी पाए जाते थे, लेकिन इस बार जयपुर में ही यह संख्या प्रति दस लाख 800 डेंगू रोगी से ज्यादा हो गई है। 2014 तक देश में केरल में प्रति दस लाख पर 50 रोगी, पंजाब में 44, हरियाणा में 21, गुजरात में 16 रोगी का औसत था। अब सबसे आगे राजस्थान हो गया है। -(मौसम विभाग दिल्ली के एक रिसर्च के अनुसार) 

 

 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना